Sakaratmak

लाइफ में खुद को हमेशा सकारात्मक रखें

खबर शेयर करें

समाचार सच, स्वास्थ्य डेस्क। हमारा अपने जीवन में हमेशा पॉजिटिव रहना बहुत जरूरी है क्योंकि लाइफ के इस भागदौड़ में बुरा वक्त का आना तय है। आप चाहो या न चाहो पर बुरा वक्त आ ही जाता है. इसलिए बुरे वक्त से खुद को दूर रखने और इससे लड़ने के लिए जरूरी है की आप हमेशा पॉजिटिव रहे।
1-सादा जीवन उच्च विचार
आपको सकारात्मक रहने के लिए “सादा जीवन- उच्च विचार” के सिद्धांत पर चलना चाहिए। इस सिद्धांत को महात्मा गांधी ने अपनाया था। जो लोग अपना जीवन सादे प्रकार से जीते हैं, वह हमेशा खुश रहते हैं और हमेशा पॉजिटिव महसूस करते हैं।
2- अपने से छोटे आदमी को देखिए –
कई बार हम अच्छी खासी जिंदगी जी रहे होते हैं। उसके बावजूद भी हम अपने से बड़े लोगों को देखते हैं। उनके रुपए पैसे, बंगले, गाड़ी को देखकर मन ही मन दुखी होते हैं और सोचते हैं कि हम तो बहुत गरीब हैं। पर क्या आपने कभी अपने से छोटे आदमी को देखा है।
3- नकारात्मक सोच वाले लोगों से दूर रहें –
आपको जिंदगी में ऐसे बहुत से लोग मिल जाएंगे जो सुबह से शाम तक नेगेटिव बात करते हैं, हमेशा बुरा ही सोचते हैं। आपको ऐसे लोगों से दूर रहना चाहिए। आपको उन लोगों को दोस्त बनाना चाहिए जो हमेशा खुश रहते हैं और अच्छी बातें करते हैं।
4- योगा करें, ध्यान लगाएं –
आपको जीवन में सकारात्मक महसूस करने के लिए योगा एण्ड मेडिटेशन करना चाहिए। इसके साथ ही आपको एक्सरसाइज भी करना चाहिए। यह सभी प्रतिक्रिया हमारे मस्तिष्क के तनाव स्ट्रेस को दूर करती है।
जब आप तनाव मुक्त हो जाते हैं तो आपके मन में अच्छे अच्छे विचार आते हैं और आप बेहतर जिंदगी के बारे में सोचते हैं। पॉजिटिव महसूस करते हैं। आजकल योगा और मेडिटेशन के सेंटर हर छोटे- बड़े शहरों में उपलब्ध है। वहां जाकर आप इसे कर सकते हैं।
5- नेकी करें, गरीब लोगों की मदद करें, दान करें –
जब भी आप जीवन में नकारात्मक महसूस कर रहे हो उस समय आपको एक अच्छा काम करना चाहिए किसी गरीब को खाना खिला देना, किसी गरीब को कपड़े दे देना, किसी परेशान आदमी की मदद कर देना, दान करना। जब आप इस तरह के अच्छे, नेकी के काम करते हैं तो आप अंदर से सकारात्मक महसूस करते हैं।
6- अच्छी नींद लें –
6 से 8 घंटे की नींद को अच्छा माना जाता है। यदि आप अच्छी नींद देते हैं तो आपको दिन में काम करते समय आलस नहीं आता है। आपके अंदर ऊर्जा बनी रहती है और आप हमेशा पॉजिटिव महसूस करते हैं।
7-आभारी होना
आपको कृतज्ञ बनना चाहिए। आपको दूसरों को “शुक्रिया” बोलना चाहिए। हमें जीवन में ऐसी बहुत सी चीजें मिली है जो कई लोगों के पास नहीं है। इसके बावजूद भी हम कभी किसी को शुक्रिया नहीं बोलते हैं। प्रकृति ने हमें बहुत कुछ दिया है।
8- अतीत के बारे में ना सोचें, वर्तमान पर ध्यान दें –
बहुत से लोग अतीत में खोए रहते हैं। अपने साथ हुई बुरी बातों को याद करते हुए अपना वर्तमान समय भी बर्बाद कर लेते हैं। बहुत से लोगों के साथ ऐसा होता है। यदि आप अतीत में खोए रहेंगे तो कभी भी सफल नहीं हो पाएंगे। इसलिए यह बेहतर होगा कि आप वर्तमान पर ज्यादा ध्यान दें। अतीत में आपके साथ जो बुरा हुआ उसके बारे में दोबारा ना सोचे।
9- स्वस्थ शरीर और सकारात्मक सोच में गहरा संबंध है –
आप लोगों ने यह तो सुना होगा कि जो लोग बीमार रहते हैं उनके दिमाग में हमेशा छमहंजपअम बात आती रहती है। उनको विभिन्न प्रकार के कष्ट रहते हैं। इसलिए आपको हमेशा स्वस्थ रहने पर जोर देना चाहिए। सेहतमंद खाना खाए, तला भुना और मसाज मसालेदार खाना ना खाएं। व्यायाम करें। बुरी आदतें जैसे शराब पीना, धूम्रपान, नशे के पदार्थ का सेवन ना करें। यदि आपका शरीर स्वस्थ होगा तो अपने आप ही आपकी सोच अच्छी और सकारात्मक होगी। आपके मन में अच्छे विचार आएंगे और आप हमेशा खुश रहेंगे।
10- महान लोगों की जीवनी पढ़ें –
हर इंसान के जीवन में समस्याएं आती है कुछ लोगों के जीवन में कम समस्याएं आती हैं परंतु कुछ लोगों के जीवन में बहुत अधिक समस्याएं आती हैं ऐसे बहुत से महापुरुष है जिनको बहुत सी समस्याओं का सामना करना पड़ा पर उन्होंने कभी हार नहीं मानी।
जैसे महात्मा गांधी, अब्राहम लिंकन, स्वामी विवेकानंद, सुभाष चंद्र बोस, भगत सिंह आदि जब भी आप जीवन में निराशा महसूस करें तो महापुरुषों की जीवनी पढ़ें यह बहुत अच्छा उपाय है आपको तुरंत ही मोटिवेशन बन जाएगा
11- नकारात्मक सोच का संबंध समस्या से है –
जब भी किसी व्यक्ति के जीवन में किसी प्रकार की समस्या आती है तो वह नकारात्मक दिशा में सोचने लग जाता है। जैसे यदि कोई युवक बेरोजगार है उसे नौकरी नहीं मिल रही है तो धीरे-धीरे वह सोचने लग जाता है कि उसके अंदर कोई योग्यता / काबिलियत ही नहीं है। कुछ लोगों के बच्चे नहीं होते तो वह खुद के बारे में बुरी भावना बना लेते हैं कि उन्होंने पिछले जन्म में कोई गलत काम किया होगा। इस तरह समस्या उत्पन्न होने पर व्यक्ति की सोच अपने आप नकारात्मक दिशा में चली जाती है। आपको समस्या का समाधान ढूंढने की जरूरत है। सिर्फ दिन-रात चिंता करने से समस्या दूर नहीं होगी। बल्कि उसका समाधान ढूंढना होगा।
12- व्यर्थ की चिंता करने से बचे –
कई लोग 24 घंटे व्यर्थ में चिंता करते रहते हैं। उनके दिमाग में नकारात्मक विचार आते रहते हैं, जैसे कल को नौकरी छूट जाएगी, एन्श्योरेंस की किस्त कहां से जमा करेंगे, मकान कैसे बनाएंगे, बच्चों को कैसे पढ़ाएंगे इत्यादि। यह एक प्रकार का विकार है। आपको व्यर्थ की चिंता नहीं करनी चाहिए।

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440

Leave a Reply

Your email address will not be published.