सिर चकराने पर तुरंत अपनाएं ये उपाय, नहीं आएगा चक्कर..

Ad
Ad
खबर शेयर करें

समाचार सच, स्वास्थ्य डेस्क। चक्कर आना या अचानकर सिर चकराना कोई बीमारी नहीं है। बल्कि यह मुख्य रूप से शारीरिक कमजोरी की निशानी होता है। हालांकि चक्कर आना कई बीमारियों का संकेत भी हो सकता है। जैसे, एनीमिया, बीपी कम होना, हार्ट का कमजोर होना, ब्रेन ट्यूमर और बहुत अधिक तनाव होना। यहां जानें, चक्कर आने पर आपको तुरंत राहत पाने के लिए क्या करना चाहिए…

चक्कर आने की समस्या
-आमतौर पर चक्कर आने की समस्या के दौरान व्यक्ति को घबराहट, जी मिचलाना, कानों में सीटी बजने जैसी आवाज लगातार सुनाई देना जैसी दिक्कतें भी होती हैं। इस दौरान कुछ लोगों में कुछ क्षणों के लिए सुनने की क्षमता चली जाती है या कानों में भारीपन का अहसास भी हो सकता है।

-चक्कर आने की इस समस्या को बिनाइनपैरॉक्सिस्मल पोजिशनल वर्टिगो कहा जाता है, जिसे शॉर्ट में बीपीपीवी कहते हैं। यह समस्या वयस्कों और बड़ी उम्र के लोगों में अधिक पाई जाती है।

समय के साथ ठीक होनेवाली समस्या
-आमतौर पर चक्कर आने की समस्या कमजोरी दूर होने के बाद ठीक हो जाती है। लेकिन यदि आपको चक्कर किसी दवाई के साइड इफेक्ट, ब्रेन में किसी समस्या या किसी अन्य रोग के कारण आ रहे हैं तो इसका समाधान केवल चिकित्सकीय उपचार द्वारा ही संभव है।

सूखा धनिया या धनिया सीड्स
-सूखा धनिया घबराहट दूर करने, चक्कर से मुक्ति दिलाने और मितली की समस्या दूर करने का एक सदियों पुराना तरीका हैं। ये शारीरिक कमजोरी दूर कर चक्कर आने की समस्या से राहत पाने का नुस्खा है।

-इसके लिए आप रात को एक चम्मच सूखा धनिया और सूखा आंवला रात को पानी में भिगोकर रख दें। सुबह इस पानी को छानकर इस पानी का सेवन करें। हो सके तो आंवला और धनिया गुड़ के साथ चबाकर खा लें।

-इससे आपका पेट साफ रहेगा और शरीर प्राकृतिक रूप से मजबूत बनेगा। आंवला और धनिया शरीर के कई विकारों को दूर करने का काम करते हैं।

अदरक की चाय पिएं
-सिर घूमने या चक्कर आने की स्थिति में आप अदरक का छोटा पीस मुंह में रखकर इसे टॉफी की तरह चूसते हुए खा सकते हैं। यदि आपको इस तरह अदरक खाने में दिक्कत आए तो आप अदरक की चाय का नियमित रूप से सेवन कर सकते हैं।

-अदरक आपके शरीर में रक्त का प्रवाह बढ़ाने का काम करेगा। यह आपके ब्रेन को रिलैक्स करते हुए इसे संतुलित करने में सहायता करेगा। साथ ही मितली और घबराहट की समस्या को दूर करने में लाभ देगा।
पुदीना पत्ती की चाय है लाभकारी

-सिर घूमना और चक्कर आने की स्थिति में आप पुदीना पत्तियों की चाय बनाकर उसका सेवन करें। आपको सिर घूमने के साथ मितली और घबराहट की स्थिति में भी आराम मिलेगा।

-पुदीना पत्तियों से चाय बनाने के लिए सूखे हुए पुदीने या हरे पुदीने की 6 से 7 पत्तियां पानी में डालकर धीमी आंच पर पकने के लिए रख दें। फिर 10 से 15 मिनट बाद इस पानी को छानकर चाय की तरह इसका सेवन करें। इसके नियमित सेवन से आपको लाभ होगा।

हर्बल-टी और काढ़ा पिएं
-1 हरी इलायची, 1 लौंग, 1 काली मिर्च, 4 तुलसी पत्ती और दो चुटकी चाय पत्ती लेकर एक कप पानी में धीमी आंच पर पकाएं। इस दौरान बर्तन को ढककर रखें। करीब 10 मिनट तक पकाने के बाद इसमें अपने स्वाद के अनुसार चीनी डालें और 2 से 3 बूंद नींबू का रस निचोड़ लें। आपकी हर्बल-टी तैयार है। दिन में दो बार इस चाय का सेवन करें। आपको लाभ मिलेगा।

-मात्र 6 से 7 दिन इनमें से कोई भी एक नुस्खा अपनाकर देखिए। यदि आपको राहत का अहसास ना हो तो आपको तुरंत डॉक्टर से मिलना चाहिए। क्योंकि इस स्थिति में आपको चक्कर आने की वजह कोई गंभीर बीमारी हो सकती है। या फिर आपके शरीर में पोषक तत्वों की बहुत अधिक कमी भी हो सकती है।

Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *