सर्दी में आंवला खाने के हैं इतने जबरदस्त फायदे, जानें आयुर्वेद के अनुसार कैसे करें सेवन

Ad
Ad
खबर शेयर करें

समाचार सच, स्वास्थ्य डेस्क। खाने-पीने की जब भी बात आती है, तो मौसम का अहम रोल होता है। जैसे, अक्सर लोग इस बात को लेकर दुविधा में रहते हैं कि सर्दियों में कौन-सी चीजें नहीं खानी चाहिए या गर्मियों में जो चीजें वे फिट रहने के लिए खाते आ रहे हैं, क्या ठंड में उनका सेवन छोड़ देना चाहिए? आंवले के बारे में भी ज्यादातर लोग सोचते हैं कि ठंड में आंवला नहीं खाना चाहिए लेकिन आयुर्वेद के अनुसार ठंड के मौसम में आंवले का सेवन आपको कई बीमारियों से बचाता है। आंवला जिसे इंडियन गूसबेरी भी कहा जाता है, हमारे स्वाथ्यय के लिए बेहद फायदेमंद है। आइए, जानते हैं ठंड में आंवला खाने के फायदे-

ये सर्दियों में इम्युनिटी को बढ़ाने में मदद करता है। ये बालों के झड़ने, एसिडिटी, वजन बढ़ने और अन्य समस्याओं को दूर करने में मदद करता है जो आमतौर पर इस मौसम में होती हैं। आइए जानें इसके फायदे।
सर्दी के मौसम में आंवला खाने के फायदे

इम्युनिटी बढ़ाता है आंवला
सर्दियों में आंवले का सेवन करने से कई फायदे मिल सकते हैं। आंवला च्यवनप्राश खाने से आपके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। ये सर्दी, जुकाम और खांसी जैसी सामान्य सर्दी की समस्याओं को दूर रखने में मदद करता है। ये आपके शरीर को डायबिटीज, कैंसर, हृदय रोगों से लड़ने में भी मजबूती प्रदान करता है।

यह भी पढ़ें -   कच्चा प्याज खाने के हैं ये 10 स्वास्थ्य लाभ

कब्ज से राहत
ठंड के मौसम में कब्ज की समस्या काफी आम है। कब्ज को दूर रखने में आंवला मददगार हो सकता है। ये किसी भी पेट संबंधित समस्या को दूर कर आपके पेट को स्वस्थ रखता है।

बालों के झड़ने की समस्या में मदद करता है
सर्दियों में एक और आम समस्या बालों का असामान्य रूप से गिरना है. अपने गुणों के कारण आंवला बालों को जड़ों से मजबूत करता है, जिससे बालों का झड़ना रुक जाता है। ये न सिर्फ बालों को पोषण देता है बल्कि उन्हें मजबूत भी बनाता है।

स्किन और बालों को रखें स्वस्थ
आंवला आपकी त्वाचा और बाल दोनों के लिए अच्छा है। यह बालों के लिए टॉनिक का काम करता है क्योंकि यह रूसी से लेकर बालों के झड़ने की समस्या को रोकता है। इससे बालों की ग्रोथ में सुधार होता है। वहीं त्वचा की बात की जाए, तो आंवला सबसे अच्छा एंटी एजिंग फल है।

आंवला कैसे खाएं
आप सर्दियों में आंवला के चूर्ण का सेवन कर सकते हैं। गर्म पानी और शहद में एक चम्मच आंवला पाउडर मिलाएं। इसके नियमित सेवन से आप कई तरह की बीमारियों से बचे रहेंगे। आप आंवले के जूस का भी सेवन कर सकते हैं। एक कप गर्म पानी में एक चम्मच आंवले का रस मिलाकर पिएं। आप आंवला का अचार या मुरब्बा भी खा सकते हैं। इसका स्वाज बेहतर होता है. ये आपके समग्र स्वास्थ्य को बनाए रखने में उतने ही प्रभावी हैं।
आंवला कैंडी भी बना सकते हैं। इसके लिए आंवले को छोटे-छोटे टुकड़ों में काट कर धूप में सुखा लें। जब पानी सूख जाए तो इन टुकड़ों को एक कंटेनर में भरकर रख लें। आप दिन में किसी भी समय आंवला कैंडी का आनंद ले सकते हैं।

यह भी पढ़ें -   कच्चा प्याज खाने के हैं ये 10 स्वास्थ्य लाभ

बॉडी को डिटॉक्स करता है आंवला
आंवला एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर होता है और बॉडी को डिटॉक्स करने में मदद करता है। इसके अलावा शरीर की इम्यूनिटी यानी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में भी मदद करता है। आंवला खाने का सबसे अच्छा समय सुबह होता है। यह शरीर से अतिरिक्त विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है।

विटामिन सी से भरपूर होता है आंवला
आंवला विटामिन सी का काफी अच्छा स्रोत है। इसमें एक संतरे की तुलना में 8 गुना अधिक विटामिन सी होता है और 1 आंवले में संतरे से 17 गुना अधिक एंटीऑक्सिडेंट होता है। विटामिन सी के साथ-साथ यह कैल्शियम का भी एक समृद्ध स्रोत है। यह आपको कई मौसमी बीमारियों से दूर रखने के साथ-साथ सर्दी या खांसी में भी राहत दिलाता है।

यह भी पढ़ें -   कच्चा प्याज खाने के हैं ये 10 स्वास्थ्य लाभ

वायरल इंफेक्शन से बचाव
आंवला में एंटीऑक्सिडेंट और विटामिन सी आपके मेटाबॉलिज्मह को बढ़ावा देने और सर्दी और खांसी सहित वायरल और बैक्टीरियल बीमारियों को रोकने में मदद करता है। आंवले का कसैला स्वाद ही आपकी सेहतमंद रखता है इसलिए आप इसकी कैंडी या फिर आंवला, गुड़ और सेंधा नमक के मिश्रण से तैयार करके सेवन कर सकते हैं।

इस तरह इस्तेमाल करें आंवला
आयुर्वेद के अनुसार यदि आप रोज सुबह आंवले का रस शहद के साथ पीते हैं, तो आप दमकती हुई और स्वस्थ त्वचा पा सकते हैं। 2 चम्मच शहद के साथ 2 चम्मच आंवला पाउडर मिलाकर इसका सेवन भी कर सकते हैं। आप इसे दिन में तीन से चार बार ले सकते हैं। इस उपाय को प्राचीन काल से इस्तेमाल किया जाता है।

Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *