हल्द्वानी के मेडिकल चौकी के बेरिक में सिपाही ने फांसी लगा कर की आत्महत्या

Ad
खबर शेयर करें

समाचार सच, हल्द्वानी। महानगर के मेडिकल पुलिस चौकी के बेरिक में एक सिपाही ने गुरूवार को आत्महत्या कर ली है। बेरिक में गले में रस्सी के फंदा लगा हुआ शव पड़ा मिला हैं। शव के पास ही शराब की बोतल भी पड़ी मिली है। जिससे माना जा रहा है कि वह शराब का आदि था। शायद नशे के कारण के उसने आत्महत्या की है। मृतक सिपाही भोटिया पड़ाव चौकी में तैनात था। वर्तमान में अपनी 12 दिन की छुट्टी पूरी करने के बाद भी ड्यूटी ज्वाइन नहीं की थी। सूचना पर कोतवाल पुलिस फोर्स और अधिकारी मौके पर पहुंचे और जांच पड़ताल की। इधर सूचना देने पर परिजनों कहना है कि उनके आने के बाद ही शव को घटना स्थल से ना उठायें।

जानकारी के अनुसार गुरूवार की सुबह सोमेश्वर निवासी 53 वर्षीय दलीप बोरा पुत्र वीर सिंह बोरा का शव बरेली रोड स्थित मेडिकल चौकी के पीछे बने बेरिक में मिला। जिससे चौकी परिसर में हड़कंप मच गया। दलीप के गंले में रस्सी का फंदा लगा हुआ था और कुंडे से टूटी हुई रस्सी भी मिली है। शायद फांसी लगाते समय दलीप का भार ज्यादा होने की वजह से कुंडे से रस्सी टूट गयी होगी।
सूचना पर पुलिस कप्तान श्रीमती प्रीति प्रियदर्शनी ने कोतवाल मनोज रतूड़ी व मेडिकल चौकी प्रभारी मनवर सिंह के साथ मौके पहुंच कर जांच पड़ताल की। घटना स्थल पर हल्द्वानी फूलचौड़ निवासी मृतक के चचेर भाई व भाभी भी मौके पर पहुंच गये हैं। सूचना पर मृतक के परिजनों में कोहराम मच गया है। परिजनों कहना है कि उनके सोमेश्वर से यहां पहुंचने के बाद ही शव को घटना स्थल से उठायें जाये। पुलिस के अनुसार मृतक सिपाही नशे का आदि बताया जा रहा है। पुलिस कप्तान श्रीमती प्रियदर्शनी का कहना है कि मौत का सही कारण पोस्टमार्टम की रिपोर्ट के बाद ही पता चल पायेगा। फिलहाल जांच चल रही है।

यह भी पढ़ें -   उत्तराखंड में एनएसए लागू, जिलाधिकारी कर सकते हैं 31 दिसंबर तक शक्तियों का इस्तेमाल

दीपक का 11 जुलाई को वेतालघाट से हल्द्वानी तबादला हुआ था
पुलिस के अनुसार दलीप बोरा का विगत 11 जुलाई को वेतालघाट से हल्द्वानी कोतवाली के लिये तबादला हुआ था। कोतवाली से उसे भोटिया पड़ाव चौकी में तैनात किया गया था। वेतालघाट से तबादला होने के बाद से 9 दिन से गैर हाजिर रहा था। उसके बाद यहां 26 जुलाई से 12 दिनों के लिये छुट्टी पर चले गये थे। छुट्टी खत्म होने बाद से उन्होंने अभी तक ड्यूटी ज्वाइन नहीं की थी। बताया जा रहा है कि दलीप 2003 में भी अपनी आदतों के कारण बर्खास्त भी हुए थे।

यह भी पढ़ें -   अब उत्तराखण्ड में 19 अक्टूबर तक बढ़ाया कोरोना कर्फ्यू, नई गाइडलाइन जारी....

दलीप ने अपने दोस्त के बेरिक में की आत्महत्या
यहां दलीप बोरा अपने एक साथी सिपाही लक्ष्मण के मेडिकल चौकी के बेरिक में रह रहे थे। लक्ष्मण मेडिकल चौकी में तैनात हैं। उसका दोस्त था। पूर्व में कावड़ मेले में लगी ड्यूटी के दौरान लक्ष्मण के साथ उसकी दोस्ती हुई थी। घटना के वक्त उनका साथी लक्ष्मण मौजूद नहीं था। वह छुट्टी पर अपने घर गया था।

यह भी पढ़ें -   लखीमपुर खीरी घटना को लेकर आप कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन कर फूंका भाजपा सरकार का पुतला

मृतक दलीप अपने पीछे पत्नी व तीन बच्चे रोते बिलखते छोड़ गया
मृतक दलीप अपने पीछे पत्नी व तीन बच्चों को रोते बिलखते छोड़ गया हैं। पत्नी का नाम मीना बोरा है। तीन बच्चों में सबसे बड़ा पुत्र रवि, कवि और छोटी पुत्री गीता है।

Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *