जनपद प्रभारी मंत्री यतीश्वरानन्द ने हाथी से कुचलकर मरने वाली महिला के परिजनों को दी सांत्वना, दिये चार लाख सहायता राशि देने के निर्देश

Ad
Ad
खबर शेयर करें

समाचार सच, हल्द्वानी। जनपद प्रभारी मंत्री/ग्राम्य विकास एवं चीनी उद्योग मंत्री यतीश्वरानन्द ने सरकार जनता के द्वार को साकार करते हुए गत दिनों 31 अक्टूबर को कालीपुर गांव गौलापार मे श्रीमती नन्दी देवी उम्र 46 वर्ष पत्नी मदन सिह को हाथी ने कुचलकर मार दिया था के परिजनों को सांत्वना देने व ढांढस बधाने मृतक के के घर पहुंचे। उन्होंने मृतक के परिजनों को सांत्वना देते हुए मृतक की आत्मा की शान्ति कामना की।

मंत्री श्री यतीश्वरानन्द ने प्रभागीय वनाधिकारी को 8 नवम्बर (सोमवार) को 04 लाख सहायता राशि देने के निर्देश दिये। उन्होंने डीएफओ को मृतक के परिवार से एक व्यक्ति को वन प्रहरी के रूप मे रखने के निर्देश भी दिये। क्षेत्र एवं ग्रामवासियों ने बताया कि बांस बाढ़ गांव के नजदीक लगाई गई है जिससे आये दिन हाथी बांस खाने के लिए आबादी क्षेत्र मे आते रहते हैं साथ ही बाघ व अन्य जानवर भी गांवों मे विचलन करते रहते हैं, जिससे क्षेत्र मे दहशत का माहौल बना हुआ है। उन्होने बांस की बाढ का गांव से दूर कराने अथवा बांस की छटाई कराने के साथ ही सोलार फैंसिंग कराने की मांग की। जिस पर मंत्री यतीश्वरानन्द ने डीएफओ को तुरन्त बांस की छटाई कराने के साथ ही प्राथमिकता से गांव क्षेत्र मे सोलर फैंसिग लगाने के भी निर्देश दिये। उन्होने कहा कि गरीबों, असहायों की सहायता एवं समस्याओं के निराकरण करना सरकार की प्राथमिकता है। इसके लिए सरकार हमेशा तत्पर है। उन्होने कहा सरकार जनता के द्वार जाकर उनकी समस्याओं का समाधान करना हमार लक्ष्य है, सभी समस्याओं का प्राथमिकता से निदान किया जायेगा।

यह भी पढ़ें -   साथी हाथ बढ़ाना सेवा समिति ने बढ़ाये मदद को हाथ, कारागार में बंदियों के लिए लगवाया सौर ऊर्जा गीजर

इसके उपरान्त सर्किट हाउस मे गौलापार क्षेत्रवासियों ने आपदा के दौरान क्षतिग्रस्त गौलापार नहर के मरम्मत की मांग रखी। गौलापार क्षेत्र के लोगों ने मंत्री से कहा कि आपदा के दौरान क्षतिग्रस्त नहर से क्षेत्र के लगभग 45 गांवों के काश्तकारों की फसल सूख गई है। जिससे किसानों की आजीविका सिचाई नही होने से समाप्ति की ओर है। उन्होने गौलापार सिचाई नहर की शीघ्र मरम्मत कराने की मांग की। जिस पर मंत्री श्री यतीश्वरानन्द ने उपजिलाधिकारी से कहा कि वे अधिशासी अभियन्ता सिचाई से वार्ता कर पांच दिनांे के भीतर अस्थायी तौर पर नहर सुचारू की जाए ताकि किसानो की फसल को सूखे से बचा जा सके। उन्होने नहर के दीर्घकालीन आंगणन कर प्रस्ताव शीघ्र भेजने के निर्देश दिये।

यह भी पढ़ें -   हल्द्वानी में आक्रोशित कांग्रेसियों ने फूंका सीएम का पुतला

इस अवसर पर पूर्व राज्यमंत्री हेमन्त द्विवेदी, अनिल कपूर डब्बू, प्रदेश प्रवक्ता प्रकाश रावत, ध्रुव रौतेला, डा0 जेड ए वारसी, प्रमोद तोलिया, प्रधान नीरज रैक्वाल, त्रिलोक सिह नौला, राजेन्द्र तिवारी, जगदीश गंगोला, मदन सिह, दीपू सम्भल आदि मौजूद थे।

Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *