लोकसभा को मिलेगा दस साल बाद नेता प्रतिपक्ष

खबर शेयर करें

समाचार सच, नई दिल्ली (एजेन्सी)। मौजूदा लोकसभा चुनाव में ‘इंडिया’ गुट के घटक दलों की सीटों की संख्या बढ़ने के साथ ही निचले सदन को 10 साल बाद विपक्ष का नेता (एलओपी) मिलेगा और विपक्षी नेताओं को यह भी उम्मीद है कि जल्द ही उपाध्यक्ष पद के लिए चुनाव होगा। लोकसभा में पिछले पांच साल से उपाध्यक्ष का पद रिक्त है। Lok Sabha will get leader of opposition after ten years

विपक्ष के नेता का पद मोदी सरकार के पिछले दो कार्यकाल में खाली रहा। इसकी वजह यह थी कि विपक्ष की किसी भी पार्टी के सांसदों की संख्या सदन के कुल सांसदों के 10 फीसदी नहीं थी। इसकी वजह से किसी भी दल के नेता को विपक्ष के नेता का दर्जा नहीं मिल सका। 2014 और 2019 में कांग्रेस के पास क्रमश: 44 और 54 सीटें ही थीं। इसके चलते पार्टी के नेता को विपक्ष के नेता का दर्जा नहीं मिल सका। विपक्षी दलों में कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी थी, लेकिन उसके पास जरूरी सांसदों की संख्या नहीं थी।

यह भी पढ़ें -   स्व. डॉ इंदिरा की तृतीय पुण्यतिथि पर अर्पित की भावपूर्ण श्रद्धांजलि, उनके कामों को किया याद

17वीं लोकसभा में पूरे कार्यकाल में नहीं रहा कोई उपाध्यक्ष
पांच जून को भंग हुई 17वीं लोकसभा को अपने पूरे कार्यकाल के लिए कोई उपाध्यक्ष नहीं मिला तथा यह निचले सदन का लगातार दूसरा कार्यकाल था, जिसमें कोई नेता प्रतिपक्ष नहीं था। सभी की निगाहें निचले सदन पर टिकी हैं, जहां विपक्ष का नेता चुना जाएगा और साथ ही एक उपाध्यक्ष पद चुने जाने की भी उम्मीद है। उपाध्यक्ष का पद आमतौर पर विपक्षी खेमे को मिलता है। ‘इंडिया’ गठबंधन ने संसद के लिए अपनी रणनीति पर अभी तक कोई समन्वय बैठक नहीं की है। वहीं, एक विपक्षी नेता ने कहा कि वे इस बात के लिए दबाव बनाएंगे कि इस बार उपाध्यक्ष का पद खाली न छोड़ा जाए।

यह भी पढ़ें -   अल्मोड़ा में वनाग्नि की चपेट में आने से 4 वनकर्मियों की मौत, चार गंभीर, सीएम ने किया मृतकों के परिजनों को 10-10 लाख की आर्थिक मदद एलान

तृणमूल कांग्रेस के एक नेता ने कहा, ‘बीजेपी सरकार को लोगों ने नकार दिया है, उन्होंने पिछले पांच साल में (लोकसभा) उपाध्यक्ष नहीं चुना३ उम्मीद है कि बीजेपी ने सबक सीख लिया होगा और इस बार उपाध्यक्ष चुना जाएगा।’ सत्रहवीं लोकसभा में भाजपा 303 सीटों के साथ पूर्ण बहुमत में थी और ओम बिरला को लोकसभा अध्यक्ष चुना गया था। पहली बार, पांच साल के कार्यकाल के दौरान कोई उपाध्यक्ष नहीं चुना गया। संविधान के अनुच्छेद 93 के अनुसार, लोकसभा को जल्द से जल्द दो सदस्यों को अध्यक्ष और उपाध्यक्ष के रूप में चुनना चाहिए, जब भी पद खाली हो। हालांकि, इसमें कोई विशिष्ट समय सीमा नहीं दी गई है।

Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440