नौतपा में यदि पेड़- पौधे लगा दें तो जीवन में कभी धन की कमी नहीं रहेगी

खबर शेयर करें

समाचार सच, अध्यात्म डेस्क। 25 मई 2025 शनिवार से नौतपा प्रारंभ हो गया है जो 2 जून तक चलेगा जबकि सूर्य रोहिणी नक्षत्र में 8 जून तक रहेंगे। इस दौरान सूर्य की तेज सीधे तौर पर धरती पर पड़ने से धरती का तापमान बढ़ जाता है। तापमान बढ़ने से धरती का जल खासकर समुद्र का जल वाष्पित होकर आसमान में बादल बनने की प्रक्रिया में रहता है। धरती जितनी तपेगी बादल उतने बनेंगे और तब यह कहा जा सकता है कि बारिश अच्छी होगी। यदि रोहिणी के दौरान ही बारिश होने लगे तो फिर बारिश में अच्छी बारिश की संभावना कम रहती है।

बारिश के पहले रोहिणी नक्षत्र काल या ज्येष्ठ माह में जो कि गर्मी का खास माह रहता है इस दौरान यदि आप पेड़ पौधे लगाकर उसकी 1 माह तक देखभाल करते हैं तो बहुत बड़ा पुण्य मिलता है। ऐसे में जाने की कौन से ऐसे 4 पौधे हैं जिन्हें लगाने से माता लक्ष्मी की कृपा मिलती है और जीवन में कभी भी धन की कमी नहीं रहती है। इसी के साथ ही आपकी कुंडल के ग्रह नक्षत्र भी मजबूत होते हैं।

यह भी पढ़ें -   संदिग्ध परिस्थितियों में युवक की मौत, स्पोर्ट्स स्टेडियम के गेट पर अटका मिला शव

पीपल का पेड़
पीपल का पेड़ साक्षात भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी का रूप है। इसी के साथ ही यह पेड़ पूर्वज, सूर्य एवं बृहस्पति ग्रह का सूचक भी है। नौतपा या रोहिणी नक्षत्र काल के दौरान इसे लगाकर 1 माह तक इसकी देखरेख करने से सूर्य, बृहस्पति और पितृ दोष शांत होते हैं। सभी तरह के कष्टों से मुक्ति मिलती है। पीपल का पेड़ लगाने से सभी देवी-देवता प्रसन्न होते हैं। यह पेड़ आप चाहें तो किसी मंदिर में लगाएं या घर के आसपास उचित दिशा और स्थान का चयन करके लगाएं।

शमी का पेड़
इस पेड़ को साक्षात शनि का रूप माना जाता है। इसके पत्तों को धन का प्रतीक भी माना जाता है। नौतपे में यदि आप इस पेड़ को किसी मंदिर में या घर की उचित दिशा में लगाते हैं तो घर परिवार में धन-दौलत और व्यापार में तरक्की होती है।

यह भी पढ़ें -   १४ जुलाई २०२४ रविवार का पंचांग, जानिए राशिफल में आज का दिन कैसा रहेगा आपका...

तुलसी का पौधा
यह पौधा साक्षात माता लक्ष्मी और वृंदा का रूप है। भगवान विष्णु को यह पौधा बहुत प्रिय है। यदि आप सभी तरह की समस्याओं से मुक्ति पाना चाहते हैं तो नौतपा में तुलसी का पौधा अपने घर और मंदिर दोनों जगहों पर लगाकर उसकी देखभाल करें। इससे कुंडली में अशुभ ग्रहों का प्रभाव कम होता है और कमजोर ग्रह मजबूत होते हैं।

आंवला का पौधा
पद्म, विष्णुधर्माेत्तर और स्कंद पुराण में बताया गया है कि ज्येष्ठ माह में पीपल, आंवला और तुलसी लगाने से कई गुना पुण्य मिलता है। आंवला में भी साक्षात विष्णु और लक्ष्मी का वास होता है। इन पवित्र पेड़-पौधों को लगाने से अश्वमेध यज्ञ जितना पुण्य मिल जाता है।

इसके अलावा आप चाहें तो नीम, बिल्वपत्र, बरगद, इमली और आम के पेड़ भी लगाते हैं तो जाने-अनजाने में हुए हर तरह के पाप से मुक्ति मिलती हैं। इन पेड़-पौधों को लगाने से हर तरह की समस्याओं से भी छुटकारा मिलता है।

Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440