पर्वतीय क्षेत्रों में विपणन केंद्र खुलने से 590 किसानों को पहुंचा लाभ : गजराज बिष्ट

खबर शेयर करें

-शीघ्र ही जैविक मंडी के रूप में विकसित होगा हल्द्वानी

समाचार सच, हल्द्वानी। राज्य सरकार किसानों के हितों के लिये प्रयासरत हैं। पर्वतीय क्षेत्रों में विपणन केंद्र खुलने से पहाड़ी क्षेत्रों के 590 किसानों को लाभ पहंुच चुका हैं।

उक्त बात शुक्रवार को यहां नैनीताल मार्ग स्थित एक रेस्टोरेंट में मंडी परिषद के अध्यक्ष गजराज सिंह बिष्ट ने पत्रकारों से कहीं। उन्होंने बताया कि मंडी परिषद द्वारा पर्वतीय क्षेत्रों में पर्वतीय किसानों की आय दुगनी करने के लिये 35 विपणन केंद्र खेले गये हैं। जिससे पर्वतीय किसानों को सीधा लाभ मिल रहा है।

मंडी परिषद अध्यक्ष श्री बिष्ट ने परिषद के एक वर्ष के क्रियाकलापों के बारे में बताते हुए कहा कि वर्ष 2019 में मंडी परिषद द्वारा 123 सम्पर्क मार्ग, 92 हैंड पंप स्वीकृत किये गये हैं। प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष भी लोक पर्व हरेला में 7 जुलाई से 16 जुलाई तक मंडी परिषद् द्वारा आम, लीची आदि फलदार पौधे वितरित किये गये। इस कार्य को 17,37,482 रुपये का बजट खर्च किया गया। उन्होंने कहा कि परिषद इस वर्ष भी किसानों को 50 फीसदी की सब्सिडी में आलू व अदरक के बीज उपलब्ध करवायेंगी।

उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की पॉलीथीन मुक्त भारत की घोषणा को लेकर मंडी परिषद द्वारा सभी मंडियों में किसानों को जूट व कपड़े के बैग उपलब्ध करायें गये थे। उन्होंने बताया कि जैविक मंडी के रूप में हल्द्वानी को विकसित किया जायेगा और शीघ्र ही जैविक मंडी का शिलान्यास किया जायेगा।

वार्ता में मुख्य रूप से भाजपा मीडिया प्रभारी तरूण बंसल, सह मीडिया प्रभारी प्रकाश रावत, मण्डल अध्यक्ष नवीन पंत आदि कार्यकर्ता उपस्थित थे

Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440