समकालीन सिद्धांत एवं आलोचनाः एक विहंगावलोकन विषय पर विद्वतापूर्ण एवं विचारोत्तेजक व्याख्यान

Ad
खबर शेयर करें

समाचार सच, हल्द्वानी। एम0 बी0 स्नातकोत्तर महाविद्यालय के अंग्रेजी विभाग द्वारा अपने साहित्यिक संगठन के तहत गूगल मीट के माध्यम से ऑनलाइन व्याख्यानमाला के क्रम में लखनऊ विश्वविद्यालय के अंग्रेजी विभाग के सेवानिर्वत्त विभागाघ्यक्ष प्रो0 एस0 एच0 आबिदी का व्याख्यान आयोजित किया गया।

मुख्य वक्ता प्रो0 आबिदी ने समकालीन सिद्धांत एवं आलोचनाः एक विहंगावलोकन विषय पर विद्वतापूर्ण एवं विचारोत्तेजक व्याख्यान प्रस्तुत किया। प्रो0 आबिदी ने विभिन्न आलोचकों के भिन्न-भिन्न विचारों की व्याख्या तर्कपूर्ण तरीके से उदाहरणों सहित प्रस्तुत की। उन्होंने कहा कि समय के साथ विभिन्न स्थापित सिद्धांतों का परिमार्जन होता रहता है। इस अवसर पर प्रो. आबिदी द्वारा विद्यार्थियों द्वारा पूछे गए समस्त प्रश्नों के तथ्यपरक उत्तर भी दिये गए। प्रो0 आबिदी द्वारा दिए गए व्याख्यान की विद्यार्थियों एवं शिक्षकों द्वारा भूरि-भूरि प्रशंसा की जा रही है।

यह भी पढ़ें -   पुस्तकालय घोटाले की टेंडर से लेकर भुगतान तक के रिकॉर्ड तलब, हाईकोर्ट ने दी सीबीआइ जांच की चेतावनी

व्याख्यानमाला की सह-संयोजक डॉ0 नीलोफर अख्तर द्वारा कार्यक्रम का सफल संचालन किया गया। कार्यक्रम का प्रारंभ पारंपरिक तरीके से पूजा बोरा द्वारा प्रस्तुत की गई सरस्वती वंदना से एवं समापन सुनील सिंह राठौर द्वारा मुख्य वक्ता एवं अन्य उपस्थित जनों का आभार व्यक्त करने से हुआ।

यह भी पढ़ें -   बलबीर गिरि संभालेंगे बाघंबरी मठ की गद्दी

विभागाध्यक्ष एवं व्याख्यानमाला के संयोजक प्रो0 हेमन्त कुमार शुक्ला ने अपने स्वागत भाषण में कहा कि शिक्षकों एवं विद्यार्थियों के सहयोग से भविष्य में भी बौद्धिक कार्यक्रम आयोजित किये जाते रहेंगे।

इस अवसर पर आयोजन सचिव द्वय डॉ0 कविता बिष्ट एवं डॉ0 कविता पंत, डॉ0 शकेबा सिद्दीकी, गुलनाज़, निर्मल मेहता, भावेश पाठक, विनीता उपाध्याय, सुदर्शन उपाध्याय, जया कुंवर, अंकित कुमार, दीक्षा पंत, मोनिका जोशी, आदि शोधार्थी एवं विद्यार्थीगण उपस्थित रहे। इधर महाविद्यालय के प्राचार्य एवं कार्यक्रम के संरक्षक प्रो0 बी0 आर0 पंत ने छात्रहित में आयोजित की जा रही इस व्याख्यानमाला के लिए अंग्रेजी विभाग की सराहना की।

Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *