महिलाओं को सम्मोहित कर जेवरात ठगने वाले दो आरोपी गिरफ्तार

Ad
Ad
खबर शेयर करें

समाचार सच, हल्द्वानी। पुलिस ने महिलाओं को झांसे में लेकर जेवरात ठगने वाले दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। उन्हें कार्रवाई के बाद न्यायालय में पेश किया गया है।

बता दें कि बीती 3 सितम्बर को मोटाहल्दू निवासी भगवती पांडे अपनी रिश्तेदार कमला कबड्वाल के साथ सुयालबाड़ी जाने के लिए नैनीताल रोड पहुंची। यहां डीएम कैंप कार्यालय के समक्ष कार सवार ठगों ने उन्हें वाहन में बैठाया और झांसे में लेकर मंगलसूत्र ठग लिये। इसका पता महिलाओं को तब चला जब उन्होंने घर जाकर लिफाफा खोला। इस मामले में भगवती पांडे के पुत्र कमल ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई। पुलिस ने मामला दर्ज कर ठगों की तलाश शुरू कर दी। इसके लिए घटनास्थल के आस-पास लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगालने के साथ ही मुखबिर तंत्र को अलर्ट किया गया। जिसके आधार पर दो ठगों को गिरफ्तार कर लिया गया। ठगों ने पुलिस को अपने नाम मो. इसान पुत्र स्व. दुल्हे खां निवासी छिपीटोला, थाना किला, बरेली व मो. नासिर उर्फ गुड्डू मछैना पुत्र मो. साबिर हुसैन निवासी मोतीलाल बजरिया थाना किला, बरेली बताये हैं।

यह भी पढ़ें -   महावीर चक्र विजेता अनुसूया प्रसाद को कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी ने दी श्रद्धांजलि

मामले का खुलासा करते हुए एसपीसिटी डॉ. जगदीश चन्द्र ने बताया कि पकड़े गये ठगों के पास से दो मंगलसूत्रों के अलावा घटना में प्रयुक्त कार संख्या यूपी 25एडब्ल्यू-2050 बरामद की गई है। पूछताछ में दोनों ने बताया कि वह रोडवेज व केमू स्टेशन के आस-पास पर्वतीय क्षेत्रों को जाने वाले यात्रियों को वाहन में बैठाते थे और झांसे में लेकर जेवरात ठग लेते थे। इस कार्य को वह अपने साथियों शावेज व इकरार के साथ अंजाम देते थे। पुलिस दोनों फरार ठगों की गिरफ्तारी को भी दबिश दे रही है। एसपीसिटी ने यह भी बताया कि पकड़े गये ठगों का अन्तर्राज्यीय गिरोह है। जो हल्द्वानी, रूद्रपुर व हरिद्वार में कई वारदातों को अंजाम दे चुके हैं। पुलिस पकड़े गये ठगों का अपराधिक इतिहास भी खंगाल रही है। ठगों को कार्यवाही के बाद न्यायालय में पेश किया है। सफलता प्राप्त करने वाली टीम में कोतवाल अरूण सैनी, एसआई रविन्द राणा, कांस्टेबल इसरार अहमद, इसरार नवी, सुरेंद्र सिंह, दिवान सिंह कोरंगा, ममता कश्यप शामिल रहे।

Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *