अधिकारियों की सद्बुद्धि को बुद्धि-शुद्धि यज्ञ, चिकित्सा स्वास्थ्य आयुष के कर्मियों ने दी आमरण अनशन की चेतावनी

Ad
खबर शेयर करें

समाचार सच, देहरादून। प्रदेश के चिकित्सा स्वास्थ्य आयुष के कर्मचारियों ने महानिदेशालय और आयुर्वेद विश्वविद्यालय के अधिकारियों की सद्बुद्धि के लिए बुद्धि-शुद्धि यज्ञ किया। इस दौरान कर्मियों ने मांगे पूरी ना होने पर आमरण अनशन की चेतावनी दी है।

चतुर्थ श्रेणी राज्य कर्मचारी संघ चिकित्सा स्वास्थ्य उत्तराखंड के पूर्व घोषित आंदोलन कार्यक्रम के तहत दूसरे चरण में प्रदेश के समस्त जिलों में महानिदेशालय और आयुर्वेद विश्वविद्यालय के अधिकारियों के लिए बुद्धि शुद्धि यज्ञ किया और ईश्वर से प्रार्थना की कि अधिकारियों को जल्द सद्बुद्धि आये। इस अवसर पर प्रदेश अध्यक्ष दिनेश लखेड़ा प्रदेश ने कहा कि महानिदेशालय और विश्वविद्यालय के अधिकारियों को सद्बुद्धि आये, इसके लिये यह बुद्धि-शुुद्धि यज्ञ किया गया हैं। उन्होंने कहा की अगर कर्मचारियों की मांगों का निस्तारण हो नहीं हुआ तो जल्द ही आमरण अनशन किया जाएगा।

यह भी पढ़ें -   सम्मानित व्यापारियों को 2021-22 का प्रमाण पत्र दे दिया तो वर्ष 2021 में चुनाव क्यों?

महामन्त्री सुनील अधिकारी ने कहा कि 24 और 25 अगस्त को जिलाधिकारी व नगर मजिस्ट्रेट के माध्यम से मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजा जाएगा। 26 अगस्त से कर्मचारी पूरे प्रदेश में क्रमिक अनशन पर होगा, यदि 10 दिवस में कार्यवाही नही होती तो प्रदेश पदाधिकारियों के साथ समस्त जनपदों के जिला अध्यक्ष मंत्री और कार्यकारणी बारी बारी से आमरण अनशन पर बैठ जाएंगे। जिसका सम्पूर्ण उत्तरदायित्व विभागाध्यक्ष का होगा।

यह भी पढ़ें -   मुख्यमंत्री का पीआरओ बनने पर दिनेश आर्या को दी बधाई

बुद्धि सुद्धि यज्ञ में शिवनारायण सिंह, दीपक धवन, जयनारायण सिंह, छत्रपाल सिंह, गुरुप्रसाद गोदियाल, मंगल लाल आर्य,चंद्रप्रकाश, त्रिभुवंन पाल, नेलसन अरोड़ा, सुनील अधिकारी, ताजबर सिंह, त्रिलोक, राकेश चंद्र, अजय कुमार, मूलचंद चौधरी, महेश कुमार, मुकेश, सुरेश चंद्र, दिनेश नोटियाल, राकेश भँवर, संदीप शर्मा, रामपाल, दिनेश लखेडा, अजय रानी, नीलम, मुन्नी देवी, सुदेश, सत्यवीर सिंह इत्यादि बुद्धि सुद्धि यज्ञ में शामिल रहे।

Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *