पंचांग के अनुसार, आषाढ़ हिंदू कैलेंडर का चौथा महीना होता है, आषाढ़ माह में आएंगे ये प्रमुख व्रत-त्योहार

खबर शेयर करें

समाचार सच, अध्यात्म डेस्क। हिंदू धर्म में सभी महीनों की तरह ही आषाढ़ माह का भी विशेष महत्व बताया गया है। पंचांग के अनुसार, आषाढ़ हिंदू कैलेंडर का चौथा महीना होता है। मान्यताओं के मुताबिक सभी महीनों के नाम नक्षत्रों पर आधारित होते हैं। हर महीने की पूर्णिमा को चंद्रमा जिस नक्षत्र में होता है, उस महीने का नाम उसी नक्षत्र के नाम पर रखा गया है। आषाढ़ नाम भी पूर्वाषाढ़ा और उत्तराषाढ़ा नक्षत्र पर आधारित है. आषाढ़ महीने की पूर्णिमा को चंद्रमा इन्हीं दो नक्षत्रों में से किसी एक नक्षत्र में रहता है, इसलिए इसे आषाढ़ का महीना कहा गया है।

यह भी पढ़ें -   युवा उद्यमियों को आत्मनिर्भर बनाने को दी सरकारी योजनाओं की जानकारियां

कब से शुरू हो रहा है आषाढ़ माह 2024?
आषाढ़ माह की शुरुआत 22 जून 2024 से हो रही है और इस महीने की समाप्ति 21 जुलाई 2024 को होगी. आषाढ़ माह में ही भव्य पुरी जगन्नाथ यात्रा निकाली जाती है। इसके अलावा गुप्त नवरात्रि, योगिनी एकादशी से लेकर देवशयनी एकादशी तक, इस माह में कई खास व्रत त्योहार आएंगे। ऐसे में आइए जानते हैं आषाढ़ महीने के प्रमुख व्रत-त्योहार कौन से हैं और इस माह में किन नियमों का पालन करना चाहिए।

आषाढ़ माह 2024 व्रत-त्योहार लिस्ट
2 जुलाई 2024 मंगलवार- योगिनी एकादशी
3 जुलाई 2024 बुधवार- प्रदोष व्रत
4 जुलाई 2024 गुरुवार- मासिक शिवरात्रि
5 जुलाई 2024 शुक्रवार – आषाढ़ अमावस्या
6 जुलाई 2024 शनिवार – आषाढ़ गुप्त नवरात्रि
7 जुलाई 2024 रविवार – जगन्नाथ रथयात्रा
9 जुलाई 2024 मंगलवार – विनायक चतुर्थी
17 जुलाई 2024 बुधवार – देवशयनी एकादशी
19 जुलाई 2024 शुक्रवार – प्रदोष व्रत
20 जुलाई 2024 शनिवार – कोकिला व्रत
21 जुलाई 2024 रविवार – गुरु पूर्णिमा, व्यास पूर्णिमा

यह भी पढ़ें -   युवा वैश्य महासभा हल्द्वानी के अतुल जायसवाल अध्यक्ष तथा कपिल अग्रहरि बने महामंत्री

आषाढ़ माह के नियम

  • आषाढ़ माह में रोजाना सुबह जल्दी उठकर सूर्यदेव को जल अर्पित करना चाहिए।
  • आषाढ़ मास में गरीब और जरूरतमंदों को अन्न, धन, कपड़े और छाते का दान करना चाहिए।
  • आषाढ़ के महीने में रोजाना ‘ऊँ नमः शिवाय’, ‘ऊँ नमो भगवते वासुदेवाय’, ‘ऊँ रामदूताय नमः’, ‘ऊँ रां – रामाय नमः’, ‘कृं कृष्णाय नमः’, मंत्र का जाप करें।
  • इस माह में गुरु पूर्णिमा पड़ती है, ऐसे में आषाढ़ में गुरुजनों का सम्मान करें. गुरुजनों की पूजा से जीवन में सुख-समृद्धि आती है।
  • आषाढ़ मास में तामसिक चीजों (मांस-मदिरा, नशीले पदार्थ) का सेवन बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए।
  • आषाढ़ माह में पत्तेदार सब्जियां और तेल वाली चीजों से बचना चाहिए।
Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440