हत्या से पहले किशोरी के साथ किया गया था सामूहिक दुष्कर्म, दोनों आरोपियों को भेजा जेल

Ad
खबर शेयर करें

समाचार सच, हल्द्वानी। किशोरी हत्याकांड का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। इस मामले में दो आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। दोनों ने दुष्कर्म करने के बाद किशोरी की हत्या की थी। पुलिस ने दोनों को कार्यवाही के बाद जेल भेज दिया है।

बता दें कि मोहम्मदी मस्जिद इंदिरा नगर में रहने वाली 15 वर्षीय किशोरी 29 सितंबर की दोपहर से लापता थी। परिजनों ने उसकी हर जगह ढूंढ खोज की लेकिन कहीं सुराग नहीं लग पाया। हार कर परिजनों ने बनभूलपुरा थाने में उसकी गुमशुदगी दर्ज करा दी। इतना ही नहीं किशोरी की मां ने किशोरी के दानिश के साथ होने की बात कही तो पुलिस ने दानिश को पूछताछ के लिए उठा लिया। उससे गहनता से पूछताछ हुई लेकिन केाई नतीजा नहीं निकल पाया। सीसीटीवी कैमरे में किशोरी दानिश व जीशान नामक युवक के साथ दिखी। पुलिस ने जीशान को पूछताछ के लिए उठा लिया। जब जीशान से पूछताछ हुई तो उसने पूरा राज उगल दिया। इस आधार पर बीते दिवस किशोरी का शव बरामद किया गया।

यह भी पढ़ें -   कोरोनावायरस को निष्क्रिय कर सकता है शाइकोकन वायरल डिफेंस सिस्टम

मामले में जानकारी देते हुए एसएसपी प्रीति प्रियदर्शिनी ने बताया कि मामले में आरोपी मो. दानिश पुत्र मो. दिलशाद निवासी वार्ड नंबर 31 मोहम्मदी चौक इन्द्रानगर व जीशान पुत्र नसीम अन्सारी निवासी एक मीनार के सामने बड़ी रोड इन्द्रानगर को गिरफ्तार किया गया है। पूछताछ में दोनों ने बताया कि दानिश का गुमशुदा से पूर्व से प्रेम प्रसंग रहा था। घटना वाले दिन दानिश ने अपने दोस्त जिशान को भेजकर किशोरी को हिमालय स्कूल के सामने सड़क पार बनी पुलिया के नीचे बुलाया। जहां पहले से मौजूद दानिश ने किशोरी के साथ शारीरिक संबंध बनाये। इसके बाद वह उस पर जिशान के साथ भी शारीरिक संबंध बनाने का दबाव बनाने लगा। किशोरी के इनकार करने पर जिशान ने जबरन किशोरी के साथ दुष्कर्म किया।

यह भी पढ़ें -   प्रधानमंत्री ने राज्यों और केन्द्रशासित प्रदेशों के 35 पीएसए ऑक्सीजन संयंत्रों को किया समर्पित, पीएसए ऑक्सीजन संयंत्र अब देश के सभी जिलों में हुए चालू

किशोरी ने सामूहिक दुष्कर्म की बात अपने परिजनों को बताकर दोनों को जेल भिजवाने की धमकी देने पर दोनों ने उसे जान से मारने की ठानी। जिशान ने गुमशुदा के हाथ पकड़े और दानिश ने किशोरी के ही दुपट्टे से रस्सी का फंदा बनाकर उसका गला घोंट दिया। फिर दोनों ने गुमशुदा को उठाकर गौला जंगल की तरफ गन्दे पानी के नाले फेंक दिया और जूट के गद्दे से दबा दिया। इसके अलावा किशोरी के कपड़े भी घटनास्थल से कुछ दूर झाड़ियों में छिपा दिया। पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ धारा 363/376(3)/376 डीए/302/201/34 आईपीसी व पॉस्को एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस ने दोनों को कार्यवाही के बाद जेल भेज दिया है।

यह भी पढ़ें -   प्रियंका गांधी की गिरफ्तारी से कांग्रेस के कार्यकर्त्‍ता आक्रोशित

सफलता प्राप्त करने वाली टीम में एसओ प्रमोद पाठक, एसआई दीवान सिंह बिष्ट, कुसुम रावत, अमर पाल, कांस्टेबल संजय साहनी, अमनदीप सिंह, दिलशाद हुसैन, मदन सिंह, हरिकृष्ण मिश्रा, सुनीता सीपाल, पुनीता पाठक शामिल रहे।

Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *