उत्तराखंड में नए सत्र में MBBS छात्रों को मिलेगी खास सुविधा, जानिए क्या होगा फायदा, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री इस महीने के अंत में करेंगे लांच

खबर शेयर करें

समाचार सच, देहरादून/दिल्ली (न्यूज एजेन्सी)। उत्तराखंड में मेडिकल साइंस की पढ़ाई करने वाले छात्रों के लिए अगले सत्र से सरकार एक तोहफा देने जा रही है। यह एक ऐसा तोहफा है, जिससे राज्य की बड़ी संख्या में छात्रों को लाभ मिलेगा। अगले सत्र से उत्तराखंड में एमबीबीएस छात्र-छात्राएं हिंदी माध्यम से पढ़ाई कर सकेंगे। राज्य सूचना विभाग की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक इसकी तैयारी पूरी की जा चुकी है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ.मनसुख मांडविया इस महीने के अंत में इसको लांच कर सकते हैं। इसके साथ ही उत्तराखंड देश का दूसरा राज्य हो जाएगा, जहां छात्र-छात्राएं हिंदी माध्यम से एमबीबीएस का कोर्स कर सकेंगे

उत्तराखंड के मेडिकल एजूकेशन डिपार्टमेंट की चार सदस्यीय समिति ने इसका गहन अध्ययन किया है। समिति ने मध्य प्रदेश में लागू पाठ्यक्रम का अध्ययन करने के बाद अपना स्वयं का हिंदी पाठ्यक्रम तैयार किया था। इसके बाद इसे हेमवती नंदन बहुगुणा चिकित्सा शिक्षा विश्वविद्यालय को सौंप दिया गया, जिसने इसके कार्यान्वयन की औपचारिकताएं पूरी कीं।
राज्य के स्वास्थ्य मंत्री धन सिंह रावत ने कहा कि मंडाविया से पूछा गया है कि वह उधम सिंह नगर एम्स सैटेलाइट सेंटर के “भूमि पूजन” और हिंदी एमबीबीएस पाठ्यक्रम के शुभारंभ के लिए कब समय निकाल सकते हैं। मंडाविया ने आश्वासन दिया है कि वह जल्द ही उत्तराखंड आएंगे और दोनों कार्यक्रमों में भाग लेंगे। रावत ने कहा, “यह उन छात्रों के लिए एक बड़ा उपहार होगा जो हिंदी माध्यम स्कूलों से आए हैं।” गुरुवार को रावत ने मंडाविया से उत्तराखंड की स्वास्थ्य सुविधाओं और भविष्य की योजनाओं पर विस्तार से चर्चा की। रावत ने कहा कि एम्स सैटेलाइट सेंटर से पूरे कुमाऊं मंडल को फायदा होगा और राज्य की स्वास्थ्य व्यवस्था मजबूत होगी।

यह भी पढ़ें -   श्रावण माह 2024: सावन के दौरान सभी ग्रहों को प्रसन्न करने के लिए करें ये उपाय, दूर होंगी परेशानियां

फिलहाल उत्तराखंड में 700 सीटों वाले पांच सरकारी मेडिकल कॉलेज और 450 सीटों वाले तीन निजी मेडिकल कॉलेज हैं। राज्य में हिंदी माध्यम से मेडिकल एजूकेशन की काफी समय से मांग की जा रही थी।

यह भी पढ़ें -   श्रावण माह 2024: सावन में करें भगवान शिव का रुद्राभिषेक और पाएं ग्रह बाधाओं से मुक्ति

पिछले साल, मध्य प्रदेश सरकार ने एमबीबीएस छात्रों के लिए शरीर रचना विज्ञान, शरीर विज्ञान और जैव रसायन के लिए हिंदी में तीन पाठ्यपुस्तकें पेश कीं, जिससे यह राष्ट्रीय शिक्षा नीति, 2020 की सिफारिशों को लागू करने वाला पहला राज्य बन गया। गृह मंत्री अमित शाह ने तीन पाठ्यपुस्तकों के पहले सेट का उद्घाटन पिछले साल 16 अक्टूबर को भोपाल के लाल परेड मैदान पर किया था।

MBBS students will get special facility in the new session in Uttarakhand, know what will be the benefit, Union Health Minister will launch it at the end of this month

Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440