उत्तराखंड वन विकास निगम के अध्यक्ष कैलाश गहतोड़ी का निधन, सीएम धामी के लिए छोड़ी थी सीट

खबर शेयर करें

समाचार सच, देहरादून/काशीपुर। उत्तराखंड वन विकास निगम के अध्यक्ष कैलाश गहतोड़ी का निधन हो गया। वह लम्बे समय से अस्वस्थ चल रहे थे। इस बीच आज प्रातः मैक्स हॉस्पिटल देहरादून में स्वर्गवास हो गया है। उनके निधन की खबर से राजनैतिक जगत में शोक की लहर दौड़ गई। काशीपुर स्थित आवास में उनके पार्थिव शरीर को अंतिम दर्शन के लिए रखा गया। उनकी अंतिम यात्रा में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी, महाराष्ट्र के पूर्व राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी समेत विपक्ष के नेता शामिल हुए। कैलाश गहतोड़ी के घर पर शोक संवेदनाएं व्यक्त करने वालों की भीड़ लगी रही। वहीं कैलाश गहतोड़ी के पार्थिव शरीर को उनके बेटे शशांक गहतोड़ी ने मुखाग्नि दी।

यह भी पढ़ें -   23 जून 2024 सोमवार का पंचांग, जानिए राशिफल में आज का दिन कैसा रहेगा आपका…

सीएम पुष्कर सिंह के लिए अपनी विधायक की सीट छोड़ने वाले राज्य वन विकास निगम के अध्यक्ष कैलाश गहतोड़ी का निधन हो गया। कैलाश गहतोड़ी लंबे समय से बीमारी से जुझ रहे थे, उन्होंने दून अस्पताल में आज सुबह अंतिम सांस ली। सीएम पुष्कर सिंह धामी समेत भाजपा नेताओं ने कैलाश गहतोड़ी के निधन पर शोक व्यक्त किया है।
बता दें कि, कैलाश गहतोड़ी 2017 और 2022 में चंपावत से चुनाव जीते थे। इसके बाद 2022 में ही उन्होंने सीएम धामी के लिए अपनी सीट से इस्तीफा दिया था।

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र भट्ट कैलाश गहतोड़ी के पैतृक गांव पहुंचे और पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। इस दौरान उन्होंने कहा कि कैलाश गहतोड़ी हमारे दल के बहुत वरिष्ठ नेता थे, उनका बहुत बड़ा जनाधार था। उन्होंने कहा कि आज वह हमारे बीच नहीं रहे, लेकिन उनके विचार पार्टी कार्यकर्ताओं के लिए हमेशा मार्गदर्शन का काम करते रहेंगे। कैलाश गहतोड़ी ने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के लिए अपनी सीट छोड़ी थी, जिसे हमेशा याद किया जाएगा।

यह भी पढ़ें -   प्रमाण पत्र बनवाने पर जालसाजों से बचे, अपने क्षेत्र के रजिस्ट्रार से ही करें संपर्कः राधा रतूड़ी

जसपुर से कांग्रेस विधायक आदेश चौहान ने उनके निधन पर शोक संवेदनाएं व्यक्त करते हुए कहा कि वह एक सामाजिक और धार्मिक प्रवृत्ति के व्यक्ति थे. कैलाश गहतोड़ी ने कुंडेश्वरी रोड पर साईं मंदिर की भी स्थापना करवाई थी। उन्होंने कहा कि वह भारतीय जनता पार्टी के एक मजबूत स्तंभ थे. उन्होंने हमेशा ही अपने कर्तव्य का निर्वहन किया है।

Ad Ad Ad Ad Ad
Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440