आपदा में लापता लोगों को मृत्यु प्रमाण पत्र देने की अधिसूचना जारी

खबर शेयर करें

समाचार सच, देहरादून। ऋषिगंगा की आपदा के बाद से तपोवन सुरंग और बैराज साइट से मलबा हटाने का कार्य जारी है। हालांकि बार-बार सुरंग में हो रहा पानी का रिसाव बचाव कार्य में बाधा पैदा कर रहा है। विगत सात फरवरी को चमोली में आई आपदा में लापता लोगों को अब मृत्यु प्रमाण पत्र जारी हो सकेगा। केंद्र सरकार ने इसकी अनुमति दे दी है। प्रमाण पत्र तीन श्रेणियों में जारी होंगे। पहली श्रेणी उत्तराखंड निवासियों की है, दूसरी राज्य से बाहर के लोगों और तीसरी पर्यटक श्रेणी है। इसके बाद अब लापता लोगों की परिजनों को मुआवजा मिलने में आसानी हो सकेगी। बता दें कि 68 शव और 28 मानव अंग बरामद हो चुके हैं, 136 लोग अभी भी लापता हैं। आज सोमवार को चमोली जिले में आई आपदा का 16वां दिन है और सात फरवरी को ऋषिगंगा में आई आपदा के बाद से तपोवन सुरंग और बैराज साइट से मलबा हटाने का कार्य जारी है। हालांकि बार-बार सुरंग में हो रहा पानी का रिसाव बचाव कार्य में बाधा पैदा कर रहा है। वहीं एनडीआरएफ का कहना है कि सुरंग में 171 मीटर तक खोदाई हो चुकी है। यहां एनडीआरएफ के जवानों का लापता लोगों को ढूंढने के लिए विभिन्न स्थानों पर अभियान जारी है। रैणी में भी ऋषि गंगा के दोनों ओर मलबे में लापता की खोजबीन की जा रही है। तपोवन सुरंग से पानी का रिसाव लगातार जारी है, जिससे मलबा हटाने का कार्य भी प्रभावित हो रहा है। पानी की निकासी के लिए तीन पंप मशीनें लगाई गई हैं।

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440

Leave a Reply

Your email address will not be published.