उत्तराखंड राज्य में शिक्षा के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले 5 शिक्षकों को “स्पर्श गंगा शिक्षाश्री सम्मान” से किया सम्मानित

खबर शेयर करें

समाचार सच, हल्द्वानी। स्पर्श गंगा दिवस के अवसर पर हिमालयन एजुकेशन रिसर्च एंड डेवलपमेंट सोसाइटी (हर्ड्स) द्वारा शिक्षा के क्षेत्र में किये गये शैक्षिक नवाचार एवं पर्यावरण संरक्षण के लिए उत्तराखंड के 05 शिक्षकों को ‘स्पर्श गंगा शिक्षाश्री सम्मान’ से सम्मानित किया गया। ज्ञात हो यह संस्था हर वर्ष उत्तराखंड राज्य में शिक्षा के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले 05 शिक्षकों का चयन शिक्षक दिवस के अवसर पर करती है।

आज शनिवार को यहां राजकीय इंटर कॉलेज, कठघरिया, हल्द्वानी में आयोजित इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि इतिहासकार एवं पर्यावरणविद प्रो अजय रावत ने अपने सम्बोधन में प्रशंसा व्यक्त की कि स्पर्श गंगा दिवस का आयोजन ग्रामीण क्षेत्र में स्थित इंटर कॉलेज में किया गया जोकि इस अभियान की मूल आत्मा है क्योंकि हमारे गाँव ही स्पर्श गंगाओं के उद्गम स्थल हैं जिनको संरक्षित रखना गंगा के अस्तित्व को बचाये रखने की पहली शर्त है। इससे ना केवल गंगा की स्वच्छता और अविरलता बनी रहेगी वरन ग्रामीण एवं आत्मनिर्भर भारत का सपना भी साकार होगा। उन्हांेने इस अवसर पर प्रो अतुल जोशी की विमोचित पुस्तक भारतीय हिमालय जीवन और जीविका के सन्दर्भ में कहा कि यह पुस्तक शोधार्थियों एवं जिज्ञासुओं के लिए हिमालय के प्रति एक नयी दृष्टि पैदा करेगी तथा हिमालयी क्षेत्र की चिंता करने वाले लोगों के लिए नए हिमालय की जीवन और जीविका से जुड़े प्रश्नो के सम्बन्ध में एक नया आयाम प्रस्तुत करेगी। विशिष्ट अतिथि प्रांतीय व्यापार मंडल के अध्यक्ष श्री नवीन वर्मा तथा पर्यावरणविद डॉ एस डी तिवारी ने स्पर्श गंगा अभियान को गंगा के संरक्षण का प्रभावी अस्त्र बताते हुए इसे जन अभियान बनाने की आवश्यकता पर जोर दिया तथा सम्मानित शिक्षकों को इस अभियान का ब्रांड एम्बेसडर बताया।

चयन समिति की अनुशंसा पर इस वर्ष डॉ.नवीन चंद्र जोशी, (प्रधानाचार्य, महादेव गिरी संस्कृत महाविद्यालय, हल्द्वानी); डॉ. रेनू बिष्ट, (कार्यक्रम अधिकारी, रा0से0यो0 इकाई भारतीय शहीद सैनिक इन्टर कालेज, नैनीताल); श्री एल0एम0 पांडे, (जिला समन्वयक, रा0सेवा योजना, ननीताल); श्री पंकज बेलवाल, (प्रधानाचार्य, पूरन सिंह मोहन सिंह इन्टर कालेज, कुँवरपुर हल्द्वानी, नैनीताल); श्री राजीव निगम, ((जिला समन्वयक, रा0सेवा योजना, वागेश्वर) को स्पर्श गंगा दिवस के अवसर पर स्मृति चिन्ह एवं प्रशस्ति पत्र से सम्मानित किया गया। यह उल्लेखनीय है कि सम्मानित किये जा रहे सभी शिक्षकों को यह सम्मान शिक्षा के अपने मूल कार्यों के साथ-साथ सामजिक उत्तरदायित्वों के निर्वहन के लिए प्रदान किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें -   बदलते मौसम में कई तरह की स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याओं को दूर करने में अदरक और चुकंदर का जूस बेहद फायदेमंद

डॉ रेणु बिष्ट, प्रोग्राम ऑफिसर एनएसएस भारतीय शहीद सैनिक विद्यालय नैनीताल ने स्वच्छ भारत समर इंटर्नशिप ‘स्वच्छता के 50 घंटे’ 2019 के अंतर्गत जिला, राज्य एवं राष्ट्रीय स्तर पर प्रथम पुरस्कार, स्वच्छता पखवाड़ा 2019 के अंतर्गत जिला एवं राज्य स्तर पर प्रथम पुरस्कार प्राप्त किया है। इन्होने वर्ष 2020 में नेशनल इंटिग्रेशन कैंप में उत्तराखंड राज्य का प्रतिनिधित्व किया।

डा नवीन चन्द्र जोशी, प्राचार्य श्रीमहादेव गिरि संस्कृत महाविद्यालय देवलचौड हल्द्वानी नैनीताल उत्तराखंड प्रत्येक वर्ष वृक्षारोपण, एड्स, पर्यावरण संरक्षण, एडल्ट लिट्रेसी, जल शक्ति अभियान, वन महत्व सप्ताह, स्वास्थ्य शिविर, ब्लड डोनेशन कैंप, सफाई अभियान, बालिका शिक्षा प्रोत्साहन कार्यक्रम, 7 दिवसीय शिविर, 1 दिवसीय शिविर और वॉल पेंटिंग्स आदि का सफल आयोजन करते रहे हैं। २००७ से एन एस एस के माध्यम से वृक्षारोपण पर वृहद कार्यक्रम आयोजित किया गया। प्रति वर्ष श्राद्ध पक्ष में पितरों की स्मृति में जंगलों में फलदार पौधो का रोपण किया जाता है। इन्हे राज्यपाल पुरस्कार व उत्तराखंड संस्कृत विश्वविद्यालय द्वारा स्वर्ण पदक सम्मान सहित दर्जनों सम्मान प्राप्त हुए हैं ।

राजीव निगम, प्रवक्ता, राजकीय इंटर कॉलेज, काफलीगैर, बागेश्वर और जिला समन्वयक, रा0सेवा योजना, बागेश्वर विगत कई वर्षों से स्पर्श गंगा अभियान के तहत बागेश्वर में संगम स्थल पर समय समय पर स्वच्छता अभियान एवं पर्यावरण संरक्षण के लिए कार्यशालाओं, रक्तदान शिविर आदि का आयोजन एवं संपादन करते रहे हैं ।
श्री एल0एम0 पांडे, प्रवक्ता, राजकीय इंटर कॉलेज, कठघरिया, हल्द्वानी एवं जिला समन्वयक, रा0सेवा योजना, नैनीताल द्वारा राष्ट्रीय सेवा योजना काय माध्यम से वर्ष कठगरिया 2004 से सामाजिक और पर्यावरण संरक्षण सम्बन्धी कार्यों में सक्रिय भूमिका का निर्वहन कर रहे हैं। इन्हें स्वीप टीम में जनपदीय सह प्रभारी के रूप में मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिए जिलाधिकारी द्वारा सम्मानित भी किया जा चुका है।

पूरन सिंह मोहन सिंह इन्टर कालेज, कुँवरपुर हल्द्वानी के प्रधानाचार्य पंकज बेलवाल द्वारा 21 स्वैछिक रक्तदान शिविरों का आयोजन तथा आपात स्थिति में रक्तदान के लिए अपने विद्यालय के सेवित क्षेत्र के 500 युवाओं के एक समूह का निर्माण किया है। इन्होने अपने प्रयासों से अपने विद्यालय में निशुल्क पुस्तकालय की स्थापना की है साथ ही अपने विद्यालय में निर्धन और मेधावी छात्रों को छात्रवृत्ति प्रदान कर रहें हैं।

यह भी पढ़ें -   २७ फरवरी २०२४ मंगलवार का पंचांग, जानिए राशिफल में आज का दिन कैसा रहेगा आपका …

स्पर्श गंगा अभियान के राष्ट्रीय समन्वयक प्रो० अतुल जोशी ने सभी शिक्षकों की प्रतिबद्धता, समर्पण और उत्कृष्ट योगदान के प्रति अपना आभार व्यक्त करते हुए कहा कि आप सभी शिक्षकों के साथ जुड़कर मुझे बहुत प्रसन्नता हो रही है। उन्होंने बताया कि पूर्व केंद्रीय शिक्षा मंत्री एवं स्पर्श गंगा अभियान के प्रणेता डॉ० रमेश पोखरियाल निशंक की प्रेरणा से प्रति वर्ष हर्ड्स संस्था द्वारा शैक्षणिक माहौल बनाने और बहुआयामी कार्य से शैक्षणिक एवं सामाजिक गतिविधियों को बढ़ावा देने समेत कई प्रतिभा को देखते हुए इन शिक्षकों का चयन किया जाता है। उन्होंने कहा कि सम्मान समारोह के अवसर पर आयोजित निबंध एवं पोस्टर प्रतियोगिता में प्रतिभाग से विद्यालयी छात्रों को पर्यावरण संरक्षण के प्रति अपनी जिम्मेदारी एवं दायित्वों का बोध होगा और आने वाले समय में वह पर्यावरण प्रहरी के रूप में समाज की सेवा कर सकेंगे।
इस अवसर पर कार्यक्रम के अध्यक्ष श्री रमेश चन्द्र तिवारी प्रधानाचार्य, राजकीय इंटर कॉलेज, कठघरिया, हल्द्वानी ने कहा कि यह हमारी संस्था के लिए गर्व का विषय है कि समाज में अपने कार्यों से एवं शिक्षा व्यवस्था में उल्लेखनीय योगदान देने वाले प्रेरणाप्रद शिक्षकों को सम्मानित करने के लिए हमारे विद्यालय का चयन किया गया तथा उन्होंने विद्यालय को एयर प्यूरीफायर भेंट करने के लिए स्पर्श गंगा अभियान का आभार व्यक्त किया।

इस अवसर पर हल्द्वानी क्षेत्र के विद्यालयों से आए छात्र -छात्राओं ने पोस्टर, एवं निबंध प्रतियोगिता में प्रतिभाग किया। ‘माँ गंगा भारत का आभूषण’ शीर्षक पर आयोजित पोस्टर प्रतियोगिता में सार्थक कुमार मोतीनगर प्रथम, वैष्णवी जोशी लामाचौड़ द्वितीय और हर्ष सिंह ईसाई नगर ने तृतीय स्थान प्राप्त किया जबकि ‘स्पर्श गंगाओं के संरक्षण में ही माँ गंगा का अस्तित्व निहित है’ शीर्षक पर आयोजित निबंध लेखन प्रतियोगिता में प्रियंका कांडपाल धौलाखेड़ा प्रथम, पूजा कबड़वाल लामाचौड़ द्वितीय और राहुल कश्यप देवलचौड़ तृतीय स्थान पर रहे। जिन्हे हिमालयन एजुकेशन रिसर्च डेवलपमेंट सोसाइटी द्वारा पुरस्कार ओर प्रमाणपत्र दिये गये।
कार्यक्रम का संचालन जोगा गिरी गोस्वामी तथा कार्यक्रम अधिकारी रा0सेवा योजना ने धन्यवाद ज्ञापन किया इस अवसर पर छात्र छात्राओं ने सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किये। इस अवसर पर प्रो सी एस जोशी, डॉ चारु तिवारी, डॉ० विनोद जोशी, डॉ० जीवन चंद्र उपाध्याय, डॉ० मनोज पांडेय सहित विद्यालय के समस्त शिक्षक एवं अन्य अतिथि उपस्थित रहे।

Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440