जल में ये चीजें मिलाकर सूर्यदेव को अर्घ्य देने से पूरी होगी हर मनोकामना

खबर शेयर करें

समाचार सच, अध्यात्म डेस्क। ज्यादातर लोग सुबह पूजा पाठ करने के बाद सूर्य को अर्घ्य देते हैं। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सूर्य को जल अर्पित करते समय पात्र में कुछ चीजों को मिला दिया जाए तो सूर्य देव के आशीर्वाद से जीवन में कभी भी किसी चीज की कमी नहीं होती है।

हिंदू धर्म में सूर्य देव को सभी देवताओं में सर्वश्रेष्ठ माना जाता है। सनातन धर्म में सूर्य को अर्घ्य देने को परंपरा वैदिक काल से चली आ रही है। मान्यताओं के अनुसार प्रतिदिन सूर्य को अर्घ्य देने से रोगों का नाश होता है और स्वास्थ्य और सुख में वृद्धि होती है। यही कारण है कि ज्यादातर लोग सुबह पूजा पाठ करने के बाद सूर्य को अर्घ्य देते हैं। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सूर्य को जल अर्पित करते समय पात्र में कुछ चीजों को मिला दिया जाए तो सूर्य देव के आशीर्वाद से जीवन में कभी भी किसी चीज की कमी नहीं होती है। आइए जानते हैं कि सूर्यदेव को अर्घ्य देते समय जल में किन चीज़ों को मिलाने से इसका लाभ और बढ़ जाता है।

यह भी पढ़ें -   पुलिस के हत्थे चढ़ा 4 ग्राम स्मैक के साथ नशे का सौदागर

अक्षत
हिंदू धर्म में अक्षत को बहुत पवित्र माना गया है। देवी-देवता की पूजा और किसी भी शुभ काम में अक्षत का प्रयोग किया जाता है। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार जल में चावल डालकर सूर्य को अर्घ्य देना बहुत शुभ होता है। माना जाता है कि ऐसा करने से जीवन में सुख-शांति बनी रहती है।

पुष्प
हिंदू धर्म में देवी देवता की पूजा में पुष्प के प्रयोग का भी बहुत महत्व है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सूर्य देवता को जल अर्पित करते समय जल के पात्र में पुष्प होने चाहिए। ऐसा करने से सूर्य देवता के आशीर्वाद से आपकी सभी कार्य संपन्न होंगे।

यह भी पढ़ें -   घर के बाहर खड़ी बाईक पर चोरों ने किया हाथ साफ

रोली
ज्योतिषशास्त्र के अनुसार जल में रोली डालकर सूर्य को अर्घ्य देना चाहिए। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार ऐसा करने से सूर्य दोष दूर होता है और स्वास्थ्य बेहतर रहता है। माना जाता है कि रोली का लाल रंग हमें सूर्य की किरणों से जोड़ता है और इससे शरीर में रक्त संचार बढ़ता है।

हल्दी
हिंदू धर्म में हल्दी को बहुत शुभ माना जाता है। विवाह से पहले भी वर या कन्या को हल्दी लगाई जाती है। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार जल में हल्दी डालकर सूर्य को अर्घ्य देने से विवाह के योग बनते हैं।

मिश्री
भगवान के भोग में मिश्री का प्रयोग किया जाता है। माना जाता है प्रसाद में मिश्री चढ़ाने से भगवान प्रसन्न होते हैं। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार सूर्य को अर्घ्य देते समय जल में मिश्री डालकर जल चढ़ाना चाहिए। ऐसा करने से सूर्य देवता की कृपा बनी रहती है। (साभार- प्रिया मिश्रा)

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440

Leave a Reply

Your email address will not be published.