जबड़े में दर्द या डकार तक भी हो सकते हैं ‘माइल्ड हार्ट अटैक’ के लक्षण, महसूस होने पर तुरंत जाएं

खबर शेयर करें

समाचार सच, स्वास्थ्य डेस्क। मौसम की तासीर जरा सी ठंडी होते ही हार्ट अटैक का खतरा बहुत ज्यादा बढ़ जाता है। ऐसे में अगर हार्ट अटैक से बचना है तो कुछ जरूरी बातों के अलावा इसके कुछ लक्षणों की भी जानकारी होनी चाहिए।

Ad

हार्ट अटैक की वजह हर साल दुनियाभर में लाखों लोगों की मौत हो जाती है। ऐसे में हार्ट अटैक के लक्षण तो हमने टीवी और सिनेमा के माध्यम से जान लिए हैं। जिनमे से सीने में दर्द होना, बेचौनी होना और पसीना आना शामिल है। लेकिन इसके अलावा हार्ट अटैक के कुछ ऐसे लक्षण भी हैं जिनके बारे में बहुत ही कम लोग जानते हैं।

वहीं इन लक्षणों को गंभीरता से लेना आपकी जान भी ले सकता है। इसलिए आज हम आपको माइनर हार्ट अटैक के कुछ अनसुने लक्षणों के बारे में बताएंगे। आइए जानते हैं इनके बारे में।

क्या है माइल्ड हार्ट अटैक
हार्ट अटैक वह स्थिति है जिसमें हृदय में पहुंचने वाला रक्त प्रवाह बाधित हो जाता है। इसकी वजह रक्त धमनियों में जमा फैट कोलेस्ट्रॉल होता है। ऐसे में अगर रक्त धमनियों की ब्लॉकेज को समय पर ना निकाला जाए तो इससे ऑक्सीजन की कमी हो जाती है और हार्ट टिशू खत्म होने लगते है। वहीं माइल्ड हार्ट अटैक के दौरान हृदय का केवल छोटा सा हिस्सा ही प्रभावित होता है, जो हृदय को स्थायी तौर पर नुकसान नहीं पहुंचाता।

यह भी पढ़ें -   हल्द्वानी में दशमेश पिता श्री गुरू गोबिंद सिंह जी के प्रकाश पर्व पर निकाला गया भव्य नगर कीर्तन

ऐसा इसलिए क्योंकि माइल्ड हार्ट अटैक में ब्लॉकेज एक छोटी रक्त धमनी में होती है जो कम रक्त प्रवाह के लिए जिम्मेदार होती है। इसमे धमनी पूरी तरह से ब्लड सर्कुलेशन पूरी तरह से ब्लॉक नहीं होता। जिसकी वजह से इसके लक्षण कुछ समय तक ही दिखाई देते हैं। पर इसका बिल्कुल भी अर्थ यह नहीं है कि माइल्ड हार्ट अटैक खतरनाक नहीं हो सकता। बल्कि इसकी वजह से हार्ट फेलियर, असामान्य धड़कन और दूसरे हार्ट अटैक की स्थिति पैदा हो सकती है। आइए जानते हैं इस माइल्ड हार्ट अटैक के कुछ लक्षण।

गर्दन और जबड़े में दर्द
दिल में या जबड़े में होने वाला दर्द हार्ट अटैक से जुड़ा हुआ नहीं लगता। पर यह माइल्ड हार्ट अटैक के ही लक्षण हैं। गर्दन या जबड़े के पिछले हिस्से में होने वाले दर्द को किसी भी तरह से हल्के में लेना आपकी स्थिति को बिगाड़ सकता है। खासतौर से महिलाओं के मामले में यह लक्षण सबसे ज्यादा आम हैं। इसमें दर्द जबड़े से शुरू होकर गर्दन तक फैल जाता है। यह दर्द बहुत ही अचानक होता है और इसके चेतावनी के संकेत भी दिखाई नहीं देते। साथ ही वर्कआउट सेशन के बाद अधिक खतरनाक हो सकता है।

यह भी पढ़ें -   पांच राज्यों में चुनाव की तारीख का एलान, 10 फरवरी से लेकर 7 मार्च तक सात चरणों में होगा चुनाव, 10 मार्च को आएगा रिजल्ट

हाथ में दर्द या झनझनाहट
हाथ में होने वाला दर्द या झनझनाहट माइल्ड हार्ट अटैक के ही लक्षणों में से एक हैं। आमतौर पर यह लक्षण व्यक्ति को अपने बाएं हाथ से शुरू होते हुए शरीर के निचले बाएं हिस्से तक जा सकता है। इसके अलावा इसमें आगे बढ़कर छाती और गर्दन में दर्द भी हो सकता है और नहीं भी।

पसीना आना
एक इंटेंस वर्कआउट सेशन के बाद या गर्मियों में पसीना आना बहुत ज्यादा आम बात है। लेकिन अगर अचानक बैठे – बैठे या रात के समय पसीना आने लगे तो यह हार्ट अटैक का लक्षण हो सकता है। इस लक्षण को जरा भी नजरअंदाज ना करें और तुरंत एंबुलेंस को कॉल करें।

सांस फूलना और चक्कर आना
अगर आपको महज सीढ़ियों पर चढ़ने के बाद सांस फूलने लगती है और ऐसा लगता है जैसे आप एक लंबी मैराथन दौड़ कर आए हैं, तो यह इस बात का लक्षण है कि आपका हृदय सही तरह से काम नहीं कर रहा है। सांस लेने में दिक्कत या चक्कर आने के अलावा सीने में दर्द और अन्य दूसरे लक्षण भी हार्ट अटैक की ओर संकेत हो सकते हैं। पुरुषों और महिलाओं दोनों में यह लक्षण देखने को मिल सकते हैं। हालांकि महिलाओं में इस तरह के लक्षण ज्यादा दिखाई देते हैं।

यह भी पढ़ें -   यूपी में होंगे सात चरणों में चुनाव, जानें मतदान का पूरा कार्यक्रम…

डकार, हार्ट बर्न और पेट दर्द
कई मामलों में पेट से जुड़ी कई समस्याएं भी हार्ट अटैक का लक्षण हो सकती हैं। जैसे डकार, दिल में जलन, पेट में दर्द आदि, माइल्ड हार्ट अटैक के लक्षण हो सकते हैं। यह लक्षण पुरुषों के मुकाबले महिलाओं में बहुत आम होते हैं।

हार्ट अटैक से बचने के उपाय
अगर आप एक स्वस्थ शरीर चाहते हैं तो सही भोजन का चुनाव करें और नियमित रूप से एक्सरसाइज करते रहें। इसके अलावा पूरी जीवन शैली को बदले एक तनाव रहित जीवन जिएं। साथ ही हार्ट अटैक के किसी भी लक्षण को हल्के में ना ले। लक्षण महसूस होते ही डॉक्टर से संपर्क करें।

Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *