फाल्गुन माह 2022 का महत्व, त्यौहार और उपवास

खबर शेयर करें

समाचार सच, अध्यात्म डेस्क। फाल्गुन हिन्दू धर्म में एक मास का नाम होता है, जिसे चन्द्र हिन्दू कैलेंडर में फाल्गुन मास कहा जाता है। हिन्दू धर्म विक्रम सवंत् के अनुसार 12 महीना होता है और हिन्दू कैलेंडर का अन्तिम मास होता है। ग्रेगोरियन कैलेंडर में फरवरी व मार्च का महीना होता है। इसके बाद चौत्र का महीना आता है जिसे हिन्दू नववर्ष की शुरूआता माना जाता है।

फाल्गुन मास 17 फरवरी 2022 से शुरू हो रहा है जो 18 मार्च 2022 में समाप्त है। हिन्दू पंचाग के अनुसार प्रत्येक मास का अपना महत्व होता है इस प्रकार फाल्गुन मास का भी महत्व है। फाल्गुन मास में धीरे धीरे गर्मी की शुरूआत होती है और सर्दी कम होने लगती है। फाल्गुन के महीनें में हिन्दू धर्म का सबसे प्रसिद्ध त्योहार होली मनाई जाती है। ऐसा कहा जा सकता है कि होली के त्योहार से साथ एक सौर वर्ष ही समाप्ति होती है। सौर धार्मिक कैलेंडर में फाल्गुन का मास सूर्य के मीन राशि में प्रवेश के साथ शुरू होता है।

यह भी पढ़ें -   अनियंत्रित होकर कार खाई में गिरी, एसएसबी के दो जवानों की मौत

विक्रम संवत में फाल्गुन का महीना बारहवां महीना होता है। हिन्दू धर्म महीनों के नाम नक्षत्रों पर आधारित होते है। हिन्दू धर्म में महीना का बदलना चन्द्र चक्र पर निर्भर करता है, चन्द्रमा जिस नक्षत्र पर होता है उस महीने का नाम उसी नक्षत्र के आधार पर रखा जाता है। फाल्गुन मास की पूर्णिमा को चंद्रमा फाल्गुनी नक्षत्र में रहता है इसलिए इस मास को फाल्गुन का मास कहा जाता है। फाल्गुन मास में सूर्य मीन राशि में प्रवेश करता है।


फाल्गुन मास इस्कॉन संस्था के लिए विशेष

इस्कॉन संस्था से जुडे लोगों के लिए फाल्गुन का महीनां विशेष होता है। संत चौतन्य महाप्रभु (1486-1534) के जन्म का उत्सव मनाने वाली गौर-पूर्णिमा भी इसी फाल्गुन महीने में आती है।

फाल्गुन मास महत्व

फाल्गुन मास का हिन्दू धर्म में विशेष महत्व होता है, इस महीनें में होली, विजय एकादशी, फुलेरा दूज, महाशिवरात्रि और अन्य त्योहार मनायें जाते हैं। फाल्गुन मास में श्रीकृष्ण की पूजा के लिए विशेष फलदायी माना जाता है। इस दौरान श्रीकृष्ण के 3 स्वरूपों- बाल कृष्ण, युवा कृष्ण और गुरु कृष्ण की पूजा की जाती है। साथ ही पौराणिक मान्यताओं के अनुसार फाल्गुन के महीने में ही चंद्रदेव का जन्म हुआ था, इसलिए इस माह चंद्र देव की भी पूजा की जाती है। इस महीनें मे दान, पुण्य और तर्पण करना लाभदायक माना जाता हैं।

यह भी पढ़ें -   चोरों ने नहीं छोड़ा भगवान का दर, प्राचीन मनसा देवी मंदिर में सेंध लगाकर उड़ाया दान पात्र

फाल्गुन मास के प्रमुख व्रत और त्योहार

गणेश चतुथी व्रत – शनिवार, 19 फरवरी 2022
कालाष्टमी व्रत – बुधवार, 23 फरवरी 2022
सीता आष्टमी व्रत – गुरुवार, 24 फरवरी 2022
विजय एकादशी – शनिवार, 26 फरवरी 2022
प्रदोष व्रत – सोमवार, 28 फरवरी 2022
महाशिवरात्रि – मंगलवार, 01 मार्च 2022
अमावस्या – बुधवार, 02 मार्च 2022
फुलेरा दूज – शुक्रवार, 04 मार्च 2022
गणेश चतुथी व्रत – रविवार, 06 मार्च 2022
कामदा सप्तमी व्रत – बुधवार, 09 मार्च 2022
होलाष्टक आरंभ – गुरुवार, 10 मार्च 2022
आमलकी एकादशी – सोमवार, 14 मार्च 2022
भौम प्रदोष व्रत – मंगलवार, 15 मार्च 2022
होलिका दहन – गुरुवार, 17 मार्च 2022
होली – शुक्रवार, 18 मार्च 2022

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440

Leave a Reply

Your email address will not be published.