गला सूखना की समस्या को ना समझें मामूली, जान लें बचाव के देसी नुस्खे

Ad
खबर शेयर करें

समाचार सच, स्वास्थ्य डेस्क। बदलते मौसम में गला सूखने की समस्या आम देखने को मिलती है, जिसे लोग मामूली समझ इग्नोर कर देते हैं लेकिन कई बार यह संक्रमण का संकेत भी हो सकता है। दरअसल, बदलते मौसम में चलने वाली हवा के कारण गला सूखने की समस्या काफी दिखाई देती है, जिसका इलाज समय रहते होना बहुत जरूरी है।

क्यों सूखता है गला?
गले में दर्द, शरीर में पानी की कमी, वायरस इंफेक्शन या जुकाम, किसी तरह की एलर्जी, खुले मुंह से सांस लेने पर गला सूखने की समस्या हो सकती है। इसके अलावा गले सूखने के कुछ और कारण भी हो सकते हैं जैसे…

  1. मोनोन्यूक्लियोसिस बीमारी के कारण भी गला सूखने की समस्या हो सकती है, जो एक व्यक्ति से दूसरे में फैलती है।
  2. गला सूखने का कारण एसिड रिफ्लक्स भी हो सकता है, जिसमें पेट में मौजूद एसिड भोजन नली तक पहुंच जाता है। इसकी वजह से गले में जलन भी महसूस होती है।
  3. टॉन्सिलाइटिस संक्रमण के कारण भी गला सूखने की समस्या हो सकती है।
यह भी पढ़ें -   मुलेठी एक ऐसी आयुर्वेदिक औषधि है जो कई प्रकार की बीमारियों से बचाती है

गला सूखने के लक्षण

  • गला बैठना, दर्द और सूखी खांसी
  • खाना निगलने में परेशानी
  • गले में टॉन्सिल या सफेद दाग बनना
  • बुखार आना
  • सांस लेने में परेशानी होना
  • सुस्ती और ठंड महसूस करना
  • मांसपेशियों में कमजोरी और दर्द
  • शरीर में दर्द होना
  • सीने में जलन, उल्टी आना

कब बढ़ता है गला सूखने का खतरा?

  • जब बार-बार उल्टी आने लगे, खांसी
  • जरूरत से अधिक चिल्लाना
  • बार-बार गला साफ करने की आदत
  • तंबाकू और अन्य नशीली चीजों का सेवन

गला सूखने से बचाव

  1. इससे बचने का सबसे उपाय तो यही है कि आप भरपूर गुनगुना पानी पीएं। हो सके तो दिनभर में कम से कम 1-2 गर्म पानी जरूर पीएं। भोजन करने के कम से कम 30 मिनट बाद ही पानी पीएं।
  2. तंबाकू, सिगरेट आदि की आदत से जितना हो सके परहेज करें।
  3. साथ ही ज्यादा मसालेदार भोजन, ऑयली फूड्स, अधिक वसा वाले आहार और कैफीन से दूर रहें। साथ ही ऐसा भोजन ना खाएं, जिससे पेट में एसिड बनें। डाइट में हरी सब्जियां, सूप, जूस, फल आदि शामिल करें।
  4. वजन को कंट्रोल में रखें क्योंकि उससे पेट पर दबाव पड़ता है और एसिड भोजन नली में चला जाता है, जिससे गला सूखना, सीने में जलन, उल्टी जैसी मन हो सकता है।
  5. एक साथ भर पेट खाने की बजाए धीरे-धीरे छोटे मील्स लें। इससे भोजन आसानी से पच जाए और एसिड बनने की समस्या नहीं होगी।
  6. फिजिकल एक्टिविटी भी अधिक करें, ताकि भोजन पच सके। भोजन के बाद सीधा सोने ना जाएं।
यह भी पढ़ें -   देसी घी,अदरक और दालचीनी जैसे घरेलू उपायों से कम होगा माईग्रेन का दर्द, जानिए कैसे

अब जानिए कुछ घरेलू नुस्खे

  1. अदरक के रस में शहद मिलाकर और फिर एक छोटी-सी मुलेठी मुंह में रखकर चूसें।
  2. पीपल की गांठ को पीसकर उसमें एक चम्मच शहद मिलाकर खाएं।
  3. गुनगुने पानी में शहद मिलाकर पीने से भी सूखी खांसी की समस्या दूर हो जाएगी।
  4. तुलसी, दालचीनी, मुलेठी, अदरक की चाय पीने से भी आराम मिलेगा।
  5. भाप लेने से भी आपको आराम मिलेगा। पानी गर्म करके चेहरा उसके ऊपर करें और तैलिए से ढक लें।
  6. 1 गिलास दूध में 1/2 चम्मच हल्दी मिलाकर सोने से पहले पीएं।
यह भी पढ़ें -   रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करेंगे दादी मां के घरेलू नुस्खे

डॉक्टर के पास कब जाएं

  • जब गले में सूखापन के साथ जीभ पर सफेद दाग दिखे
  • गले में सुखापन, बुखार, बलगम में खून या गले में किसी गांठ
  • भोजन निगलने या सांस लेने में दिक्कत हो महसूस तो इसे हल्के में ना लें और तुरंत डॉक्टर से जांच करवाएं। ऐसे में यह समस्या बिना इलाज ठीक नहीं होगी।
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *