नीट पेपर लीक मामले में बड़ा खुलासा, बिहार के आरोपी छात्र ने कबूला, बताया-रात में ही मिल गया था पेपर

खबर शेयर करें

समाचार सच, नई दिल्ली (एजेन्सी)। मेडिकल प्रवेश परीक्षा नीट पेपर लीक मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। बिहार में पेपर लीक के एक आरोपी छात्र अनुराग यादव ने कबूल कर लिया है कि उसे परीक्षा से पहले वाली रात में पेपर मिल गया था। पेपर में हूबहू वही प्रश्न थे जो अगले नीट प्रश्न पत्र में थे। छात्र ने स्वीकारा कि उसे उत्तर पुस्तिका भी दी गई थी और प्रश्नों के उत्तर रटवाए गए थे। अनुराग ने पुलिस को दिए बयान में कहा कि मुझे मेरे फूफा सिकंदर यादवेंद्र ने कोटा से यह कह कर बुलाया था की परीक्षा के लिए सेटिंग हो गई है। परीक्षा के बाद पुलिस ने मुझे गिरफ्तार कर लिया था।

’’मेरा नाम अनुराग यादव, उम्र 22 वर्ष, पे०-संजीव कुमार, सा०-परिदा, थाना-हसनपुर, जिला-समस्तीपुर हैं। मैं अपना सफाई का बयान बिना भय एवं दबाव, बिना लोभ लालच के शास्त्रीनगर थाना पर दरोगा जी के समक्ष दे रहा हूँ। मैं नीट के परीक्षा की तैयारी कोटा में एलेन कोचिंग सेंटर में रहकर कर रहा था। मेरे फुफा सिकंदर प्र० यादवेन्दु नगर परिषद दानापुर जूनियर इंजिनियर के पद पर कार्यरत हैं। मेरे फुफा द्वारा बताया गया कि दि०-05. 05.24 को नीट का परीक्षा हैं, कोटा से वापस आ जाओ। परीक्षा का सेटिंग हो चुका है। मैं कोटा से वापस आ गया तथा मेरा फुफा द्वारा दि0-04.05.24 को रात्रि में अमित आनंद एवं नीतिश कुमार के पास मुझे छोड़ा गया। जहाँ पर नीट के परीक्षा का प्रश्न पत्र एवं उत्तर पुस्तिका दिया गया एवं रात्रि में पढ़वाया एवं रटवाया गया। मेरा सेंटर डी०वाई० पाटिल स्कूल में था तथा मैं स्कूल में परीक्षा देने गया तो जो प्रश्न पत्र रटवाया गया था वही प्रश्न सही सही परीक्षा में मिल गया। परीक्षा के उपरांत अचानक पुलिस आई तथा मुझे पकड़ लिया। मैं अपना अपराध स्वीकार किया।
यही मेरा बयान हैं। मैं अपना बयान पढ एवं समझ कर सही लिखा पाकर अपना हस्ताक्षर बना दिया।’’

यह भी पढ़ें -   युवा वैश्य महासभा हल्द्वानी के अतुल जायसवाल अध्यक्ष तथा कपिल अग्रहरि बने महामंत्री

पेपर लीक मामले के मास्टरमाइंड बताए जा रहे सिकंदर को भी गिरफ्तार किया जा चुका है। जल संसाधन विभाग में कार्यरत सिकंदर को गिरफ्तारी के बाद सस्पेंड कर दिया गया है।

यह भी पढ़ें -   Uttarakhand Crime: पति की पत्नी से हैवानियत, जबरन बनाए अप्राकृतिक संबंध, गर्भपात कराने का भी आरोप

बिहार में नीट यूजी पेपर लीक मामले की जांच आर्थिक अपराध इकाई ( बिहार ईओयू) कर रही है। आर्थिक अपराध इकाई (ईओयू) का कहना था कि नेशनल टेस्टिंग काउंसिल (एनटीए) सहयोग नहीं कर रही है। इसके मद्देनजर मंगलवार को ईओयू की दो सदस्यीय टीम एनटीए मुख्यालय नई दिल्ली पहुंची।

नीट प्रश्न पत्र लीक मामले में ईओयू (आर्थिक अपराध इकाई) ने बुधवार को दो अभ्यर्थियों से तीन घंटे तक पूछताछ की। एक अभ्यर्थी बख्तियारपुर की ईशा भारती व दूसरी समस्तीपुर निवासी है। दोनों से पूछा गया कि क्या इन्हें परीक्षा सेपहले कोई प्रश्न पत्र मिला था। अगर हां तो कहां से मिला, किसने दिया। हालांकि, दोनों ने किसी जानकारी से इंकार किया।

नीट पेपर लीक में जितने भी संदिग्धों, केंद्रों या बिचौलियों की भूमिका सामने आई है, उनके बैंक खातों और वित्तीय लेनदेन की जांच की जा रही है। यह बात सामने आई है कि अधिकांश पैसे का लेनदेन नगद में हुआ है।

Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440