शीतला आराधना से रोगों से मुक्ति मिलने के साथ और उत्तम स्वास्थ्य की प्राप्ति होती है

खबर शेयर करें

समाचार सच, अध्यात्म डेस्क। हिन्दू पंचांग के अनुसार, चैत्र माह के कृष्ण पक्ष की सप्तमी तिथि को शीतला सप्तमी के रूप में मनाया जाता है। इस दिन श्रद्धालु व्रत रखकर पूरी विधि विधान से मां शीतला की पूजा करते हैं। ऐसा माना जाता है कि, शीतला सप्तमी व्रत से घर में सुख, शांति बनी रहती है। वहीं मां की आराधना से रोगों से मुक्ति मिलने के साथ और उत्तम स्वास्थ्य की प्राप्ति होती है। बता दें कि, मां शीतला को मां दुर्गा का ही अवतार माना जाता है।

चौत्र मास की शीतला सप्तमी को लेकर असमंजस की स्थिति बनी हुई है। चूंकि, यह तिथि 31 मार्च 2024 को आरंभ हो रही है। ऐसे में कई स्थानों पर 31 मार्च को शीतला सप्तमी मनाई जा रही है। वहीं कई लोग 1 अप्रैल को ये व्रत रखने वाले हैं। क्या है सही तिथि, किस मुहूर्त में करें पूजा? और क्या है पूजा विधि? आइए जानते हैं…

यह भी पढ़ें -   मुख्यमंत्री धामी ने पत्नी-मां के साथ खटीमा में डाला वोट, लोगों को लोकतंत्र के महापर्व में हिस्सा लेने की अपील की

सप्तमी तिथि कब से कब तक

तिथि आरंभ – 31 मार्च 2024, रविवार रात 09 बजकर 30 मिनट से
तिथि समापन – 01 अप्रैल 2024, सोमवार रात 09 बजकर 09 मिनट तक
कब रखें व्रत – उदय तिथि के अनुसार शीतला सप्तमी 1 अप्रैल को मनाई जाएगी।
शीतला सप्तमी पूजा मुहूर्त: सुबह 06 बजकर 19 मिनट से 06 बजकर 42 मिनट तक

किस चीज का लगाएं भोग
इस दिन बच्चों की दीर्घायु और अच्छे स्वास्थ्य के लिए माता शीतला की पूजा की जाती है। इस दिन देवी शीतला को ठंडे व बासी भोजन का भोग लगाया जाता है। दही, पुआ, रोटी, बाजरा नमक पारे और मठरी, हल्दी, चने की दाल आदि के साथ गन्ने के रस से बनाए गए मीठे चावल को शीतला माता को चढ़ाया जाता है।

यह भी पढ़ें -   उत्तराखंड में 11 बजे तक कुल 24.83 फीसदी मतदान हुआ है, हरिद्वार और नैनीताल-उधमसिंह नगर हैं अव्वल

इस विधि से करें पूजा

  • सबसे पहले सुबह जल्दी उठकर ठंडे पानी से नहाएं।
  • व्रत का संकल्प लें और शीतला माता की पूजा करें।
  • पूजा और स्नान के वक्त ‘हृं श्रीं शीतलायै नमः’ मंत्र का मन में उच्चारण करते रहें, बाद में कथा भी सुनें।
  • माता को भोग के तौर पर रात को बनाए मीठे चावल आदि चढ़ाएं।
  • आटे से बना दीपक, रोली, वस्त्र, अक्षत, हल्दी, मोली, होली वाली बड़कुले की माला, सिक्के और मेहंदी रखें।
  • दोनों थालियों के साथ में ठंडे पानी का लोटा भी रख दें।
  • अब शीतला माता की पूजा करें।
  • मंदिर या घर में पूजा के बाद होलिका दहन वाली जगह पर भी जाकर पूजा करें, वहां थोड़ा जल और पूजन सामग्री चढ़ाएं।
  • यदि पूजन सामग्री बच जाए तो गाय या ब्राह्मण को दे दें।

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440