उत्तराखण्ड और यूपी के कृष्ण मंदिर में लगा भक्तों का तांता, झांकियों के माध्यम से किये बालगोपाल के दर्शन

Ad
खबर शेयर करें

समाचार सच, नैनीताल/हल्द्वानी/देहरादून/यूपी। पूरा उत्तराखण्ड और यूपी श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के रंग में रंगा हुआ है। कृष्ण मंदिर सज चुके हैं और कान्हा के दर्शन के लिए मंदिरों में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड हुई हैं। मान्यता है कि भगवान श्रीकृष्ण का अवतरण हुआ था इसलिए पूरा देश श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का उत्सव बड़े ही भक्ति भाव के साथ मनाता हैं। इधर उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ कृष्ण जन्माष्टमी के मौके पर शुक्रवार को गोरखपुर के गोरखधाम मंदिर पहुंचे। यहां पर उन्होंने नन्हे-मुन्ने बाल गोपालों के साथ जन्माष्टमी मनाई।

बता दें कि श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव भाद्रपद महीने के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को मनाया जाता है। इस हिसाब से इस 30 अगस्त को जन्माष्टमी का व्रत रखा। वहीं जो लोग रोहिणी नक्षत्र में कृष्ण जन्म मनाते हैं। लेकिन इस बार अष्टमी एवं राहिणी नक्षत्र एक ही दिन होने पर लोगों ने जन्माष्टमी पर्व 30 को ही मनाया। जबकि आज यानि 31 अगस्त मंगलवार को लोगों नंदोत्सव मनाया जायेगा। झांकियों के दर्शन हेतु आज भी सभी मंदिर खुले रहेंगे।

जन्माष्टमी में भगवान लड्डू गोपाल को झुलाया झूला, मांगी मन्नतें
देवभूमि उत्तराखंड में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर्व के दूसरे दिन भी भगवानों के दर्शन हेतु सीमित संख्या में श्रद्धालुओं को प्रवेश दिया गया। मंदिर भव्य तरीके से सजे रहे। लेकिन इस बार कोरोना संक्रमण के चलते मंदिरों में झांकियां व अन्य बड़े धार्मिक अनुष्ठान नहीं हो पाए।

हल्द्वानी में भी श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर मंदिर भव्य तरीके से सजे रहे। कोरोना संक्रमण के चलते मंदिरों में श्रद्धालु श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव सादगी स्तर पर मनाया। इस बार राज्य सरकार की गाइडलाइन चलते मंदिरों भीड़ कम देखी गयी। कुछ ने घरों में रहकर व कुश्रद्धालुओं ने भगवान श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव धूमधाम से मनाया। वहीं कुछ मंदिरों में भजन संध्या तथा झांकियों का भी आयोजन सामाजिक दूरी के बीच किया गया। सुरक्षा की दृष्टि मंदिरों के बाहर पुलिस बल तैनात रहा। साथ ही मंदिरों में मास्क व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना व सेनिटाइजर अनिवार्य किया गया था।
जबकि हल्द्वानी महानगर एवं नैनीताल जिले के कई शहरों में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर मंदिरों को विद्युत लाइटों से सजाया गया। कोरोना संक्रमण के चलते मंदिरों में उचित सामाजिक दूरी का पालन करते हुए सादगी पूर्वक कार्यक्रम हुए। इस बार मंदिरों में झांकियां नहीं सजाई गई हैं। सुबह से रात तक घरों और कई मंदिरों में भजन कीर्तन किए गए।

श्री आँवलेश्वर महादेव मंदिर में श्रद्धालुओं ने लड्डू गोपाल भगवान को झुलाया झूला
शंकर चौक स्थित श्री आँवलेश्वर महादेव मंदिर में महन्त गोपाल दत्त भट्ट सानिध्य में भक्तों ने लड्डू गोपाल भगवान को झूला झुलाया और मन्नतें मांगी। मंदिर में जहां भगवानों को विशेष वेशभूषा से सजाया गया था। वहीं मंदिर में बनायी गयी रंगोली भक्तजनों में आकर्षक केन्द्र रही। इस दौरान भक्तोें द्वारा हाथी घोड़ा पालकी जय कन्हैया लाल जयकारे की गूंज से पूरा वातावरण भक्तिमय बन गया। रात्रि 12 महन्त द्वारा महाआरती की गयी और लड्डू गोपाल भगवान को माखन व मिश्रा का भोग लगाया। तद्पश्चात भक्तों प्रसाद वितरण किया गया। इस अवसर पर मुख्य रूप से पं0 प्रमोद भट्ट, दीपू भट्ट, विशेष भट्ट, कमलेश जोशी, पंकज जोशी, कार्तिक आदि मंदिर की टीम मौजूद थे।

श्री कालू सिद्ध मंदिर में हुआ विधि-विधान से हुई पूजना अर्चना
कालाढूंगी चौराहा स्थित श्री कालू सिद्ध मंदिर में महन्त श्री कालूगिरी महाराज जी के सानिध्य में पंडितों ने विधिविधान के साथ पूजा अर्चना की गयी। इस दौरान महाराज जी ने भक्तजनों को आशीर्वाद देते हुए इस कोरोना वायरस से बचाव के लिये सामाजिक दूरी बनाने व मास्क पहनने की अपील की। इस दौरान महन्त त्रिवेणी महाराज, विजयगिरी महाराज आदि साधू-संत मौजूद थे।

प्राचीन श्रीराम मंदिर में रही टी-सीरिज कलाकारों के भजनों की धूम
हल्द्वानी महानगर के रामलीला मैदान स्थित प्राचीन श्री राम मंदिर में श्री कृष्णजन्माष्टमी पर आयोजित भजन संध्या में टी-सीरिज के कलाकारों ने भजनों के माध्यम से पूरा वातावरण भक्तिमय बना दिया। इस मौके में कलाकारों ने गाये भजनों से भक्तजनों को झूमने पर मजबूर कर दिया। भक्तजनों की मंदिर में झांकी के दर्शन को भक्तजनों की काफी भीड़ देखी गयी। रात्रि में आरती के बाद प्रसाद वितरण किया गया।

हल्द्वानी के इन मंदिरों में भी हुई पूजा अर्चना
लटुरिया आश्रम में भजन संध्या और जन्मोत्सव का कार्यक्रम रखा गया। संरक्षक सतीश चंद्र अग्रवाल, अध्यक्ष महावीर प्रसाद अग्रवाल, महामंत्री विपिन गुप्ता, कोषाध्यक्ष प्रेम गुप्ता, राजेश अग्रवाल, नीरज प्रभात गर्ग व विनय विरमानी सहित भक्तजन मौजूद रहे। श्री सत्यनारायण मंदिर, विष्णुपुरी गली स्थित दुर्गा मंदिर में भक्तजनों के लिये सुंदर झांकियों की प्रस्तुति की गयी थी। राधा कृष्ण मंदिर, रामलीला मोहल्ला स्थित प्राचीन देवी मंदिर, मंगल पड़ाव स्थित प्राचीन शिव मंदिर, पटेल चौक स्थित पिपलेश्वर महादेव मंदिर, मुखानी स्थित शिव मंदिर सहित कई मंदिरों में रात्रि 12 बजे श्रीकृष्ण भगवान को माखन व मिश्रा का भोग लगा कर आरती की गयी और भक्तजनों को माखन व मिश्रा का प्रसाद भी वितरण किया गया।

दून के मंदिर भी सजे
देहरादून में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर देहरादून में श्री टपकेश्वर महादेव, पृथ्वीनाथ महादेव समेत कई मंदिर सजाए गए हैं। श्री टपकेश्वर महादेव, पृथ्वीनाथ महादेव, श्री कालिका मंदिर मच्छी बाजार, श्री श्याम सुंदर मंदिर पटेलनगर, गीता भवन, श्री चौतन्य गौड़ीय मठ, इस्कॉन आदि मंदिरों को रंग-बिरंगी लाइटों से सजाया गया है। मंदिरों में श्रीकृष्ण का महाभिषेक हुआ व उनके परिधान बदले गये। रात को भजन कीर्तन हुये। सीमित संख्या में श्रद्धालुओं को प्रवेश दिया गया।

Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *