क्या आपको पता है जीभ के रंग भी बताते हैं आपके स्वास्थ्य के बारे में

Ad
खबर शेयर करें

समाचार सचए स्वास्थ्य डेस्क। जीभ जो आपको स्वाद का आभास कराती है। सिर्फ स्वाद पर ही इसकी पकड़ नहीं बल्कि आपकी सेहत से जुड़े राज भी यह जानती है। जीभ के रंग के आधार पर आप भी जान सकते हैं कि आपकी सेहत ठीक है या नहीं और अगर नहीं है तो आपको समस्या क्या है। रंग बदलने के पीछे कई वजह हो सकती है। जीभ के रंग से आप कई तरह की बीमारियों का अंदाजा लगा सकते हैं।

हर इंसान की जीभ एक दूसरे से अलग दिखती है। वही हेल्दी जीभ की भी कुछ खासियत है। जब आपकी जीभ सामान्य पिंक की तरह न दिखेए तब आपको सतर्क होने की आवश्यकता है। जीभ का रंग पिंक से यदि किसी भी रंग का हुआ तो वह अनहेल्दी जीभ की श्रेणी में आता है। तो आइए जानते हैं जीभ की रंग से अपनी सेहत के बारे में।

सफेद जीभ
अगर आप की जीभ का रंग सफेद है तो इसका मतलब यह है कि आपकी बॉडी डिहाइड्रेट है और ओरल हाइजीन काफी खराब स्थिति में है। लेकिन अगर यह कोटिंग कॉटेज चीज की लेयर की तरह दिखती है तो इसका मतलब आपको लिकोप्लेकिया हो सकता है जो कि स्मोकिंग की वजह से होता है। इसके अलावा सफेद जीभ फ्लू की वजह से भी होती है। ऐसी स्थिति में डॉक्टर से जरूर सलाह लें।

लाल जीभ
स्वस्थ जीभ हल्की सफेदी के साथ गुलाबी रंग की होती हैए लेकिन अगर जीभ लाल है तो इसका मतलब है कि गर्मी के कारण आपके शरीर में पानी की कमी है और इसकी वजह से ड्राई माउथ या माउथ अल्सर का खतरा बढ़ सकता है। हालांकि विटामिन बी.12 की कमी से भी माउथ अल्सर और लाल जीभ की समस्या हो सकती है। इसलिए यदि आपकी जीभ लाल है तो आप विटामिन बी.12 का सेवन करें और ढेर सारा पानी पिएं।

पर्पल जीभ
आपकी जीभ यदि पर्पल रंग की है तो इसका मतलब यह हुआ कि आपको दिल संबंधी परेशानी है या फिर शरीर में ब्लड सरकुलेशन ठीक से नहीं हो रहा है। वही पर्पल रंग की जीभ वाले लोगों कावास्की डिजीज भी देखी गई।

नीली जीभ
किसी भी व्यक्ति का नीली जीभ उसी स्थिति में होती है जब उसके शरीर में सही तरह से ऑक्सीजन की सप्लाई नहीं हो पाती। वही ब्लू टांग लंग्स संबंधी बीमारी या फिर किडनी संबंधी बीमारी की ओर इशारा करती है। यदि ऐसा लक्षण दिखे तो डॉक्टर की सलाह लेना चाहिए।

पीला जीभ
अगर जीभ में पीलापन है इसका मतलब शरीर में पौष्टिक तत्वों की कमी है। जिसे आप अपनी डाइट में बदलाव करके आसानी से ठीक कर सकते हैं। अगर आपके डाइजेस्टिव सिस्टम में कोई समस्या है या आपको लिवर या पेट की कोई दिक्कत है तो ऐसे में जीभ पर पीली कोटिंग जम जाती है। लेकिन इसके लिए आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है।

काली जीभ
अगर आपकी जीभ काला रंग का होने लगा है तो आपको सावधान होने की जरूरत है। चेन स्मोकर्स की जीभ का रंग भी काला होने लगता है। इसके अलावा कैंसरए अल्सर या फंगल इंफेक्शन होने पर भी जीभ का रंग काला होने लगता है। इस बार ओरल हाइजीन की वजह से भी जीभ पर ऐसे बैक्टीरिया बनने लगते हैंए जिससे जीभ का रंग काला होने लगता है।

ब्राउन जीभ
जो लोग ज्यादा कैफीन का सेवन करते हैं उनकी जीभ ब्राउन कलर की हो सकती है। कई स्मोकिंग करने वालों की जीभ का कलर भी ब्राउन हो जाता है। स्मोकिंग करने वाले लोगों की जीभ पर ब्राउन कलर की एक परमानेंट लेयर जम जाती है।

ऐसी समस्याओं से बचने के लिए नियमित रूप से ब्रश करें और जीभ अच्छी तरह से साफ करें ताकि जीभ के आसपास बैक्टीरिया न बने। जीभ पर जम रही गंदगी की लेयर को रोज टंग स्क्रैपर से साफ करें।

Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *