विधायक सुमित हृदयेश ने की सीएम व मुख्य सचिव से मुलाकात, हल्द्वानी की पांचो मलिन बस्तियों को सर्वे में शामिल करवाने की मांग

खबर शेयर करें

समाचार सच, देहरादून/हल्द्वानी। कांग्रेस विधायक सुमित हृदयेश ने शासन के सर्वेक्षण में हल्द्वानी की पांच मलिन बस्तियों को सर्वे में शामिल न किये जाने को लेकर नाराजगी व्यक्त की है। इसी संबंध में बीते मंगलवार को सुमित हृदयेश देहरादून में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी तथा मुख्य सचिव डॉ0 एसएस संधु से मुलाकात कर सर्वेक्षण में छोड़ी गयी हल्द्वानी की पांच मलिन बस्तियों को सर्वे में शामिल करवाने की मांग की है। इस दौरान नेता प्रतिपक्ष यशपाल आर्य तथा विधायक प्रीतम सिंह ने भी सीएम तथा सीएस से इस मामले को संज्ञान में लेने का आग्रह किया।

विधायक सुमित हृदयेश ने पूर्व नेता प्रतिपक्ष और वरिष्ठ कांग्रेसी विधायक प्रीतम सिंह के मार्गदर्शन में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से मुलाकात कर उत्तराखंड के नगर निकाय क्षेत्रों अंतर्गत मलिन बस्तियों के सर्वे में हल्द्वानी विधानसभा की पांच मलिन बस्तियों को सम्मिलित नहीं किये जाने पर रोष जताया और पांचो मलिन बस्तियों को उक्त सर्वे में शामिल करवाने की मांग की।

यह भी पढ़ें -   अग्निपथ योजना के विरोध में कांग्रेसियों ने किया सत्याग्रह

इधर नेता प्रतिपक्ष यशपाल आर्य और सुमित हृदयेश ने मुख्य सचिव को पत्र देकर कहा की सभी मलिन बस्तियों का सर्वे किया जाये एवं स्वामित्व चाहे राज्य सरकार का हो अथवा केन्द्र सरकार का विस्थापन की कार्यवाही राज्य सरकार द्वारा की जाये। परन्तु वर्तमान में नगर निगम द्वारा उपरोक्त मलिन बस्तियों को सर्वेक्षण में छोड़ दिया गया है, जिससे उपरोक्त बस्तियों के नागरिकों में असन्तोष है तथा भविष्य के प्रति चिन्ता व भय का माहौल भी व्याप्त है। उपरोक्त बस्तियों में गरीब तबके के लोग ही रहते हैं जिससे नगर निगम एवं जिला प्रशासन की कार्यवाही निश्चितरूप से भेदभावपूर्ण है। दोनों ने मुख्य सचिव से अनुरोध किया कि कृपया इस मामले का संज्ञान लेते हुए जिला प्रशासन को निर्देश देने का कष्ट करें जिससे गरीब परिवारों को राहत मिल सके।

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440

Leave a Reply

Your email address will not be published.