वास्तु दोष: किचन में यदि भूलकर भी इनमें से कोई एक गलती की तो आपके ऊपर कर्ज बढ़ने लगता है

खबर शेयर करें

समाचार सच, अध्यात्म डेस्क। घर में वैसे तो हर जगह महत्वपूर्ण होती है लेकिन किचन खास जगह होती है। किचन का वास्तु के अनुसार होना जरूरी है और साथ ही कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी है। किचन में यदि भूलकर भी इनमें से कोई एक गलती की तो घर परिवार पर कर्ज बढ़ने लगता है और फिर जिंदगी कर्ज लेकर ही चलती रहती है। आओ जानते हैं कि वे कौनसी गलतियां हैं।

  1. किचन आग्नेय कोण में होना चाहिए और यदि ये अन्य किसी कोण में है तो गंभीर वास्तु दोष निर्मित होगा। जातक पर कर्ज बढ़ने लगता है। जिन घर में रसोई घर दक्षिण पूर्व यानी आग्नेय कोण में नहीं हो तब वास्तु दोष को दूर करने के लिए रसोई के उत्तर पूर्व यानी ईशान कोण में सिंदूरी गणेशजी की तस्वीर लगानी चाहिए।
  2. किचन यदि आग्नेय में है और उसका प्लेटफार्म का रंग यदि हरा है तो यह गंभीर वास्तु दोष माना जाएगा। प्लेटफार्म का का रंग नारंगी या पीला रखें। यदि यह किचन दक्षिण, नैऋत्य या पश्चिम में है तो किचन का रंग ऑफ व्हाइट रखें और किचन स्टैंड पीले रंग का रखें। यदि किचन ईशान या पूर्व दिशा में है तो किचन का स्टैंड हरे रंग का रखें। किचन में कभी भी ग्रेनाइट का फ्लोर या प्लेटफार्म नहीं बनवाना चाहिए और न ही मीरर जैसी कोई चीज होनी चाहिए, क्योंकि इससे विपरित प्रभाव पड़ता है और घर में कलह की स्थिति बढ़ती है।
  3. किचन की दीवार का रंग पीला, औरेंज, नारंगी रखें या ऑफ व्हाइट रखें। आग्नेय की दीवार पर नारंगी रंग कर सकते हैं। दक्षिण-पूर्वी कक्ष में पीले या नारंगी रंग का प्रयोग करना चाहिए। यदि लाल, नीला, हरा या सफेद रंग है तो यह गलती आपको कर्ज में डूबो देगी और अन्य तरह की परेशानी भी खड़ी करेगी। किचन में नीले या आसमानी रंग के प्रयोग से बचना चाहिए।
  4. किराने का सामान रसोई घर के वायव्य कोण में नहीं रखा है तो बरकत नहीं रहेगी। वायव्य कोण में अनाज भरकर रखने से मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं और घर में धन-धान्य की कभी कोई कमी नहीं रहती है।
  5. तवे या कढ़ाई को कभी भी उल्टा नहीं रखना चाहिए। तवा और कढ़ाई जहां खाना बनता है उसके दाएं तरफ रखें। कभी भी खाना बनने के उपरांत उसे खाली चूल्हे पर न रखें। जब सुबह खाना बनाने जाएं तो तवे को गरम करने के बाद रोज इस्तेमाल होने वाले नमक को तवे पर डालें परंतु इस बात का ध्यान रखें कि नमक में कोई भी अन्य पदार्थ ना मिला रहे यानी हल्दी या लाल मिर्च ना मिला हो। जब रात को खाना बना लें तो तवे को धो कर रखें। ऐसा नहीं करने से धन हानि होती है। शास्त्रों के अनुसार शाम को या रात में भोजन करने के बाद बर्तन बिना धोए सो जाते हैं तो दरिद्रता का वास होकर धन का नाश होता है। आर्थिक तंगी से पूरा घर परेशान रहता है। रसोई घर में टूटे फूटे बर्तन, अटाला या झाड़ू न रखें। भोजन करने के बाद थाली को कभी भी किचन स्टेन के ऊपर नहीं रखना चाहिए।
  6. किचन के नल से पानी का टपकना आर्थिक क्षति का संकेत है। घर में किसी भी बर्तन से पानी रिस रहा हो तो उसे भी ठीक करवाएं।
  7. किचन के सामने या पास में शौचालय या बाथरूम नहीं होना चाहिए।
  8. किचन कभी गंदा न रखें। चींटियों-कॉकरोचों, चुहे या अन्य प्रकार के कीड़े मकोड़े किचन में घुम रहे हैं तो सावधान हो जाइये, यह आपकी सेहत और बरकत को खा जाएंगे। किचन को साफ-सुथरा और सुंदर बनाकर रखें।
  9. रसोईघर में पानी और आग को कभी भी पास पास नहीं रखना चाहिए। किचन के दक्षिण में कभी भी कोई दरवाजा या खिड़की नहीं होने चाहिए। खिड़की पूर्व की ओर में ही रखें।
  10. किचन में प्लास्टिक के बर्तन या डिब्बे तो बिल्कुल भी नहीं होना यह आपके किचन ऊर्जा भी खराब करते हैं साथ ही इससे आपकी सेहत पर प्रतिकूल प्रभाव गिरता है।
Ad Ad Ad Ad Ad
Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440