एआईएमआईएम प्रत्याशी अब्दुल मतीन सिद्दीकी को महिलाओं ने दिया भरोसा, कहा-चुनाव चिन्ह पंतग पर दबायेंगे बटन

खबर शेयर करें

समाचार सच, हल्द्वानी। यहां बनभूलपुरा क्षेत्र में इरशाद मैरिज हाल में आयोजित महिलाओं की जनसभा में एआईएमआईएम के प्रत्याशी हाजी अब्दुल मतीन सिद्दीकी को मां और बहनों ने भरोसा देते हुए उन्हें भारी मतों से जीत दिलाने की बात कही। इस दौरान अब्दुल मतीन सिद्दीकी ने महिलाओं के सम्मान में जमीन पर बैठकर अपनी नीतियों से उन्हें अवगत कराया।

इस दौरान उनका कहना था कि भाजपा सरकार ने जनता को महंगाई के बोझ तले दबा दिया है। बेरोजगारी चरम पर है। स्वास्थ्य सेवाएं बदहाल स्थिति में पहुंच चुकी हैं। जिसका खामियाजा जनता को भुगतना पड़ रहा है। यही हाल पूर्ववर्ती कांग्रेस शासन में भी रहा। दोनों ही दलों ने बनभूलपुरा क्षेत्र की घोर उपेक्षा की है। उन्होंने कहा कि आज रसोई गैस के दाम आसमान छूने लगे हैं जिससे महिलाओं के घर का बजट बिगड़ गया हैं। इस दौरान उन्होंने उपस्थित मां और बहनों का आहवान करते हुए 14 फरवरी को अपना कीमती वोट पंतग वाले बटन को दबाकर उन्हें कामयाब बनाने की अपील की है।

यह भी पढ़ें -   योजनाओं के आमेलन में आ रही कमी को पूरा करने हेतु बनायी जायेगी कार्य योजना: संजय नेगी

इससे पूर्व उन्होंने हल्द्वानी विधानसभा क्षेत्र के कई जगहों पर जनसंपर्क किया। इस दौरान भाजपा व कांग्रेस सरकार की नाकामियों को जनता के बीच रखा। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड की जनता बारी-बारी भाजपा व कांग्रेस को सत्ता सौंपकर उनके कार्यकाल को देख चुकी है। इन सरकारों ने जनता के हितों की अनदेखी करने का ही काम किया है। उन्होंने कहा कि चुनाव जीतने पर बनभूलपुरा, इन्द्रानगर को मालिकाना हक दिलाना उनकी पहली प्राथमिकता में शामिल है। उन्होंने कहा कि किसी भी व्यक्ति को बेघर नहीं होने दिया जाएगा। उन्होंने क्षेत्र की समस्याओं के समाधान के लिए 14 फरवरी को अपने चुनाव निशान पतंग के सामने वाले बटन को दबाने की अपील की। जनसंपर्क में भारी संख्या में फईम रज़ा साहब, जावेद सिद्दिकी, अरशद अयूब, विक्की खान सहित भारी संख्या में समर्थक मौजूद रहे।

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440

Leave a Reply

Your email address will not be published.