हल्द्वानी में वन प्लस मोबाईल शोरूम के शटर काटकर लाखों के मोबाइल चोरी करने वाले गैंग का पर्दाफाश, घोड़ासहन गिरोह के दो बदमाश गिरफ्तार

खबर शेयर करें

समाचार सच, हल्द्वानी। पुलिस ने नैनीताल जिले के हल्द्वानी महानगर में वन प्लस शोरूम के शटर काटकर लाखों के मोबाइल चोरी करने वाले गैंग का पर्दाफाश किया है। पुलिस ने घोड़ासहन गिरोह के दो बदमाश गिरफ्तार किये हैं। पुलिस ने इनके कब्जे से चोरी का कुछ माल यानि छः मोबाइल बरामद किये है। आपको बता दें कि नैनीताल रोड चर्च कम्पाउण्ड के पास स्थित वन प्लस मोबाइल शोरूम का शटर काटकर 9 सितम्बर देर रात को अज्ञात चोरों ने 163 मोबाइल तथा गल्ले से करीब डेढ़ लाख रुपये की चोरी कर लिए थे। सूचना के बाद शोरूम के स्वामी विष्णु खण्डेलवाल पुत्र आनन्द प्रकाश खण्डेलवाल निवासी ट्रस प्रकाश एकले बाईपास रोड आगरा हाल चर्च कम्पाउण्ड नैनीताल रोड की लिखित तहरीर आधार पर भोटिया पड़ाव चौकी प्रभारी हरेन्द्र चौधरी ने मुकुदमा दर्ज किया था। जिसमें पुलिस ने युद्ध स्तर में कार्रवाई कर उक्त मामले का खुलासा आज कर दिया।

रविवार को बहुद्देशीय भवन में आयोजित पत्रकार वार्ता में मामले का खुलासा करते हुए डीआईजी डॉ निलेश आनन्द भरणे ने बताया कि बीती 8 सितम्बर को नैनीताल रोड के वन प्लस मोबाइल शोरूम में हुई घटना के बाद घोड़ा सहन गिरोह के सदस्यों की तलाश की जा रही थी। इसके लिए पुलिस की पांच टीमें लगाई गई। इन टीमों को बाहरी शहरों में भी भेजा गया। इस बीच पता चला कि घोड़ा सहन गैंग मध्य प्रदेश के इंदौर में घड़ी के शोरूम में भी हाल ही में इस तरह की घटना को अंजाम दे चुका है। इस पर बिहार गई टीम ने इनपुट दिया कि गैंग उत्तराखंड में फिर से वारदात को अंजाम देने की फिराक में है। इसके कुछ सदस्य काशीपुर रामनगर क्षेत्र के बड़े मोबाईल शोरूम की रैकी करने के लिए आने वाले हैं। इसे आधार बनाते हुए पुलिस ने गिरोह के नईम देवान पुत्र मुन्ना देवान व विक्रम पुत्र प्रेम चन्द्र प्रसाद निवासी हसननगर घोड़ासहन मोतीहारी बिहार को गिरफ्तार कर लिया गया। इनके कब्जे से चोरी के 164 में से 6 मोबाइल फोन भी बरामद किए गए हैं। पूछताछ में दोनों ने बताया कि गैंग में 8 से 10 सदस्य हैं। गैंग में से मोबिन, राजन व नईमुद्दीन रैकी का काम करते हैं। इसके बाद गिरोह के अन्य सदस्य वारदात करने पहुंच जाते हैं। हल्द्वानी में भी गैंग के नईम देवान, जीतू उर्फ चूना, मोबीन, नईमुद्दीन, राजन, अर्जुन, रोशन व विक्रम शामिल रहे हैं।
वार्ता में डीआईजी के साथ एसएसपी पंकज भट्ट, एसपी सिटी हरबंश सिंह तथा सीओ भूपेन्द्र सिंह मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें -   उत्तराखण्ड में यहां खेत में संदिग्ध अवस्था में मिला 13 वर्षीय किशोर का शव, 6 दिन से था लापता

इस गैंग ने हल्द्वानी में चोरी से पहले इन्दौर के घड़ी शोरूम में जोरी की घटना को दिया अंजाम
पूछताछ के दौरान गिरफ्तार अभियुक्तों बताया है कि वे दोनों घोड़ासहन के जीतू गैंग के सदस्य हैं। इनके द्वारा बताया गया है कि हमारे गैंग में 8 से 10 आदमी हैं हमारे गैंग में से मोबिन, राजन व नईमुद्दीन जहाँ घटना करनी होती हैं वहाँ 2-3 दिन पहले रैकी कर लेते हैं। हल्द्वानी में चोरी की वारदात करने से पूर्व 1 सितम्बर को इन्दौर के घड़ी के शोरूम में चोरी की घटना को अन्जाम दिया गया था जहाँ से मिले माल को जीतू ने अपने आदमियों की सहायता से नेपाल भेज दिया गया, इसके बाद मोबिन, राजन व नईमुद्दीन ने हल्द्वानी में घटना से करीब 2-3 दिन पूर्व हल्द्वानी आकर मोबाईल की दुकानों की रैकी की थी। 8 सितम्बर को गैंग के 8 सदस्य क्रमशः नईम देवान, जीतू उर्फ चूना, मोबीन, नईमुद्दीन, राजन, अर्जुन, रोशन व विक्रम दिल्ली आनन्द विहार से वाल्वो बस से हल्द्वानी आये और रात में हल्द्वानी पहुंच कर चोरी की वारदात को अंजाम दिया और शीघ्र ही रोडवेज में बस से दिल्ली रवाना हो गये।

यह भी पढ़ें -   बदलते मौसम में कई तरह की स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याओं को दूर करने में अदरक और चुकंदर का जूस बेहद फायदेमंद

जानिए इस गिरोह की कार्यप्रणालीः

  • घोड़ासहन गिरोह अधिकतर मोबाईल शोरूम एवं महंगी घडियों, शर्राफा व महंगे इलेक्ट्रानिक उपकरण के शोरूम को ही अपना निशाना बनाते हैं।
  • घोड़ासहन गिरोह के सदस्यों द्वारा चादर फैलाकर उसकी आड़ इस तरह खड़े हो जाते हैं कि वहाँ से कोई गुजरे तो पर्दे की वजह से उसका ध्यान शटर पर न जाये एवं शोरूम के शटर को उठा लेते हैं व ऐसे शोरूम को चिन्हित करते हैं जिनके शटर में सेंट्रल लॉक न हो, इसके उपरान्त गिरोह के 1-2 सदस्य शोरूम के अन्दर चले जाते हैं बांकी आसपास निगरानी करते हैं चोरी का काम पूरा होने पर बाहर खड़े सदस्य फिर से चादर फैलाकर शोरूम के अन्दर से अपने साथियों को निकालकर तुरन्त शहर छोड़ देते हैं।
  • गिरोह के कुछ सदस्यों के द्वारा 2-3 दिन पहले शोरूमों की रैकी की जाती है ।
  • चोरी के बाद माल लेकर गैंग दिल्ली जाते हैं जहां से इनका एक सदस्य माल लेकर नेपाल जाकर माल बेच देते हैं फिर रूपये आपस में बांट लेते हैं ।

पुलिस टीम:
बनभूलपुरा थानाध्यक्ष नीरज भाकुनी, व0उ0नि0 विजय मेहता, महेन्द्र प्रसाद, भोटिया पड़ाव चौकी प्रभारी प्रकाश पोखरियाल, एसओजी प्रभारी राजवीर सिंह नेगी, राजपुरा चौकी प्रभारी दिनेश जोशी, टीपीनगर चौकी प्रभारी संजीत राठौड़, मंगलपड़ाव चौकी प्रभारी जगदीप नेगी, हीरानगर चौकी प्रभारी धर्मेंद्र कुमार, उ0नि0 रविन्द्र राणा, उ0नि0 नीतू सिंह, मौ0 आकिल
अमनदीप, दिलशाद, अरूण राठौर, ललित श्रीवास्तव, त्रिलोक सिंह, कुन्दन कठायत, अशोक रावत, नसीम अहमद, बंशीधर जोशी, इसरार नवी, संजीत राणा, प्रकाश बड़ाल, संजीव राज, भगवान सैलाल, घनश्याम रौतेला, शेखर मल्होत्रा, प्रदीप थाना, दिनेश नगरकोटी, अनिल गिरी।

टीम पर मिला ईनाम
इधर डीआईजी डॉ0 नीलेश आनन्द भरण द्वारा पुलिस टीम के उत्साहवर्धन हेतु 40 हजार तथा एसएसपी पंकज भट्ट द्वारा 20 हजार रुपये नगद ईनाम देने की घोषणा की गयी है।

Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440