पर्यावरण संरक्षण में योगदान को आगे आयें

खबर शेयर करें

समाचार सच, ऋषिकेश। बसंत पंचमी के अवसर पर राज्यपाल बेबी रानी मौर्य के परमार्थ निकेतन में आगमन पर स्वागत और अभिनन्दन किया। तत्पश्चात उन्होंने बसंत पंचमी पूजन में सहभाग कर मां सरस्वती जी को पुष्पहार अर्पित कर उत्तराखंड की समृद्धि को प्रार्थना की। राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने अपने पारिवारिक विवाह समारोह में वर-वधू को शुभ आशीष प्रदान किया। उन्होंने कहा कि ’’बसंत ऋतु को ऋतुओं का राजा कहा गया है। बसंत पंचमी के आते ही प्रकृति में फूलों खिलने लगते है और नई फसल का आगमन होने लगता है। बसंत के अवसर पर प्रकृति की खूबसूरती अपने चरम पर होती है उसी खूबसूरती को बनाये रखने के लिये प्रकृति और पर्यावरण संरक्षण में अपना योगदान प्रदान करें। स्वामी चिदानन्द सरस्वती महाराज ने देशवासियों को बसंत पंचमी की शुभकामनायें देते हुये कहा कि मां सरस्वती सभी के जीवन में ज्ञान, उल्लास, उमंग, दिव्यता और शान्ति की दिव्य तरंगों का संचार करें। बसंत आता है तो बहार लाता है; बसंत आता है तो प्रकृति अपने अद्भुत रंग बिखेरती है जिससे चारों ओर हरियाली और खुशहाली बिखर जाती है। आईये हम भी अपने जीवन को कुछ ऐसा बनाये कि किसी के काम आयें और किसी के जीवन का उजाला बने। हमारा जीवन व शरीर केवल हमारा नहीं है बल्कि इसके निर्माण में हमारे पूर्वजों, माता-पिता, आने वाली पीढ़ियों के साथ समाज और प्रकृति का भी महत्वपूर्ण योगदान है। हमें अपने शरीर को स्वस्थ रखने के लिये प्रकृति, समाज और पूरे ब्रह्मांड पर निर्भर रहना पड़ता है उसी प्रकार अगर हमारे द्वारा कोई सकारात्मक कार्य किया जाता है तो उसका प्रभाव भी पूरे ब्रह्मांड पर पड़ता है इसलिये हम स्वस्थ व आनंदित रहें और पूरे ब्रह्मांड को भी स्वस्थ एवं आनंदित रखें यही बसंत पंचमी हमें संदेश देती है। बसंत पंचमी के पावन अवसर पर आज परमार्थ निकेतन में हरीशंकर शर्मा और शिवोह्म् परिवार ने भण्डारा का आयोजन किया।

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440

Leave a Reply

Your email address will not be published.