साध्वी प्रज्ञा के सोशल मीडिया में इस वीडियो पर लोग दे रहे प्रतिक्रियाएं, कहा था-गोमूत्र इस्तेमाल से गायब हो जाती हैं संक्रमित बीमारियां

Ad
खबर शेयर करें

समाचार सच, नई दिल्ली (एजेन्सी)। भाजपा की सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर का सोशल मीडिया में एक वीडियो पर लोगों की जमकर प्रतिक्रियाएं आ रही है। इस वीडियो में भोपाल में एक कार्यक्रम में उन्होंने गोमूत्र को हाई एंटीबायोटिक बताया है। भाजपा सांसद साध्वी ने कहा कि गोमूत्र को हम पवित्र मानते हैं, कई रिसर्चर भी कहते हैं कि गोमूत्र हाई एंटीबायोटिक होता है। साध्वी प्रज्ञा के अनुसार रिसर्च के दावों का अर्थ निकालने पर हमने पाया कि गोमूत्र का इस्तेमाल करने से तमाम संक्रमित बीमारियां दूर हो जाती हैं।

यह भी पढ़ें -   अज्ञात चोरों ने ट्रक से उड़ाई बैटरी

प्रज्ञा है भोपाल की भाजपा सांसद, वर्ष 2016 से एक केस में चल रही जमानत पर
गौरतलब है कि साध्वी प्रज्ञा, मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल से बीजेपी की सांसद हैं। मालेगांव ब्लास्ट केस में मुख्य आरोपी बनाए जाने के बाद वह चर्चा में आई थीं। साल 2016 से वह जमानत पर चल रही हैं। अक्सर अपने बयानों के कारण वह सुर्खियों में भी दिखाई देती हैं।

प्रज्ञा कहती है कि मैं प्रतिदिन करती हूं गोमूत्र का सेवन
आपको बता दें कि सांसद साध्वी प्रज्ञा का यह वीडियो सोशल मीडिया पर खासा शेयर किय़ा जा रहा है। यह पहला मौका नहीं है जब उन्होंने गोमूत्र के फायदे गिनाएं हो। कोरोना काल की दूसरी लहर के दौरान बीजेपी सांसद ने बताया था कि वह कोरोना से इसलिए बची रहीं क्योंकि रोजाना गोमूत्र का सेवन करती हैं।

यह भी पढ़ें -   नगदी व सट्टा पर्ची के साथ पुलिस ने पकड़े दो सटोरिए

यूजर कर रहे हैं कमेंट-
सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर सिंह के सोशल मीडिया में इस वायरल वीडियो पर लोगों की प्रतिक्रियाएं आ रही हैं। यूजरों ने सवाल करते हुए पूछा कि यदि यह इतना लाभकारी है तो चिकित्सालयों में चिकित्सकों द्वारा क्यों इसके सेवन के लिए नहीं कहा जाता। फैक्ट चेक नाम के यूजर द्वारा कमेंट किया गया कि बेशक गोमूत्र में सोडियम, पोटैशियम, क्रिएटिनिन, फॉस्फोरस और एपिथेलियल सेल्स जैसे खनिज होते हैं लेकिन विज्ञान इस बात का समर्थन नहीं करता कि इसे पीना किसी भी तरह से सेहत के लिए फायदेमंद हो सकता है। वहीं गुरुप्रसाद इमरती नाम के यूजर का कहना है कि आप सही हों भी बिना किसी तथ्य के जनता को इसके पीने की सलाह नहीं दी जा सकती है। पहले कोई प्रमाणिक रिसर्च बताना चाहिए।

Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *