चार दिन की सियासी हलचल के बाद सीएम त्रिवेंद्र रावत ने दिया इस्तीफा

खबर शेयर करें

बुधवार सुबह 10 बजे पार्टी मुख्यालय में होगी विधानमंडल की बैठक

समाचार सच, देहरादून। आखिरकार भाजपा में चार दिन की सियासी हलचल के बाद उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पद से इस्तीफा दे दिया। आज शाम राजभवन पहुंचकर उन्होंने राज्यपाल बेबी रानी मौर्य को अपना इस्तीफा सौंपा। त्रिवेंद्र सिंह रावत ने 18 मार्च 2017 को राज्य के नौवें मुख्यमंत्री के रूप में सत्ता संभाली थी। त्रिवेंद्र को अपना चार साल का कार्यकाल पूर्ण होने से नौ दिन पहले ही मुख्यमंत्री की कुर्सी छोड़नी पड़ी। इसके अलावा त्रिवेंद्र भी उत्तराखंड के उन पूर्व मुख्यमंत्रियों की जमात में शामिल हो गए हैं, जो अपना पांच साल का कार्यकाल पूर्ण नहीं कर पाए। उत्तराखंड में केवल नारायण दत्त तिवारी ही अब तक पांच साल का कार्यकाल पूर्ण करने वाले मुख्यमंत्री रहे हैं।
उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पद से इस्तीफा दे दिया है। रावत ने अपना इस्तीफा राज्यपाल बेबी रानी मौर्या सौंपा है। इसके बाद उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए कहा कि मैं लंबे समय से राजनीति में काम कर रहा हूं। आरएसएस में प्रचारक के तौर पर काम किया। उन्होंने आगे कहा कि भाजपा के संगठन महामंत्री के नाते, लगभग चार वर्ष से पार्टी ने मुझे देवभूमि में सेवा करने का मौका दिया। यह मेरा परम सौभाग्य रहा है या कहूं यह स्वर्णिम अवसर था। एक छोटे से गांव में जहां आज भी 7-8 परिवार रहते हैं। उस गांव में मैने जन्म लिया एक सैनिक के परिवार में जन्म लिया। मेरे पिताजी पूर्व सैनिक थे। कभी कल्पना भी नहीं की थी कि पार्टी इतना बड़ा सम्मान देगी। उन्होंने कहा कि भाजपा में ही यह संभव था कि एक छोटे से गांव के कार्यकर्ता को इतना बड़ा सम्मान मिला और चार मुझे सेवा करने का मौका दिया। पार्टी ने विचार किया और संयुक्त रूप से यह निर्णय लिया कि मुझे अब किसी और को यह मौका देना चाहिए। चार वर्ष में 9 दिन शेष रह गए हैं और इतना मौका मुझे पार्टी ने दिया है। इस दौरान उन्होंने बताया कि पार्टी मुख्यालय में बुधवार सुबह 10 बजे विधानमंडल की बैठक होगी। मीडियाकर्मियों ने जब त्रिवेंद्र सिंह रावत से पूछा गया कि इस्तीफा देने के पीछे का कारण क्या है तो उन्होंने जवाब दिया कि कारण जानने के लिए आपको दिल्ली जाना पड़ेगा।
मिली जानकारी के अनुसार राज्य सरकार में मंत्री धन सिंह रावत, त्रिवेंद्र सिंह रावत के मजबूत विकल्प के रूप में उभरे हैं। उत्तराखंड से सांसद अजय भट्ट और अनिल बलूनी को भी मुख्यमंत्री पद के मजबूत दावेदार के रूप में देखा जा रहा है। त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सोमवार को केंद्रीय नेतृत्व से मुलाकात की थी। जिसे शिष्टाचार मुलाकात का नाम दिया जा रहा था लेकिन फिर मंगलवार की शाम 4 बजे रावत राजभवन पहुंचे। जहां पर उन्होंने राज्यपाल बेबी रानी मौर्या को अपना इस्तीफा सौंप दिया। भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रमन सिंह और पार्टी मामलों के उत्तराखंड प्रभारी दुष्यंत कुमार सिंह कुछ दिन पहले देहरादून पहुंचे थे, जहां पर उन्होंने कुछ बैठकें की थी। जिसके बाद से रावत को मुख्यमंत्री पद से हटाए जाने की अटकलें लगाई जा रही थी।

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440

Leave a Reply

Your email address will not be published.