रोजाना खाली पेट किशमिश का पानी पीने से शरीर को कई फायदे होंगे

खबर शेयर करें

समाचार सच, स्वास्थ्य डेस्क। किशमिश खाना सेहत के लिए बेहद फायदेमंद होता है, लेकिन किशमिश के पानी पीने से कई फायदे होते है। किशमिश के पानी को अपनी दिनचर्या में शामिल करना आपके स्वास्थ्य को बढ़ावा देने का एक सरल और प्रभावी तरीका हो सकता है। रोजाना खाली पेट किशमिश का पानी पीने से शरीर को कई फायदे होंगे। किशमिश हर रसोई घरों में पाया जाने वाला सिंपल-सा सूखा अंगूर, सिर्फ एक स्वादिष्ट नाश्ता नहीं है, ये असंख्य स्वास्थ्य लाभ भी प्रदान करते हैं। इन लाभों को प्राप्त करने का एक लोकप्रिय तरीका किशमिश का पानी पीना है, यह किशमिश को रात भर पानी में भिगोकर बनाया गया एक सरल मिश्रण है।

बेहतर पाचन
किशमिश फाइबर से भरपूर होती है, जो नियमित मल त्याग को बढ़ावा देकर और कब्ज को रोककर पाचन में सहायता करती है। किशमिश का पानी पीने से पाचन तंत्र को दुरुस्त करने और पोषक तत्वों के अवशोषण को सुनिश्चित करने में मदद मिल सकती है।

आयरन का लेवल बढ़ना
किशमिश आयरन का एक अच्छा स्रोत है, जो शरीर में रेड ब्लड सेल्स के उत्पादन और ऑक्सीजन परिचलन के लिए आवश्यक खनिज है। नियमित रूप से किशमिश का पानी पीने से आयरन की कमी से होने वाले एनीमिया को रोकने और ऊर्जा के स्तर को बढ़ाने में मदद मिल सकती है।

यह भी पढ़ें -   यदि घर में इस तरह बनाएंगे रोटी तो घर की बरकत चली जाएगी

हड्डियों का बेहतर स्वास्थ्य
किशमिश में कैल्शियम होता है, जो हड्डियों को मजबूत और स्वस्थ बनाए रखने के लिए एक महत्वपूर्ण पोषक तत्व है। इसके अतिरिक्त, उनमें बोरोन जैसे यौगिक होते हैं, जो शरीर को हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए आवश्यक कैल्शियम और अन्य खनिजों को अवशोषित करने में मदद करते हैं। किशमिश का पानी पीने से हड्डियां मजबूत होती हैं और ऑस्टियोपोरोसिस का खतरा कम होता है।

शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट
किशमिश फ्लेवोनोइड्स, फेनोलिक एसिड और पॉलीफेनोल्स जैसे एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर होती है, जो शरीर में हानिकारक मुक्त कणों को बेअसर करने में मदद करती है। ये एंटीऑक्सिडेंट कोशिकाओं को ऑक्सीडेटिव क्षति से बचाते हैं और कैंसर, हृदय रोग और मधुमेह जैसी पुरानी बीमारियों के खतरे को कम करते हैं।

आंखों के स्वास्थ्य में सुधार
किशमिश विटामिन ए, बीटा-कैरोटीन और ल्यूटिन जैसे दृष्टि-अनुकूल पोषक तत्वों से भरपूर है। ये पोषक तत्व आंखों के इष्टतम स्वास्थ्य को बनाए रखने, उम्र से संबंधित धब्बेदार अधरू पतन के जोखिम को कम करने और कम रोशनी की स्थिति में दृष्टि में सुधार करने में मदद करते हैं।

ब्लड शुगर के स्तर का नियमित करता
अपने मीठे स्वाद के बावजूद, किशमिश में ग्लाइसेमिक इंडेक्स कम होता है, जिसका अर्थ है कि ये उच्च ग्लाइसेमिक खाद्य पदार्थों की तुलना में ब्लड शुगर के स्तर में धीमी और स्थिर वृद्धि का कारण बनते हैं। किशमिश का पानी पीने से रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने और इंसुलिन प्रतिरोध और टाइप 2 मधुमेह के खतरे को कम करने में मदद मिल सकती है।

यह भी पढ़ें -   UK: अल्मोड़ा में नाबालिग लड़की के साथ अधेड़ ने किया रेप, पॉक्सो एक्ट के तहत केस दर्ज

हृदय स्वास्थ्य लाभ
किशमिश में पोटेशियम होता है, एक आवश्यक खनिज जो रक्तचाप और हृदय समारोह को नियंत्रित करने में मदद करता है। इनमें फाइबर और एंटीऑक्सीडेंट भी होते हैं जो सूजन को कम करके, कोलेस्ट्रॉल के स्तर में सुधार करके और धमनी प्लाक के निर्माण को रोककर हृदय स्वास्थ्य का समर्थन करते हैं।

नेचुरल डिटॉक्सिफिकेशन
किशमिश अपने प्राकृतिक रेचक गुणों के लिए जाना जाता है, जो शरीर से विषाक्त पदार्थों और अपशिष्ट को बाहर निकालने में सहायता करता है। किशमिश का पानी पीने से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने, पाचन तंत्र को साफ करने और समग्र विषहरण को बढ़ावा देने में मदद मिल सकती है।

किशमिश का पानी कैसे बनाएं
-एक गिलास या जार में मुट्ठी भर किशमिश रखें और उन्हें पानी से ढक दें।

  • किशमिश को रात भर या कम से कम 8 घंटे तक पानी में भिगो दें।
  • अधिकतम लाभ के लिए सुबह पानी को छान लें और खाली पेट पियें।
Ad Ad Ad Ad Ad
Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440