जिला निर्वाचन अधिकारी ने पत्रकार वार्ता में दी नैनीताल जिले में विस चुनाव सम्पन्न कराने संबंधित जानकारियां, जानने को करें क्लिक

Ad - Harish Pandey
Ad - Swami Nayandas
Ad - Khajaan Chandra
Ad - Deepak Balutia
Ad - Jaanki Tripathi
Ad - Asha Shukla
Ad - Parvati Kirola
Ad - Arjun-Leela Bisht
खबर शेयर करें

समाचार सच, हल्द्वानी। प्रदेश में आर्दश आचार संहिता लागू होने पर जिलाधिकारी/जिला निर्वाचन अधिकारी धीराज सिंह गर्ब्याल ने आगामी विधानसभा निर्वाचन 2022 के दृष्टिगत शांति पूर्ण, एंव निष्पक्ष चुनाव करने हेतु प्रेस प्रतिनिधियों के साथ रविवार को काठगोदाम सर्किट हाउस मे बैठक ली। उन्होंने प्रेस वार्ता में भारत सरकार द्वारा चुनाव गाइडलाइन की विस्तृत रूप से जानकारी देते हुए कहा कि जो भी गाइडलाईन में दिये गये निर्देशों का उल्लघंन करेगा उसके खिलाफ आपदा अधिनियम एक्ट तहत आवश्यक कार्यवाही अमल में लाई जायेगी।

जनपद में 6 विस के अन्तर्गत कुल 635 मतदान केन्द्र तथा 1005 मतदान स्थल
डीएम ने कहा कि जनपद में 6 विधानसभा के अन्तर्गत कुल 635 मतदान केन्द्र तथा 1005 मतदान स्थल बनाये गये है। 56-विधानसभा में 87 मतदेय केन्द्र 142 मतदान स्थल, 57-भीमताल 144 मतदान केन्द्र, 153 मतदान स्थल, 58-नैनीताल (अ.जा.)135 मतदान क्रेन्द्र, 164 मतदान स्थल, 59-हल्द्वानी 48 मतदान केन्द्र, 183 मतदान स्थल, 60-कालाढूंगी 121 मतदान केन्द्र, 217 मतदान स्थल तथा 61-रामनगर 100 मतदान केन्द्र, मतदान स्थल 146 स्थापित किये गये। उन्होंने बताया कि अधिसूचना जारी होने की तिथि 21 जनवरी, नाम निर्देशन 28 जनवरी, नाम निर्देशन पत्रों संवीक्षा 29 जनवरी, नाम वापसी 31 जनवरी, मतदान तिथि 14 फरवरी, मतगणना की तिथि 10 मार्च तथा 12 मार्च तक निर्वाचन प्रक्रिया सम्पन्न कर ली जायेगी।

यह भी पढ़ें -   18 अगस्त की छुट्टी कैंसिल, उत्तराखंड में 19 अगस्त को रहेगा जन्माष्टमी का अवकाश

जनपद में 37 जोन तथा 106 सैक्टर
जिलाधिकारी/जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि जनपद में 37 जोन तथा 106 सैक्टर बनाये गये है जिसमें मे लालकुऑ में 06 जोन तथा 16 सैक्टर, भीमताल में 05 जोन तथा 26 सैक्टर, नैनीताल में 08 जोन तथा 19 सैक्टर, हल्द्वानी में 5 जोन तथा 14 सैक्टर कालाढंूगी में 08 जोन तथा 16 सैक्टर तथा रामनगर में 05 जोन तथा सैक्टर 12 स्थापित किये गये है।

जनपद में 7 लाख 72 हजार मतदाता
श्री गर्ब्याल ने बताया कि जनपद में मतदाता संख्या लगभग 7 लाख 72 हजार है उन्होंने कहा कि वोटरों का नाम जोड़ने का कार्य लगातार चलता रहेगा जब तक नामाकंन की प्रक्रिया शुरू नही होती है उन्होने कहा कि चुनाव आंचार संहिता लागू होते ही जनपद के समस्त विधानसभा से सम्बन्धित दलों द्वारा लगाये गये प्रचार समाग्री को हटाने का कार्य चल रहा है। उन्होंने कहा कि राजकीय अवकाश के दौरान नामाकंन नही होगा तथा नामाकंन के दौरान नामाकंन कक्ष में 2 व्यक्तियों ही प्रवेश होंगे।

चुनाव गाइडलाइन के मुताबिक जनपद में करना होगा पालन
डीएम ने कहा कि कोरोना संक्रमण को दृष्टिगत को ध्यान में रखते हुए चुनाव गाइडलाइन के अनुसार जनपद के प्रत्येक विधानसभा में 47 जगह जूलूस निर्धारित किये है वह सम्बन्धित उपजिलाधिकारियों को जनसभा में पूर्व में ही संख्या निर्धारित करने के निर्देश दिये गये है तांकि सोशल डिस्टिेसिंग बनी रहे। उन्होंने कहा कि यदि कोविड गाइडलाइन का पालन करते हुए नही पाया गया तो सम्बन्धित रिर्टनिंग आफिसर की रिपोर्ट के आधार पर दोबारा जूलूस प्रर्दशन की अनुमति नही दी जायेगी। उन्होंने कहा कि डोर टू डोर कैम्पेन हेतु 5 लोगो की अनुमति दी गई है।

यह भी पढ़ें -   आखिर कब है जन्माष्टमी? 18 या 19 अगस्त, जानिए तारीख

प्रत्याशी ऑनलाइन तथा ऑफलाइन के जरिए कर सकता हैं नामाकंन प्रक्रिया
जिलाधिकारी ने कहा कि प्रत्याशी नामाकंन प्रक्रिया ऑनलाइन तथा ऑफलाइन भी कर सकते है। उन्हांेने बताया कि प्रत्येक विधानसभा में पोलिंग बूथ में 1 महिला एंव 2 स्मार्ट बूथ भी स्थापित किये जायेगे। उन्होंने बताया कि चुनाव आयोग के निर्देशानुसार एक पोलिंग बूथ में 1250 लोग ही मतदान करेंगे।

पेड न्यूज व विज्ञापनों पर रखी जायेगी नजर
डीएम श्री गर्ब्याल ने कहा कि पेड न्यूज व विज्ञापनों-समाचारों पर नजर रखने हेतु एमसीएमसी-मीडिया सार्टीफिकेशन एंड मॉनीटरिंग कमेटी बनाई गई है।

बैठक में मुख्य विकास अधिकारी डॉ. संदीप तिवारी, सहायक निर्वान अधिकारी प्रकाश त्रिपाठी, एएसपी हरवंस सिंह आदि अधिकारी मौजूद थे।

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440

Leave a Reply

Your email address will not be published.