तीन मंजिला मकान में लगी भीषण आग, अंदर सोये परिवार ने किसी तरह बचाई अपनी जान

खबर शेयर करें

समाचार सच, देहरादून। चकराता में भीषण अग्निकांड हो गया। परिवार के सोने के दौरान घर में आग धधक गई। लपटें और धुआं उठने पर परिवार की नींद खुली और किसी तरह बाहर निकल कर अपनी जान बचाई।

जानकारी के अनुसार चकराता तहसील के म्यूँढा गांव निवासी टीकम सिंह चौहान के देवदार की लकड़ी से बने तीन मंजिला मकान में भीषण आग लग गई। पीड़ित भवन स्वामी टीकम सिंह चौहान ने बताया है कि घटना के समय उनकी मां मकान के आखिरी कमरे में सो रही थी, आग की लपटों से निकल रहें धुआं और दुर्गंध आने से अचानक से उनकी आंख खुली तो आग की लपटे देखकर दंग रह गई।

यह भी पढ़ें -   उत्तराखंड में 11 बजे तक कुल 24.83 फीसदी मतदान हुआ है, हरिद्वार और नैनीताल-उधमसिंह नगर हैं अव्वल

उन्होंने बताया कि बाहर निकलने के लिए मकान की दोनों साइड पर दरवाजे बने होने से मां दूसरे रास्ते से बाहर निकल गई। पास के दूसरे मकान में परिवार के अन्य सदस्य सो रहे थे। मां ने शोर मचाकर सभी को जगाया। लेकिन तब तक आग ने मकान को अपने आगोश में ले लिया था। परिवार के सदस्यों सहित सभी ग्रामीणों ने पानी की बाल्टी से आग पर काबू करने की कोशिश की गई।

यह भी पढ़ें -   नैनीताल की 6 विस में 9 बजे तक 10.5 प्रतिशत मतदान, लालकुआं विस क्षेत्र में दूल्हा दुल्हन पहुंचे मतदान स्थल

गनीमत रही की आसपास के मकान तक पहुंचने से पहले ग्रामीणों के सहयोग से आग पर काबू पा लिया गया। सूचना के आधार पर मौके पर पहुंचे राजस्व उपनिरीक्षक जयालाल शर्मा ने बताया कि प्रथम दृष्टया मकान में आग लगने का कारण बिजली की तार में शॉट सर्किट है। मामले की जांच की जा रही है। पीड़ित परिवार की लिखित तहदीर आने पर नुकसान का आंकलन कर रिपोर्ट उच्च अधिकारीयों को प्रेषित की जाएगी।

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440