khubani

पोषक तत्व और औषधीय गुणों से भरपूर है खुबानी

खबर शेयर करें

समाचार सच, स्वास्थ्य डेस्क। खुबानी में पाए जाने वाले पोषक तत्व और औषधीय गुण इसे सेहत के लिए कई प्रकार से फायदेमंद बनाते हैं। यहां हम सेहत के लिए खुबानी के फायदे के बारे में बता रहे हैं। ध्यान दें कि यह किसी गंभीर बीमारी का इलाज नहीं है। बस स्वस्थ रहने और नीचे बताई गई समस्याओं से बचने के लिए इसे आहार में शामिल किया जा सकता है।

  1. अच्छे पाचन के लिए
    अधिकांश शारीरिक बीमारियां पेट से ही शुरू होती हैं। इस स्थिति से बचाव करने में खुबानी मदद कर सकती है। खुबानी में भरपूर फाइबर होता है और फाइबर पाचन क्रिया को सुचारू रूप से चलाने में सहायक हो सकता है। यह कब्ज जैसी पाचन संबंधी समस्या से परेशान लोगों के शरीर से मल को निकालने में मदद कर सकता है।
  2. दृष्टि सुधार में सहायक
    उम्र के साथ-साथ कुछ शारीरिक समस्याओं के कारण आंखों की रोशनी कम होने लगती है। खासकर, 40 के बाद नजर कमजोर हो जाती है। इसका एक कारण सही पोषण की कमी भी है। दरअसल, बीटा कैरोटीन नामक तत्व के कारण आंखें कमजोर होने और बीमारी की चपेट में आने लगती हैं। इस परेशानी से बचाव में खुबानी मदद कर सकती है, क्योंकि इसमें कैरोटीन की अच्छी मात्रा पाई जाती है।
  3. वजन कम करने के लिए
    खुबानी का इस्तेमाल वजन कम करने के लिए भी किया जा सकता है। एक रिसर्च के मुताबिक, वजन कम करने के लिए इसके जूस की जगह साबुत फल का सेवन किया जाना चाहिए। दरअसल, इसमें मौजूद फाइबर सेटाइटी हार्माेन को रिलीज करता है, जिससे पेट को तृप्ति का एहसास होता। ऐसा होने पर बार-बार खाने की इच्छा नहीं होती और वजन बढ़ने की आशंका कम हो जाती है।
  4. हृदय रोग
    खुबानी का सेवन करके हृदय को स्वस्थ रखा जा सकता है। शोध में पाया गया है कि खुबानी में फेनोलिक नामक फाइटोकेमिकल्स होता है। यह फेनोलिक्स हृदय संबंधित समस्या को दूर करने में फायदेमंद हो सकते हैं। एक अन्य रिसर्च में बताया गया है कि फेनोलिक कंपाउंड एंटीऑक्सीडेंट की तरह कार्य करता है, जो ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को कम करके कॉर्डियो प्रोटेक्टिव प्रभाव दिखाता है। यह इफेक्ट कार्डियोवसक्युलर डिजीज यानी हृदय संबंधी सभी रोगों से बचाव करने में मदद कर सकता है।
  5. एनीमिया के लिए
    एनीमिया के कारण शरीर में लाल रक्त कोशिकाएं कम हो जाती हैं और अंगों तक ऑक्सीजन नहीं पहुंचती। यह एनीमिया और फोलेट जैसे पोषक तत्वों की कमी की वजह से होता है। आयरन से समृद्ध होने के कारण एनीमिया की डाइट में खुबानी को शामिल करने की सलाह दी जाती है। इसके अलावा, खुबानी में फोलेट भी भरपूर मात्रा में होता है। इसी वजह से एनीमिया को दूर करने के लिए खुबानी को लाभकारी माना जाता है।
  6. मधुमेह को दूर करने के लिए
    रक्त में ग्लूकोज की अधिकता होने पर मधुमेह की समस्या हो सकती है। इस समस्या से बचने के लिए सीमित मात्रा में खुबानी का सेवन किया जा सकता है। चूहों पर किए गए शोध में पाया गया कि खुबानी में क्लोरोजेनिक एसिड होता है, जो रक्त में ग्लूकोज के अवशोषण को नियंत्रित कर सकता है। इसके अलावा, खुबानी की गिनती लो-ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाले फलों में होती है, जिसके सेवन से रक्त में शुगर की अधिकता नहीं होती है। इसी वजह से कहा जाता है कि खुबानी की मदद से ग्लूकोज लेवल को कंट्रोल करके डायबिटीज को कुछ हद तक काबू में किया जा सकता है।
  7. द्रव संतुलन
    शरीर में द्रव असंतुलित होने पर हाइड्रेशन, ओवरहाइड्रेशन और डिहाइड्रेशन की समस्या हो सकती है। इस समस्या से निपटने के लिए पानी, सोडियम और पोटेशियम का संतुलित मात्रा में होना जरूरी होता है। ये शरीर में इलेक्ट्रोलाइट के रूप में काम करके द्रव संतुलन बनाए रखने में मदद करते हैं। खुबानी की बात करें, तो इसकी 100 ग्राम मात्रा में 86.35 ग्राम पानी, 1 ग्राम सोडियम और 259 मिलीग्राम पोटैशियम होता है। इन पोषक तत्वों की मदद से शरीर में फ्लूड बैलेंस बना रह सकता है। एशिया के कुछ देशों में में भी खुबानी का इस्तेमाल शरीर में तरल पदार्थ को बनाए रखने के लिए किया जाता है।
  8. कान दर्द के लिए
    अच्छी सेहत के साथ ही खुबानी का उपयोग कान दर्द की समस्या के लिए भी किया जा सकता है। बताया जाता है कि खुबानी में कई प्रकार के गुण जाते हैं, जिनमें से एक एनाल्जेसिक यानी दर्द निवारक गुण भी है। यह प्रभाव कान दर्द के अलावा अन्य दर्द से भी राहत दिलाने में मदद कर सकता है।
  9. सूजन के लिए
    खुबानी का सेवन सूजन कम करने के लिए किया जा सकता है। दरअसल, खुबानी में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होता है। यह गुण सूजन को कम करने के लिए जाना जाता है। खुबानी के अलावा, उसके बीज के अंदर का खाद्य हिस्सा पेट की सूजन को कम कर सकता है।
  10. रक्तचाप की समस्या के दौरान
    रक्तचाप की समस्या को दूर करने के लिए भी खुबानी का सेवन किया जा सकता है। खुबानी में पोटेशियम, मैग्नीशियम और फाइबर जैसे पोषक तत्व होते हैं। ये सभी रक्तचाप नियंत्रण में अहम भूमिका निभाते हैं। खुबानी या फिर सूखी खुबानी दोनों में से किसी को भी डाइट में शामिल करके इस समस्या को कम किया जा सकता है।
  11. लीवर डैमेज होने पर
    सिर्फ हृदय ही नहीं खुबानी लीवर को स्वस्थ रखने में भी अहम भूमिका निभाती है। एक अध्ययन के अनुसार, खुबानी में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स गुण ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को कम करके लीवर की रक्षा कर सकता है।
    एनसीबीआई की साइट पर मौजूद एक रिसर्च में बताया गया है कि धूप में सूखी हुई ऑर्गेनिक खुबानी भी लिवर को फिर से काम करने योग्य बना सकती है। इसके अलावा, खुबानी में हेपाटोप्रोटेक्टिव गुण होता है, जो लीवर को डैमेज होने से बचा सकता है।
  12. गर्भावस्था में
    गर्भावस्था के दौरान भी खुबानी के फायदे देखे गए हैं। गर्भावस्था में अस्थमा की समस्या से जूझ रही महिलाएं खुबानी का सेवन कर सकती हैं। अस्थमा के लिए जरूरी माने जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट युक्त खाद्य पदार्थ में खुबानी का नाम भी शामिल है। इसके अलावा, विटामिन-सी व विटामिन-ई के लिए भी रोजाना 4 खुबानी का सेवन किया जा सकता है। वैसे गर्भावस्था में खुबानी के लाभ महिला की स्थिति पर भी निर्भर करता है। इसी वजह से इसे डाइट में शामिल करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।
  13. अस्थमा में
    खुबानी का सेवन सांस से जुड़ी समस्या जैसे अस्थमा के लिए भी किया जा सकता है। एक रिसर्च पेपर में लिखा है कि डाइट सही न होने के कारण भी अस्थमा हो सकता है। खासकर, अगर डाइट में एंटीऑक्सीडेंट की कमी हो, तो अस्थमा का जोखिम बढ़ सकता है। शोध में बताया गया है कि खुबानी में लाइकोपीन कैरोटीनॉयड कंपाउंड होता है, जो शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट प्रभाव प्रदर्शित करता है। यह इफेक्ट अस्थमा की समस्या को कुछ हद तक नियंत्रित करने में मददगार हो सकता है।
  14. मसल्स निर्माण में सहायक
    खुबानी का सेवन बीमारियों को दूर करने के साथ ही मसल्स निर्माण में भी किया जा सकता है। दरअसल, ड्राई खुबानी में प्रोटीन की अच्छी मात्रा पाई जाती है। यह प्रोटीन मांसपेशियों के रखरखाव यानी उन्हें मेंटेन करने और उनके विकास के लिए जरूरी होता है।
  15. बुखार के लिए
    सर्दी जुकाम की समस्या हो या फिर बुखार खुबानी के फायदे इसमें भी देखे गए हैं। रिसर्च बताती है कि खुबानी में एंटीपायरेटिक गुण हो सकता है। खुबानी में पाए जाने वाले यह प्रभाव बुखार को कम करने में मदद कर सकता है। ध्यान दें कि बुखार तेज होने पर डॉक्टर से संपर्क करना जरूरी है।
  16. हड्डियों को बनाए मजबूत
    बेहतर स्वास्थ्य के साथ ही हड्डियों की मजबूती के लिए भी खुबानी का सेवन किया जा सकता है। शोध में पाया गया कि पोटेशियम और मैग्नीशियम हड्डियों को स्वस्थ रखने में अहम भूमिका निभाते हैं। खुबानी में पोटेशियम और मैग्नीशियम दोनों पोषक तत्वों की अच्छी मात्रा पाई जाती है। इसके अलावा, खुबानी और सूखी खुबानी कैल्शियम और फास्फोरस युक्त होती है, जो हड्डियों के लिए जरूरी है। इसी वजह से हड्डी को स्वस्थ रखने के लिए खुबानी और सूखी खुबानी दोनों का सेवन किया जा सकता है।
  17. अल्सर में फायदेमंद खुबानी
    खुबानी का उपयोग अल्सर की समस्या से बचाव में लाभदायक हो सकता है। असल में खुबानी एंटीऑक्सीडेंट से युक्त होती है। यह फ्री-रेडिकल्स के प्रभाव को कम कर सकती है। फ्री-रेडिकल्स यानी मुक्त अणु शरीर में अल्सर को बना सकते हैं। इसी वजह से माना जाता है कि खुबानी का एंटीऑक्सीडेंट प्रभाव अल्सर से बचा सकता है। इसके अलावा, एक अन्य अध्ययन से पता चला है कि खुबानी के बीज के अंदर का खाद्य हिस्सा यानी कर्नेल के अर्क में पेक्टिन फाइबर होता है। इसे अल्सर की समस्या से बचाव करने के लिए प्रभावी माना गया है। इतना ही नहीं, एक शोध में इस बात की भी पुष्टि हुई है कि कर्नेल अर्क में एंटी-अल्सरेटिव और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो अल्सर और उसकी वजह से होने वाली सूजन को कम कर सकते हैं।
  18. त्वचा के लिए खुबानी के फायदे
    त्वचा के लिए भी खुबानी के फायदे हो सकते हैं। शोध में पाया गया है कि खुबानी में एंटी-एजिंग गुण होता है। यह गुण त्वचा को समय से पहले बूढ़ा होने से रोकने में मददगार हो सकता है। यह गुण बढ़ती उम्र के लक्षण जैसे फाइन लाइन्स और झुर्रियां हटाने में सहायक हो सकता है। इसके अलावा, इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट स्किन इंफ्लेमेशन यानी सूजन को कम कर सकता है।
  19. बालों के लिए खुबानी के फायदे
    बालों की ग्रोथ के लिए कई प्रकार के पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है, जिनमें से एक आयरन है। आयरन की कमी के कारण बालों के झड़ने की समस्या हो सकती है। आगे चलकर इसके कारण गंजेपन का भी सामना करना पड़ सकता है। वहीं, खुबानी आयरन से भरपूर खाद्य सामग्री है, जो आयरन की कमी को दूर करके और बालों की ग्रोथ में फायदेमंद हो सकती है।
  20. कैंसर से बचाव
    खुबानी फल का सेवन सीधे तौर पर कैंसर से बचाव तो नहीं कर सकता, लेकिन ताजा खुबानी के बीज के अंदर के खाद्य हिस्सा यानी कर्नल कैंसर से बचाव कर सकते हैं। एक अध्ययन के मुताबिक, खुबानी के कर्नल में एमिगडलिन तत्व होता है, जो इंटेस्टाइन कैंसर को बढ़ने से रोक सकता है। इसे प्राकृतिक एंटी-कैंसर एजेंट माना जाता है। वैसे, कैंसर जैसी गंभीर बीमारी होने पर खुबानी पर निर्भर रहने की जगह डॉक्टरी इलाज कराना चाहिए।

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440

Leave a Reply

Your email address will not be published.