betiya

कविता : बड़ी हो चली हैं बेटियां

खबर शेयर करें

बड़ी हो रही हैं बेटियां, लगने लगा है मुझे अब डर,
अनहोनी की आशंका से घबराहट व होती है फिक्र।
जब तक नहीं पहुंचती हैं घर बेटियां, देखा रहता हूं डगर,
अखबारों की सुर्खियों को देखकर मचलने लगता है जिगर।
जब तक नहीं सुन लेता हूं, बेटियों की पापा-पापा,
खबरों को सुनकर खो बैठता हूं मन का आपा।
वन्दना व डॉली की सुरक्षा को लेकर रहता हूं परेशान,
बड़ी हो रही हैं बेटियां, लगने लगा है मुझे अब डर।
-धीरज भट्ट

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440

Leave a Reply

Your email address will not be published.