आइए जानते हैं स्वास्थ्य के लिए लिए नाशपाती कितनी है फायदेमंद

Ad
Ad
खबर शेयर करें

समाचार सच, स्वास्थ्य डेस्क। ऐसे तो नाशपाती के फायदे कई हैं, लेकिन हम यहां इसके मुख्य फायदों के बारे में आपको जानकारी दे रहे हैं। शुरुआत करते हैं सेहत या स्वास्थ्य के लिए नाशपाती के गुणों के बारे में जानने की।
वजन कम करने के लिए नाशपाती के फायदे
बढ़ता वजन लगभग हर दूसरे व्यक्ति की समस्या बनते जा रहा है। अगर आप भी उन्हीं में से एक हैं, तो नाशपाती आपके काम का फल है। एक वैज्ञानिक अध्ययन में अधिक वजन वाली महिलाओं को 12 हफ्तों तक रोजाना तीन नाशपाती का सेवन कराया गया। परिणामस्वरूप उनके वजन में कमी दर्ज की गई। ऐसे में आप भी नाशपाती को अपने डाइट में शामिल कर बढ़ते वजन की समस्या से राहत पा सकते हैं।
कैंसर के लिए नाशपाती फल
कैंसर जैसी घातक बीमारी से बचाव करने के लिए नाशपाती फायदेमंद साबित हो सकती है। नाशपाती में यूरोसोलिक एसिड मौजूद होता है, जो मूत्राशय, फेफड़ों और भोजन-नलिका के कैंसर से बचाव करने में मदद कर सकता है। नाशपाती को नियमित रूप से खाने से, खासकर रजोनिवृत्ति के दौरान इसे खाने से महिलाओं में कैंसर का जोखिम कम हो सकता है।
दिल के लिए नाशपाती के फायदे
अगर स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं की बात करें, तो दिल की बीमारी बहुत आम हो चुकी है। बदलती जीवनशैली इसका अहम कारण है। ऐसे में अगर दिल को स्वस्थ रखना है, तो नाशपाती को अपने आहार में शामिल करें। यह उच्च रक्तचाप (हृदय रोग का कारण) और दिल के दौरे के खतरे को कम करने में मदद कर सकता है। इसलिए, अपनी डाइट में नाशपाती को जरूर शामिल करें।
डायबिटीज के लिए नाशपाती के फायदे
अगर डायबिटीज की बात करें, तो यह सर्दी-जुकाम की तरह आम समस्या बन चुकी है। एक बार अगर किसी को डायबिटीज हो जाए, तो उसे जिंदगी भर सेहत से जुड़ी अन्य समस्याओं को झेलना पड़ सकता है। ऐसे में डायबिटीज से बचाव के लिए नाशपाती का सेवन असरदार हो सकता है। इसमें एंटी-डायबिटिक गुण मौजूद होते हैं, जो डायबिटीज की समस्या से बचाव कर सकते हैं। इसके अलावा, नाशपाती में प्रचुर मात्रा में फाइबर मौजूद होता है, जो डायबिटीज के मरीजों में ब्लड ग्लूकोज की मात्रा को संतुलित रखने में मदद कर सकता है।
इम्युनिटी बढ़ाने के लिए नाशपाती के फायदे
स्वस्थ रहने के लिए रोग-प्रतिरोधक क्षमता का मजबूत रहना जरूरी है। ऐसे में इम्युनिटी बढ़ाने के लिए नाशपाती एक अच्छा विकल्प बन सकता है। नाशपाती में मौजूद एंटीआक्सीडेंट गुण रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद कर सकते हैं।
आस्टियोपोरोसिस से बचाव के लिए नाशपाती के लाभ
बढ़ती उम्र और पोषक तत्वों की कमी हड्डियों की समस्याओं का कारण बनती हैं। आस्टियोपोरोसिस उन्हीं समस्याओं में से एक है। यह कैल्शियम, विटामिन्स और मिनरल्स की कमी से होने वाली हड्डियों की बीमारी है, जिसमें हड्डियां कमजोर हो जाती हैं। इससे ये आसानी से टूट सकती हैं या कमर-पीठ में दर्द की शिकायत भी हो सकती है। ऐसे में नाशपाती के सेवन से आस्टियोपोरोसिस से बचाव हो सकता है। नाशपाती शरीर के पीएच स्तर को संतुलित करने का काम कर सकती है। इसका बोरोन (एक प्रकार का केमिकल) शरीर में कैल्शियम को बनाने में मदद कर सकता है, जिससे ऑस्टियोपोरोसिस से बचा जा सकता है।
एनर्जी बढ़ाने में मददगार नाशपाती फल

सही तरीके से काम करने के लिए शरीर को ऊर्जा की जरूरत होती है। एनर्जी के लिए नाशपाती अच्छा फल है। इसमें मौजूद पौष्टिक तत्व और एनर्जी की मात्रा शरीर को ऊर्जा प्रदान करने में मदद कर सकती है। नाशपाती के जूस को एक एनर्जी ड्रिंक की तरह सेवन किया जा सकता है। इसलिए, जब भी आपको कमजोरी महसूस हो, तो नाशपाती के जूस का सेवन कर ऊर्जा के स्तर को बढ़ा सकते हैं।
पाचन के लिए नाशपाती के फायदे
बाहरी और अधिक तेल-मसाले वाले खान-पान के कारण पेट की समस्या आम हो चुकी है। इस स्थिति में आप डाइट में नाशपाती या नाशपाती के जूस को शामिल कर पाचन तंत्र को स्वस्थ रख सकते हैं। इसमें पेक्टिन मौजूद होता है, जो एक तरह का फाइबर है। इसके नियमित सेवन से कब्ज की समस्या से आराम मिल सकता है और पाचन क्रिया स्वस्थ हो सकती है। ध्यान रहे कि अगर किसी को इर्रिटेबल बॉउल सिंड्रोम की समस्या है, तो वो नाशपाती का सेवन डॉक्टर के निर्देशानुसार ही करें, वरना उन्हें पेट दर्द, पेट खराब या गैस जैसी समस्या हो सकती है।
गर्भावस्था के दौरान नाशपाती फल
प्रेगनेंसी के दौरान खान-पान पर विशेष ध्यान रखने की जरूरत होती है। इस दौरान महिलाओं को कई तरह के पौष्टिक तत्वों की आवश्यकता होती है, लेकिन सबसे ज्यादा जो महत्वपूर्ण होता है, वो है फोलेट। यह शिशु में न्यूरल ट्यूब डिफेक्ट जैसे जन्मदोष से बचाव कर सकता है। ऐसे में नाशपाती का सेवन गर्भवती के लिए बहुत लाभकारी हो सकता है।
नोट – हालांकि, इस बारे में एक बार डॉक्टर की भी राय ले लेनी जरूरी है, क्योंकि हर महिला का शरीर और उनकी गर्भावस्था एक जैसी नहीं होती है। यदि किसी प्रेग्नेंट महिला को गेस्टेशनल डायबिटीज की परेशानी है तो भी नाशपाती का कितनी मात्रा में सेवन करना चाहिए, इसे लेकर पहले डॉक्टर या विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।
ब्लड प्रेशर या उच्च रक्तचाप के लिए नाशपाती फल
अगर आपको ब्लड प्रेशर है या आप उच्च रक्तचाप की समस्या से खुद को बचाना चाहते हैं, तो नाशपाती को अपने डाइट में शामिल करें। यह उच्च रक्तचाप की समस्या से बचाव कर आपको स्वस्थ रहने में मदद कर सकता है।
बुखार के लिए नाशपाती के फायदे
कई बार बुखार के वक्त कमजोरी की समस्या हो जाती है। ऐसे में पौष्टिक तत्वों की जरूरत होती है, जिसके लिए फलों का सेवन जरूरी होता है। कई बार लोगों को दुविधा होती है कि कौन-सा फल गुणकारी और असरदार होगा। इस स्थिति में नाशपाती लाभदायक हो सकती है। इसमें मौजूद एंटीपायरेटिक और ठंडक का गुण बुखार में काफी प्रभावी साबित हो सकता है।
सूजन के लिए नाशपाती के फायदे

सूजन को कम करने में भी नाशपाती असरदार फल साबित हो सकता है। नाशपाती में मौजूद कैरोटीन और जियाजैंथिन सूजन की समस्या पर प्रभावी रूप से काम करते हैं। इसमें मौजूद एंटी इंफ्लेमेटरी गुण सूजन से बचाव करने में मदद कर सकते हैं। इसलिए, इस गुणकारी फल को डाइट में शामिल किया जा सकता है ।
गले की समस्या से राहत के लिए नाशपाती
कई बार गर्मियों में भी गले में खराश या सांस लेने में परेशानी हो सकती है। ऐसे में नाशपाती का जूस लाभकारी हो सकता है। यह वोकल कॉर्ड के सूजन को कम कर सकता है और गले को पोषण प्रदान कर गले की समस्या से राहत दिला सकता है। अगर आप गर्मियों में गले की समस्या से बचना चाहते हैं, तो नाशपाती या नाशपाती के जूस का सेवन करें।
लिवर के लिए नाशपाती
शरीर के अन्य अंगों की तरह लिवर का स्वस्थ रहना भी जरूरी है। नाशपाती का सेवन लिवर के लिए लाभकारी हो सकता है। इसमें हेपाटोप्रोटेक्टिव गुण मौजूद होते हैं, जो लिवर को किसी भी तरह की क्षति से बचा सकते हैं। आप लिवर को सही रखने के लिए अपने आहार में नाशपाती फल को शामिल कर सकते हैं।
दर्दनाशक की तरह नाशपाती फल
नाशपाती में एनाल्जेसिक यानी दर्दनाशक गुण मौजूद होते हैं, जिससे दर्द की समस्या से राहत मिल सकती है। इसलिए, दर्द की समस्या से बचाव करने के लिए नाशपाती का सेवन कर सकते हैं।
नाशपाती फल का उपयोग –
नाशपाती खाने के फायदे तो आप जान ही चुके हैं, अब बारी आती है नाशपाती फल के उपयोग करने का तरीका जानने की। अगर आप इसका सही तरीके से उपयोग करेंगे, तो इसके गुण आपके शरीर को और जल्दी प्राप्त होंगे।

  1. नाशपाती को अन्य फलों के साथ फ्रूट सलाद के रूप में खा सकते हैं।
  2. आप एक पूरी नाशपाती नाश्ते के दौरान या नाश्ते के बाद खा सकते हैं।
  3. आप नाशपाती से डिजर्ट भी बना सकते हैं।
  4. नाशपाती के जूस का सेवन कर सकते हैं।
  5. नाशपाती को आप सैलेड या सूप के रूप में भी डाइट में शामिल कर सकते हैं।
  6. नाशपाती का फेसपैक अपने चेहरे पर लगा सकते हैं।
  7. नाशपाती का हेयर पैक बालों पर लगा सकते हैं।
    नाशपाती के नुकसान
    नाशपाती के नुकसान से हम आपको डराना नहीं, बल्कि सावधान करना चाहते हैं, ताकि आप इसके बेहतरीन स्वाद का मजा लेने के चक्कर में इसका सेवन जरूरत से ज्यादा न कर लें। नीचे जानिए नाशपाती के नुकसान के बारे में –
    -नाशपाती को छिल्के समेत खाया जा सकता है, लेकिन अगर इसके छिल्के को सही तरीके से चबाकर न खाया जाए, तो यह पेट की समस्या का कारण बन सकता है।
    -दस्त की समस्या में नाशपाती न दें, क्योंकि इससे परेशानी और ज्यादा बढ़ सकती है।
    -अगर किसी को सर्दी-जुकाम की ज्यादा परेशानी हो तो वो भी नाशपाती का सेवन ज्यादा न करें, वरना परेशानी बढ़ सकती है, क्योंकि नाशपाती की तासीर ठंडी होती है।
    -नाशपाती को काटने के बाद तुरंत उसका सेवन करें, क्योंकि कटी नाशपती कुछ देर में भूरे रंग की हो जाती है, जो नुकसानदायक है।
    -अगर किसी व्यक्ति को एलर्जी की समस्या है, तो इसका सेवन करने से पहले एक बार डॉक्टर की सलाह जरूर लें।
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *