घर में उल्टे जूते-चप्पल रखने पर इसलिए टोकते हैं बड़े-बुजुर्ग, ये रही वजह

खबर शेयर करें

समाचार सच, अध्यात्म डेस्क। घर में बड़े-बुजुर्ग हमेशा जूते-चप्पलों को लेकर टोकते रहते हैं। अधिकतर लोगों को तो यह उलझन लगती है लेकिन इसके पीछे का लॉजिक कोई नहीं जानता। हालांकि बड़े बुजुर्गों के टोकने पर तुरंत चप्पल सीधी कर देते हैं। तो आइए जानते हैं कि चप्पलों को उल्टा छोड़ने से क्या समस्या हो सकती है।

रूठती हैं मां लक्ष्मी
मान्यता है कि घर में उल्टी चप्पल या उल्टे जूते होने पर उन्हें तुरंत सीधा कर देना चाहिए, क्योंकि इससे घर पर लड़ाई हो सकती है और मां लक्ष्मी भी रूठ जाती हैं. इसलिए बड़े बुजुर्ग कहते हैं कि उल्टी चप्पल को तुरंत सीधा कर देना चाहिए, इसके पीछे कोई वैज्ञानिक तथ्य नहीं है।

यह भी पढ़ें -   व्हीट ग्रास में काफी मात्रा में मैग्नीशियम, क्लोरोफिल, कैल्शियम, आयोडीन, सेलेनियम, जिंक, आयरन, फाइवर, विटमिन के, विटमिन बी, सी और ई जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं

घर में बढ़ती है बीमारी
इसके अलावा एक और मान्यता ये भी है कि चप्पल जूते उल्टे रखने से घर में बीमारी, दुख आदि चीजें आने लगती हैं। इसलिए चप्पल और जूता निकालने के बाद यदि वह गलती से उल्टा हो जाता है तो तुरंत उसे सीधा कर दें। मान्यता ये भी है कि घर के आगे या घर में उल्टा चप्पल और जूता रखने से घर में झगड़ा हो सकता है। बड़े बुजुर्ग कहते हैं कि चप्पल और जूतों को कभी भी उल्टा ना रखें इससे घर में नकारात्मक ऊर्जा आती है।

यह भी पढ़ें -   एक जून से होगा राशन कार्ड का सत्यापन, अपात्रों के खिलाफ एफआईआर और उनसे अब तक लिए राशन की जाएगी रिकवरी

सोच पर पड़ता है बुरा असर
यह भी मान्यता है कि घर के दरवाजे पर भूलकर भी जूते-चप्पल उल्टे नहीं रखने चाहिए। इससे घर के सदस्यों की सोच पर बुरा असर पड़ता है। वास्तु के मुताबिक जूते-चप्पल उल्टे होने से घर की सकारात्मकता दूर चली जाती है. इससे परिवार की सुख-शांति में काफी बाधा आती है।

रहता है शनि का प्रकोप
माना जाता है कि घर में उल्टे जूता चप्पल रखने से तनाव का माहौल रहता है। साथ ही उल्टे चप्पल और जूते रखने से शनि का प्रकोप रहता है, क्योंकि शनिदेव को पैरों का कारक माना गया है।

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440

Leave a Reply

Your email address will not be published.