मोदी सरकार ने दी सुबह किसानों को गुड न्यूज, शाम को घर के सपने देख रहे लोगों के लिए बड़ा फैसला

खबर शेयर करें

समाचार सच, नई दिल्ली (एजेंसी)। नरेंद्र मोदी सरकार 3.0 की पहली कैबिनेट मीटिंग जारी है। जानकारी के मुताबिक, मोदी सरकार 3.0 की पहली कैबिनेट मीटिंग में आम लोगों की आवास की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए तीन करोड़ अतिरिक्त मकान बनाने में सहायता देने का फैसला लिया गया है। ये सभी मकान पीएम आवास योजना के तहत बनाए जाएंगे।

इससे पहले सोमवार सुबह प्रधानमंत्री पद संभालते ही पीएम नरेंद्र मोदी ने किसानों के हित में बड़ा फैसला किया। पीएम पद संभालने के बाद नरेंद्र मोदी ने सबसे पहले पीएम किसान से जुड़ी फाइल पर साइन किया। पीएम के इस फैसले के बाद पीएम किसान निधि की 17वीं किश्त जारी की जाएगी। मोदी सरकार के इस फैसले से करीब 9.3 करोड़ किसानों का फायदा होगा। इस फैसले के बाद किसानों को करीब 20 हजार करोड़ रुपये बांटे जाएंगे।

यह भी पढ़ें -   १८ जुलाई २०२४ बृहस्पतिवार का पंचांग, जानिए राशिफल में आज का दिन कैसा रहेगा आपका…

अधिकारियों के मुताबिक, पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि नई सरकार का पहला फैसला किसानों के कल्याण के लिए उसकी प्रतिबद्धता को दर्शाता है और आने वाले समय में सरकार किसानों और कृषि क्षेत्र के लिए और भी अधिक काम करते रहना चाहती है। पीएम किसान योजना की 17वीं किस्त कब आएगी? पीएम मोदी ने दी हरी झंडी, जानें क्या हैं फायदे, हर सवाल का जवाब

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, “हमारी सरकार किसान कल्याण के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध है। इसलिए यह उचित है कि कार्यभार संभालने के बाद हस्ताक्षरित पहली फाइल किसान कल्याण से संबंधित है। हम आने वाले समय में किसानों और कृषि क्षेत्र के लिए और भी अधिक काम करते रहना चाहते हैं।”

यह भी पढ़ें -   रामनगर में लोपिंग न करने डीएम ने जताई नाराजगी, विद्युत विभाग के अधिकारियों की लगी फटकार, आपदा प्रभावित क्षेत्रों का किया निरीक्षण

पीएम पद संभालने के बाद शाम के समय पीएम नरेंद्र मोदी ने पीएमओ के अधिकारियों को भी संबोधित किया। तीसरी बार प्रधानमंत्री का पद संभालने के बाद पीएमओ के अधिकारियों को अपने पहले संबोधन में पीएम मोदी ने कहा, “10 साल पहले हमारे देश में छवि यह थी कि पीएमओ एक पावर सेंटर है, एक बहुत बड़ा पावर सेंटर और मैं सत्ता के लिए पैदा नहीं हुआ हूं। मैं सत्ता हासिल करने के बारे में नहीं सोचता। मेरे लिए, यह न तो मेरी इच्छा है और न ही मेरा रास्ता है कि पीएमओ एक पावर सेंटर बने। 2014 से हमने जो कदम उठाए हैं, हमने इसे एक उत्प्रेरक एजेंट के रूप में विकसित करने की कोशिश की है३ पीएमओ लोगों का पीएमओ होना चाहिए और यह मोदी का पीएमओ नहीं हो सकता…”

Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440