अल्मोड़ा में वनाग्नि की चपेट में आने से 4 वनकर्मियों की मौत, चार गंभीर, सीएम ने किया मृतकों के परिजनों को 10-10 लाख की आर्थिक मदद एलान

खबर शेयर करें

समाचार सच, देहारादून/अल्मोड़ा/हल्द्वानी। उत्तराखंड के अल्मोड़ा जिले में गुरुवार को बड़ा हादसा हो गया। यहां गुरुवार 13 मई को जंगल की आग का कहर देखने को मिला। यहां वनाग्नि की चपेट में आने से वन विभाग के चार कर्मचारियों की मौत हो गई। इस घटना पर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने दुःख व्यक्त किया है। वहीं सीएम पुष्कर धामी ने मृतकों के परिजनों को दस-दस लाख रुपए की आर्थिक देने का भी ऐलान किया है।

वहीं, वन विभाग के रेंजर मनोज सनवाल ने बताया कि जंगल में आग लगने की सूचना मिली थी. जिसके बाद वन विभाग के आठ कर्मचारी मौके पर पहुंचे थे। मनोज सनवाल के मुताबिक आग नीचे गधेरे से सड़क की तरफ ऊपर आ रही थी. इस दौरान वन कर्मी आग बुझाने की योजना बना ही रहे थे कि तभी तेज हवा का झोंखा आया और आग की लपटों ने विकराल रूप ले लिया। इस आग की चपेट में वन कर्मियों समेत सड़क पर खड़ा वाहन भी आ गया।

यह भी पढ़ें -   संदिग्ध परिस्थितियों में युवक की मौत, स्पोर्ट्स स्टेडियम के गेट पर अटका मिला शव

आग का तांडव इतना विकराल था कि चार कर्मियों को अपनी जान बचाने का मौका तक भी नहीं मिला और वहीं पर जिंदा जल गए। वहीं चार अन्य कर्मचारी भागने में सफल रहे है, हालांकि वो भी काफी बुरी तरह से झुलस गए, जिसमें एक की हालत गंभीर बनी हुई है।

सभी घायलों को बेस अस्पताल लाया गया, जहां प्राथमिक उपचार के बाद सभी को हायर सेंटर हल्द्वानी सुशीला तिवारी हॉस्पिटल रेफर कर दिया गया। बता दें कि अल्मोड़ा जिले में इससे पूर्व भी पांच लोग जंगल की आग में झुलस कर अपनी जान गवा चुके है। आज की इस घटना के बाद यह आंकड़ा बड़कर नौ हो गया है। बेस अस्पताल के सीएमएस अशोक कुमार ने बताया कि एक कर्मी 80 प्रतिशत तक जल चुका है, जबकि अन्य 45 प्रतिशत तक झुलस चुके हैं. सभी को हल्द्वानी रेफर कर दिया गया है।

यह भी पढ़ें -   उत्तराखण्ड में छात्र संघ चुनाव में छात्राओं को मिलेगा 50 फीसदी प्रतिनिधित्व, उच्च शिक्षा मंत्री ने कुलपतियों को निर्देश

मामले की जानकारी देते हुए अपर प्रमुख वन संरक्षक वन अग्नि एवं आपदा प्रबंधन निशांत वर्मा ने बताया कि फिलहाल प्रारंभिक सूचना यही आई है कि वन विभाग के चार कर्मचारियों जलकर मौत हो गई है। यह हादसा कैसे हुआ कब हुआ अभी इसकी सूचना ली जा रही है. कुमाऊं के तमाम बड़े अधिकारी को मौके पर भेजा गया है. इससे ज्यादा अभी कोई जानकारी उनके पास नहीं है।क्योंकि जब वन विभाग की टीम मौके पर नहीं जाती, तब तक कुछ नहीं कहा जा सकता। बता दें कि इससे पहले ही अल्मोड़ा जिले में पांच लोग वनान्गि की शिकार हो गए थे।

मृतकों के नामः दीवान राम 35 (वन कर्मी), करन आर्य- 21 (वन कर्मी), त्रिलोक मेहता-56 (वन कर्मी), पूरन मेहरा-52 पीआरडी जवान
घायल वनकर्मीः कृष्ण कुमार (21), भगत सिंह भोज (38), कैलाश भट्ट (44), कुंदन नेगी (44) (पीआरडी जवान)

Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440