बाल दिवस के दिन ही स्कूल में हो गई आठवी के छात्र की मौत

खबर शेयर करें

समाचार सच, काशीपुर। बाल दिवस के मौके पर काशीपुर के स्कूल पंडित गोविंद बल्लभ पंत इंटर कॉलेज में आठवीं कक्षा के छात्र की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। छात्र के परिजनों ने कॉलेज के शिक्षकों पर हत्या का आरोप लगाया है। मामले के अनुसार मृतक छात्र का नाम मोक्ष गुप्ता पुत्र सुबोध गुप्ता मोहल्ला कानून गोयान का रहने वाला है।

स्कूल में छात्र की मौत की खबर मिलते ही छात्र के परिजनों व पूरे स्कूल में हड़कंप मच गया। मृतक छात्र के परिजनों ने स्कूल के प्रबंधन पर उनके पुत्र के साथ मारपीट करने और लापरवाही का आरोप लगाया है। काशीपुर के मोहल्ला कानूनगोयान में रहने वाले सुबोध गुप्ता का पुत्र मोक्ष गुप्ता पंडित गोविंद बल्लभ पंत इंटर कॉलेज का कक्षा 8वीं का छात्र था। बाल दिवस के अवसर पर रोजाना की तरह वह अपने स्कूल गया था। जहां दोपहर में मिड डे मील भोजन खाने के दौरान उसकी संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। सूचना पर पहुंचे परिजनों ने स्कूल में जमकर हंगामा काटा। परिजनों ने स्कूल के शिक्षकों पर मारपीट का आरोप लगाया है।

यह भी पढ़ें -   हल्द्वानीः काम पर निकला युवक तीन दिन से लापता, गुमशुदगी दर्ज

सूचना पर एसपी काशीपुर अभय सिंह पुलिस टीम के साथ स्कूल पहुंचे। जहां उन्होंने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है। एसपी अभय सिंह ने बताया कि छात्र के शव को कब्जे में ले लिया गया है। मामले में अभी कोई तहरीर प्राप्त नहीं हुई है। तहरीर के आधार पर आवश्यक कानूनी कार्रवाई की जाएगी। वहीं, मामले में मृतक छात्र के साथी छात्रों ने बताया कि आज मध्यान्ह भोजन में भी अच्छी डाइट बनी थी। साथ ही छात्रों ने पुलिस को बताया कि मध्यान्ह भोजन लेने के समय वह अचानक गिर गया। पुलिस ने बताया कि चिकित्सक की रिपोर्ट मिलने का इंतजार किया जा रहा है। इसके बाद ही मौत का कारण पता चल सकेगा।

वहीं, मृतक छात्र के पिता सुबोध गुप्ता ने मीडिया से बात करते हुए बताया कि उनका बेटा सुबह बिल्कुल ठीक-ठाक स्कूल गया था दोपहर में उसकी क्लास टीचर का फोन आया और बताया कि आपके बेटे को चक्कर आ गया है, वह गिर गया है। जब वह स्कूल पहुंचे तो उनके बेटे के पास उसका दोस्त था। स्कूल प्रबंधन का कोई भी पदाधिकारी और अध्यापक वहां नहीं था। उन्होंने आरोप लगाया कि उनके पुत्र के अचानक गिरने के 2 घंटे बाद उनको स्कूल प्रबंधन के द्वारा खबर की गई।
उन्होंने बताया कि जब स्कूल पहुंचे तो उनके बेटे की आंख पर चोट का निशान था। वहीं, उसके अंगुली और नाखून नीले पड़े हुए थे। उन्होंने स्कूल के अध्यापकों पर मारपीट कर उनके बेटे को मारने का आरोप लगाया है। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि स्कूल के अध्यापकों के द्वारा उनके बेटे को उनके स्कूल आने तक किसी भी डॉक्टर के पास नहीं ले जाया गया। यदि किसी डॉक्टर के पास ले जाया गया होता तो हो सकता था बेटा बच जाता। कॉलेज के प्रधानाचार्य अजय शंकर कौशिक ने कहा कि बाल दिवस के अवसर पर कॉलेज में स्कूली छात्रों के लिए विशेष भोजन का आयोजन किया गया था। अन्य बच्चों की तरह वह भी मिड डे मील का भोजन लेने गया था। तभी अचानक वह चक्कर खाकर गिर पड़ा।

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440