पांच राज्यों में चुनाव की तारीख का एलान, 10 फरवरी से लेकर 7 मार्च तक सात चरणों में होगा चुनाव, 10 मार्च को आएगा रिजल्ट

खबर शेयर करें

समाचार सच, नई दिल्ली (एजेन्सी)। चुनाव आयोग ने पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों की तारीखों की घोषणा कर दी है। 10 फरवरी से लेकर सात मार्च तक सात चरणों में विधानसभा चुनाव होंगे। वहीं 10 मार्च को मतगणना होगी।

बता दें कि उत्तर प्रदेश में 403 सीटों पर विधानसभा चुनाव कराए जाएंगे। भाजपा और सपा दोनों पार्टियों के लिए यह चुनाव अहम है। दरअसल उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव को लोकसभा चुनाव का सेमीफाइनल बताया जा रहा है। सियासी तौर पर यह राज्य वैसे भी ज्यादा मायने रखता है। सपा ने भी इस बार प्रचार में पूरी ताकत झोंक दी है। वर्तमान में भाजपा और सपा के बीच ही मुख्य मुकाबला दिखायी दे रहा है। प्रदेश में मायावती की बसपा, असदुद्दीन ओवैसी की एआईएमआईएम और अन्य कई छोटे दल भी मैदान में उतरेंगे। अब तक सपा ने कई छोटे दलों के साथ गठबंधन का ऐलान कर दिया है। पिछले चुनाव की बात करें तो उत्तर प्रदेश में एनडीए के खाते में 312 सीटें आई थीं। वहीं बसपा को 19 और सपा को 47 सीटों पर जीत हासिल हुई थी।

यह भी पढ़ें -   उत्तराखण्ड पुलिस की क्रूरता, नौकरानी को बेसुध होने तक पीटा, चौकी प्रभारी निलंबित

उत्तराखंड में 70 सीटों पर विधानसभा चुनाव होना है। वहीं सत्ताधारी भाजपा ने पिछले एक साल में ही तीन बार मुख्यमंत्री बदले हैं। ऐसे में देखना है कि जनता एक बार फिर ‘डबल इंजन’ के वादे पर विश्वास करती है या नहीं। पिछले चुनाव में भाजपा 56 सीटों के साथ प्रचंड बहुमत मिला था। वहीं कांग्रेस के खाते में मात्र 11 सीटें आई थीं।

पंजाब की 117 सीटों में पिछले चुनाव में कांग्रेस ने 77 पर जीत हासिल कर ली थी। वहीं अकाली दल-भाजपा गठबंधन को झटका लगा था और केवल 18 सीटें खाते में आई थीं। आम आदमी पार्टी को भी 20 सीटें हासिल हुई थीं। वर्तमान की स्थिति पर नजर डालें तो अब अकाली दल और भाजपा के रास्ते अलग अलग हो गए हैं। दोनों पार्टियां अलग चुनाव लड़ेंगी। वहीं कई सर्वे के मुताबिक आम आदमी पार्टी की स्थिति मजबूत हो गई है। पंजाब में सियासी ड्रामे के बीच मुख्यमंत्री रहे कैप्टन अमरिंदर को पद से हटाकर चरणजीत सिंह चन्नी को पदभार दिया गया है।

यह भी पढ़ें -   बिजली दरों में वृद्धि के प्रस्ताव पर छह जून को जन सुनवाई करेगा उत्तराखंड विद्युत नियामक आयोग

40 विधानसभा सीटों वाले गोवा भाजपा और कांग्रेस के बीच टक्कर है। पिछली बार भाजपा ने सरकार बनाई थी। हालांकि सबसे बड़ी पार्टी कांग्रेस ही बनकर उभरी थी। इस बार विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी और तृणमूल कांग्रेस भी किस्मत आजमा रही है। वहीं मणिपुर में 60 विधानसभा सीटों में से पिछली बार कांग्रेस को 28 और भाजपा को 21 सीटों पर जीत हासिल हुई थी। अन्य दलों को 11 सीटों पर जीत मिली थी।

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440

Leave a Reply

Your email address will not be published.