सोशल मीडिया के माध्यम से समाज में करें अच्छे वातावरण का निर्माण: बीएल संतोष

Ad
Ad
खबर शेयर करें

सोशल मीडिया वॉलिंटियर मीट आयोजित

समाचार सच, देहरादून। भारतीय जनता पार्टी प्रदेश मुख्यालय में सोशल मीडिया वालिंटियर मीट आयोजित की गई। जिसमें भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय संगठन महामंत्री बीएल संतोष ने कहा कि सोशल मीडिया के माध्यम से समाज में अच्छे वातावरण का निर्माण करना है जिससे कि भ्रम फैलाने वाले दल अपने मकसद में विफल हो जाएं। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया की खबरे उद्देश्यपरक होनी चाहिए। आज बाघों की संख्या, डाल्फिन की संख्या आदि जैसे इकोलाजिक सिस्टम सरकार के अच्छे निर्णयों से मजबूत हो रहा है। उत्तराखंड में सरकार द्वारा शहद के उत्पादन पर निरंतर अच्छे कार्य किए जा रहे हैं जिससे कि स्वरोजगार को बढ़ावा मिल पा रहा है। सोशल मीडिया के माध्यम से आज की दुनिया में हर एक जागरुक व्यक्ति पत्रकार से लेकर कलाकार का रोल अदा कर रहे हैं। बीएल संतोष ने बताया कि हमें हमेशा सार्थक भाषा का प्रयोग और असुविधा वाली भाषाओं से बचना चाहिए। हमें देश के अच्छे बुद्धिजीवियों के विचारों को सुनना चाहिए और उनका अनुपालन करना चाहिए। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया के हर वालेंटियर को समय-समय पर अपने व्यवहार और आचरण का आकलन करना चाहिए।

यह भी पढ़ें -   भराड़ीसैंण में उत्तराखंड महोत्सव के रूप में हर्षोल्लास के साथ मनायी राज्य स्थापना दिवस की 21वीं वर्षगांठ

मुख्यमंत्री ने कहा कि बीएल संतोष के प्रवास के माध्यम से संगठन को मजबूती मिल रही है। राष्ट्र के लिए नए युवाओं का निर्माण कर रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि हर मोर्चे के पदाधिकारियों का काम सरकार के कल्याणकारी योजनाओं और लाभार्थियों को निरंतर उनसे जुड़े रहना है। विभागो में जितने भी रिक्त पद हैं उनको भरने की प्रक्रिया शुरू कर दी है और अतिथि शिक्षकों का मानदेय 15000 से 25000 बढ़ाया है। पुलिस विभाग की समस्याओं का स्वयं संज्ञान लेकर एक उप समिति का गठन किया है और करोना काल में युवाओं के लिए एक साल की आयु की छूट दी है। एमबीबीएस के छात्रों की छात्रवृत्ति 17000 तक बढ़ा दी है। कोरोना काल के कारण पर्यटन के क्षेत्र में हुए नुकसान की भरपाई के लिए सरकार ने 200 करोड़ बजट की व्यवस्था की है।

यह भी पढ़ें -   21वें राज्य स्थापना दिवस पर हल्द्वानी में आप ने भाजपा और कांग्रेस से पूछे 21 सवाल, दिया सांकेतिक धरना

इस बजट के माध्यम से 165000 लोग इससे लाभान्वित होंगे। दूसरे विश्व युद्ध में सेना के शहीद परिवारों की वीरांगनाओं, शहीद परिवारों की का मानदेय 8000 से बढ़ाकर 10000 कर दिया है, सीडीएस, एनडी, पीसीएस जैसे एग्जाम की तैयारी करने वाले छात्रों के लिए 50000 तैयारी के लिए दिए जाए जा रहे हैं। कोविड-19 के कारण अनाथ हुए बच्चों या अन्य कारणों से जिनको सामना करना पड़ रहा है उन्हें वात्सल्य योजना के तहत लाभान्वित किया जा रहा है और उनके भरण-पोषण के लिए हर महा 3000 दिए जा रहे हैं। महालक्ष्मी योजना के तहत 50,000 लोग लाभान्वित होंगे।

Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *