चेली…

खबर शेयर करें

चेली।
एक दिन उड़ जायेगी,
मेरे घरौंदे से
अपना घरौंदा बनाने।
उसकी यादों को,
मैं सहेजना चाहता हूं।
चेली।
एक दिन ओझल हो जायेगी,
मेरेे घर से।
मैं उसकी बचपन की किलकारियों को,
सहेजना चाहता हूं।
चेली।
एक दिन रूखसत हेा जायेगी,
मेरी दहलीज से।
मैं उसका सामीप्य चाहता हूं।
चेली।
धीरज भट्ट
हल्द्वानी

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440

Leave a Reply

Your email address will not be published.