आज के दिन ही पहली बार मनाया विश्व फार्मेसिस्ट दिवस: ऐरी

Ad
खबर शेयर करें

समाचार सच, हल्द्वानी। विश्व फार्मेसिस्ट दिवस पर कार्यक्रम का आयोजन कर मनाया गया। कार्यक्रम में मुख्य वक्ताओं के रूप में महिला चिकित्सालय की मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ0 उषा जंगपांगी, वरिष्ठ चिकित्साधिकारी डॉ0 एमसी जोशी, डॉ0 पवन द्विवेदी तथा डिप्लोमा फार्मेसिस्ट एसोसिएशन उत्तराखण्ड के प्रदेश महामंत्री आरएस ऐरी द्वारा विश्व फार्मेसिस्ट दिवस पर लोगों को जानकारियां दी गयी। इस अवसर पर बोलते हुए वरिष्ठ फार्मेसिस्ट ऐरी ने बताया कि आज से 13 वर्ष पूर्व 2009 में पहली बार विश्व फार्मेसिस्ट दिवस मनाया गया। उन्होंने यह भी बताया कि आज के दिन पूरे विश्व में फार्मेसी के जनक प्रो0 विलियम प्रॉक्टर तथा भारतीय फार्मेसी के जनक प्रो0 महादेव लाल पूरा फार्मेसी समाज विश्व फार्मेसी दिवस मना रहा है। इस दिवस को मनाने का मुख्य उद्देश्य दुनिया भर के फार्मेसिस्ट्स को सम्मान देने तथा उनके योगदानों के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए मनाया जाता है।

यह भी पढ़ें -   मुख्यमंत्री का पीआरओ बनने पर दिनेश आर्या को दी बधाई

इस अवसर पर उपस्थित डाक्टरों को कहना था फार्मेसिस्ट, डाक्टर और मरीज के बीच की प्रमुख कड़ी होता है। इसीलिए जहां एक ओर डॉक्टर को भगवान का स्वरूप दिया जाता है वहीं फार्मेसिस्ट को भगवान का दूत कहा गया है। विगत एक वर्ष से अधिक समय से फैली वैश्विक महामारी कोरोना से बचाव, रोकथाम एवं स्वास्थ्य सेवा में स्क्रीनिंग, टेस्टिंग, टीकाकरण अथवा सुपरविजन हर क्षेत्र में फार्मेसिस्टों द्वारा अपनी अग्रणी भूमिका को परिलक्षित किया है। कार्यक्रम में हल्द्वानी क्षेत्र तथा जनपद के अन्य स्थानों से आये हुए फार्मेसिस्टों के अलावा डिप्लोमा फार्मेसिस्ट एसोसिएशन के उत्तराखण्ड के महामंत्री आरएस ऐरी, प्रदेश कोषाध्यक्ष केआर आर्य, प्रदेश संगठन मंत्री जेसी पाठक, प्रभारी फार्मेसी पीके पंत, चीफ फार्मेसिस्ट एनके आजाद, एमएम जोशी, जेसी जोशी, श्रीमती बसंती तिरूवा, फार्मेसिस्ट श्रीमती आशा शर्मा, एमसी वर्मा, डीसी वर्मा, सुधीर वर्मा, कमल आर्या, विपिन डसीला, ज्योति जोशी व बबीता आदि ने प्रतिभाग किया।

Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *