तेज पत्ता (डालचीनी) जिसका उपयोग खाने में खुशबू तथा स्वाद बढ़ाने के लिए किया जाता है

खबर शेयर करें

समाचार सच, स्वास्थ्य डेस्क। तेज पत्ता एक आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है। इसकी पत्तियों और तेल का उपयोग दवा बनाने के लिए किया जाता है। कैंसर और गैस के इलाज के लिए तेज पत्ते का उपयोग किया जाता है। यह पित्त प्रवाह को उत्तेजित करता है जो पसीने का कारण बनता है। तेजपात मसाले के रुप में अति प्रचलित है। दालचीनी के रुप में इसकी छाल तथा सूखी पत्तियां गरम मसाले में प्रयोग होती है। यह एक तरह का गर्म मसाला है, जिसका उपयोग खाने में खुशबू तथा स्वाद बढ़ाने के लिए किया जाता है।

Ad

तेज पत्ते में काफी मात्रा में कॉपर, पौटेशियम, कैल्शियम, मैग्नीशियम, सेलेनियम और आयरन पाया जाता है जो हमारे शरीर के लिए बहुत ही फायदेमंद होते हैं। अपच, गले के रोग तथा कफ निस्सारक औषधियों का यह मुख्य अवयव है। तेज पत्ता एक ऐसी आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है और इसमें शरीर के कई रोगों का उपचार है। सदियों से तेज पत्ता को राजा-महाराजाओं के मुकुट के अंदर लगाया जाता था ताकि वे तनाव से दूर रहें और तेज पत्ता में मौजूद एंटी इंफ्लेमेटरी गुण के कारण उनके सिर में होने वाली समस्या भी दूर होती थी। इसकी पत्तियों और तेल का उपयोग गैस कम करने और जोड़ों का दर्द कम करने के लिए किया जाता है।

तेज पत्ता में कई तरह के प्रमुख लवण जैसे कॉपर, पोटैशियम, कैल्शियम, सेलेनियम और आयरन पाए जाते हैं, जो शरीर के लिए बहुत ही फायदेमंद होते हैं। खाने में इसका इस्तेमाल इसलिए भी किया जाता है क्योंकि इससे पाचन संबंधी बीमारियां दूर होती हैं। जो लोग चाय में तेज पत्ता डालते हैं, उन्हें कब्ज, एसिडिटी और मरोड़ जैसी समस्याएं नहीं होती। तेज पत्ता खाने से शरीर में रक्त का संतुलन बना रहता है, जिससे मधुमेह की समस्या नहीं होती। तेज पत्ते में एंटीऑक्सिडेंट गुण होते हैं, जो शरीर के इंसुलिन को स्वस्थ बनाते हैं। इस प्रकार मधुमेह और इंसुलिन प्रतिरोध वाले लोगों के लिए तेज पत्ता अति लाभदायक होता है। डायबिटीज के रोगी भी तेज पत्ता इस्तेमाल कर सकते हैं क्योंकि यह रक्त ग्लूकोज, कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड के स्तर को कम करने में मदद करते हैं। पाउडर बनाकर भी तेज पत्ते का सेवन किया जा सकता है।

तेज पत्ते में दिमाग को शांत करने की क्षमता
तेज पत्ता चिंता को दूर करें- तेज पत्ते में दिमाग को शांत करने की ताकत होती है, इससे स्ट्रेस दूर होता है और शांति मिलती है। तेज पत्ता जलाने के फायदे क्या हैं? इसे जलाने पर मिलने वाली गंध थकान और चिड़चिड़ाहट भी दूर करती है। इसके अलावा तेज पत्ते के धुएं से इम्यून सिस्टम भी मजबूत होता है। इम्यून सिस्टम के मजबूत होने से रोग आसानी से पनप नहीं पाते। इसके साथ ही यह भी माना जाता है कि तेज पत्ता आसपास के वातावरण में मौजूद बैक्टीरिया को खत्म करता है।

यह भी पढ़ें -   छींके आना बंद नहीं हो रहीं? ये रहे बेहतरीन घरेलू उपाय

तेज पत्ता थकान दूर करें- तेज पत्ता कमरे में जलाने से व्यक्ति की थकान दूर हो जाती है, इसके खुशबू दिमाग को शांति देती है। इससे दिमाग की नसों को आराम मिलता है, इतना ही नहीं इसका धुंआ जब सांस के साथ शरीर के अंदर जाता है तो इम्यून सिस्टम मजबूत बनता है।

तेज पत्ता अच्छी नींद के लिए- तेज पत्ता रात को अच्छी नींद के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है। इसके लिए तेज पत्ते के तेल की बूंदों को मिलाकर कुछ देर के लिए रख लें। उसके बाद उसे अच्छी तरह से सिर पर लगाएं। यह अच्छी नींद के लिए बहुत फायदेमंद है।

तेज पत्ता नींद-आलस भगाएं- एक तेज पत्ता को पानी में कम से कम छह घंटे तक भिगोए सुबह को उठने के बाद उस पानी को पी लें। इससे काफी राहत मिलेगी और नींद का नशा उतर जाएगा।

कब्ज, एसिड और ऐंठन की दवा
तेज पत्ता कब्ज मे लिए लाभदायक-कब्ज, एसिड और ऐंठन से जुड़ी समस्या के लिए तेज पत्ता बहुत फायदेमंद होता है। इसके साथ-साथ तेज पत्ते को पीसकर उसके पाउडर में संतरे के छिलके का पाउडर मिलायें और इस मिश्रण से हफ्ते में तीन दिन ब्रश करें इससे दांतों का पीलापन कम दूर हो जाता है।

तेज पत्ता भूख को बढ़ाने के लिए – 600 मिग्रा शुंठी चूर्ण, 400 मिग्रा इलायची, तथा 400 मिग्रा दालचीनी को पीस लें। भोजन के पहले सुबह-शाम लेने से भूख बढ़ती है।

तेज पत्ता मजबूत किडनी के लिए- किडनी से जुड़ी कोई भी समस्या होने पर तेज पत्ते को पानी में उबालें, उबले हुए पानी को ठंडा करने के बाद पी लें। तेज पत्ता में कैंसर से लड़ने के गुण पाए जाते हैं इसमें कैफीक एसिड, क्वेरसेटिन और इयूगिनेल तत्व होते हैं जो मेटाबोलिज्म को कैंसर जैसी घातक बीमारी होने से बचाता है।

तेज पत्ता दर्द-निवारण- तेज पत्ते के तेल को दर्द होने वाली जगह पर लगाने से दर्द में आराम मिलता है।

तेज पत्ता स्वस्थ स्वास्थ्य के लिए
तेज पत्ता गठिया के लिए- तेज पत्ते का एंटी-इन्फ्लैमटोरी गुण गठिया के दर्द से राहत दिलाने में मदद करता है। कैस्टर ऑयल और तेज पत्ते के तेल को एक साथ मिलाकर गठिया के दर्द वाली जगह पर लगाने से राहत मिलती है।

तेज पत्ता कार्डियोवस्कुलर लाभ- दिल संबंधी परेशानियों में तेज पत्ता लाभदायक होता है इसका सेवन करने वाले को दिल का दौरा पड़ने की आशंका नही बनती है।

तेज पत्ता कोलेस्ट्रॉल स्तर को कम करता है- कोलेस्ट्रॉल शरीर के लिए जरूरी होता है लेकिन कहते हैं न कि जरूरत से ज्यादा कोई भी चीज अच्छी नहीं होती। उसी तरह शरीर में अधिक कोलेस्ट्रॉल से कई सारी बीमारियां पैदा हो जाती है। बॉडी से हानिकारक कोलेस्ट्रॉल को हटाने के लिए तेज पत्ता सबसे अच्छी दवा होता है। बस इसके लिए तेज पत्तों के 10- 15 टुकड़े लें और उन्हें पानी में साफ करके अच्छी तरह से उबाल लें। ठंडा होने के बाद रात को सोने से पहले इनका सेवन करें। ये आपके शरीर से कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में मदद करेगा। हालांकि यह प्रक्रिया कई दिनों तक अपनानी पड़ेगी, उसके बाद ही अच्छा परिणाम मिलेगा।

यह भी पढ़ें -   पेट की चर्बी से चाहिए छुटकारा तो डाइट में शामिल करें लहसुन का पानी, जानें फायदे और बनाने का सही तरीका

तेज पत्ता रोग निवारण के लिए
तेज पत्ता उल्टी को रोकने के लिए- दालचीनी का प्रयोग उल्टी रोकने के लिए भी किया जाता है। दालचीनी, और लौंग का काढ़ा बनाकर पीयें।

दालचीनी चर्म रोग के लिए – चर्म रोग को ठीक करने के लिए शहद एवं दालचीनी को मिलाकर लगाएं। खुजली-खाज, तथा फोड़े-फुन्सी ठीक होते है।

दालचीनी टीबी में लाभदायक- टीबी के इलाज के लिए दालचीनी से लाभ मिलता है। टीबी मरीज को दालचीनी के तेल को थोड़ी मात्रा में पीना है। इससे टीबी के कीटाणु खत्म हो जाते हैं।

तेज पत्ता हिचकी की परेशानी के लिए- हिचकी आना बहुत ही साधारण सी बात है, लेकिन कई ऐसे भी लोग होते हैं, जिन्हें हमेशा हिचकी आने की शिकायत रहती है। ऐसे लोग दालचीनी का उपयोग कर सकते हैं। दालचीनी के 10-15 मिली काढ़ा को पिएं।

तेज पत्ता आँख, दांत, नाक की परेशानी से रखे दूर
तेज पत्ता आंखों के रोग के लिए- आँख का बार-बार फड़कना परेशानी का विषय बना जाता है। इसके लिए दालचीनी का तेल आंखों के ऊपर लगाएं। इससे आंखों का फड़कना बन्द हो जाता है, और आंखों की रोशनी भी बढ़ती है।

तेज पत्ता दांत के दर्द से आराम के लिए- जिन्हें दांत में दर्द की शिकायत रहती है, वे लोग दालचीनी का फायदा ले सकते हैं। दालचीनी के तेल को रूई से दांतों में लगाएं। इससे आराम मिलेगा। दालचीनी के 4-5 पत्तों को पीसकर मंजन करें। इससे दांत साफ, और चमकीले हो जाते हैं।

तेज पत्ता चमकदार दांतों के लिए – अगर आप चमकदार दांत चाहते हैं और महंगे टूथ पेस्ट के इस्तेमाल से थक गए हैं तो तेज पत्ता आपको चमकदार दांत दे सकता है। तेज पत्ते और संतरे के सूखे छिल्कों के पाउडर में पानी मिलाकर टूथपेस्ट की तरह उपयोग किया जा सकता है। यह हमारे दांतों को सफेद और स्वस्थ बनाने में मदद करता है। साबुत तेज पत्ते को दांत पर रगड़ने से दांत के पीलेपन से होने वाली शर्मिंदगी से भी बचा जा कसता है।

नाक की बीमारी के लिए दालचीनी- दालचीनी 5 ग्राम, लौंग 500 मिग्रा, सोंठ 3 ग्राम को एक लीटर पानी में उबाल लें। जब यह पानी 250 मिली रह जाए, तो इसे छान लें। इसको दिन में 3 बार लेने से नाक के रोग में लाभ होता है।

अब नहीं कफ, अपच, गले की परेशानी
जुकाम में दालचीनी- एक चौथाई चम्मच दालचीनी के चूर्ण में 1 चम्मच मधु को मिला लें। इसे दिन में तीन बार सेवन करने से खांसी, जुकाम और दस्त में फायदा होता है।

यह भी पढ़ें -   छींके आना बंद नहीं हो रहीं? ये रहे बेहतरीन घरेलू उपाय

पेट फूलने पर दालचीनी का फायदा– पेट से संबंधित कई तरह के रोगों में दालचीनी बहुत ही फायदेमंद होती है। 5 ग्राम दालचीनी चूर्ण में 1 चम्मच मधु मिला लें। इसे दिन में 3 बार सेवन करें। पेट के फूलने की बीमारी दूर होती है।

दालचीनी आमाशय विकार के लिए– दालचीनी, इलायची, और तेजपत्ता को बराबर-बराबर लेकर काढ़ा बना लें। इसके सेवन से आमाशय की ऐंठन दूर होती है।

दालचीनी आंतों के रोग के लिए- दालचीनी का तेल पेट पर मलने से आंतों का खिंचाव दूर हो जाता है।

तेज पत्ता वजन कम करने के लिए
वजन कम करने में तेज पत्ते का उपयोग आपके लिए लाभकारी हो सकता है। तेज पत्ते और दाल चीनी के मिश्रण का उपयोग आपके पाचन तंत्र के लिए बहुत अच्छा होता है। यह आपके शरीर में अवांछित वसा दूर करने में मदद करता है और वजन कम करता है। नियमित रूप से इसका सेवन करने से यह महिलाओं के मासिक धर्म को नियमित करने में भी मदद करता है। इसके साथ ही इसके इस्तेमाल से मासिक धर्म में होने वाली परेशानियां भी दूर होती हैं।

तेज पत्ता सौंदर्य बनाए
तेज पत्ता बालों का टूटना और झड़ना रोके – अगर आपके बाल झड़ रहे हैं और लाखों उपाय करने के बाद भी बालों का झड़ना बंद नहीं हो रहा है तो तेज पत्ते को पानी में उबालें और उससे बालों को अच्छी तरह से धो लें। हालांकि ध्यान रहे कि उससे पहले बालों को शैम्पू से धोना जरूरी है ताकि वे अच्छे से साफ हो जाएं। यह बालों को झड़ने से रोकने में आपकी मदद करेगा। तेज पत्ता बालों की गंदगी और चिपचिपाहट को दूर करने के साथ ही कंडीशन भी करता है। इसके उपयोग से बालों में चमक आती है। अगर तेज पत्ता पाउडर को पीसकर दही के साथ बालों में लगाया जाए तो इससे सिर की रूसी भी दूर हो जाती है।

तेज पत्ता सौंदर्य के लिए- सुंदर दिखने के लिए लोग अक्सर महंगी क्रीम से लेकर महंगे फेशियल तक, हर चीज का इस्तेमाल करते हैं लेकिन कोई फर्क नहीं पड़ता। हालांकि तेज पत्ते का इस्तेमाल करने से खूबसूरती में फर्क दिखने लगता है। इसे चेहरे पर लगाने से न सिर्फ दाग- धब्बे दूर होते हैं, बल्कि स्किन ग्लो भी करती है।

तेज पत्ते का पानी – तेज पत्ते के पानी को दिन में तीन बार पीना है। एक बार सुबह खाली पेट, दूसरी बार दोपहर के भोजन के कुछ देर पहले और तीसरी बार डिनर करने के आधे घंटे के बाद। पानी को पीने से पहले हल्का गरम जरूर करें।

Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *