ashwin month

आश्विन मास प्रारंभ: 11 सितंबर से प्रारम्भ अश्विन मास, जानें कब है दशहरा, जीवितपुत्रिका व्रत, शरद पूर्णिमा…

खबर शेयर करें

समाचार सच, अध्यात्म डेस्क। हिंदू कैलेंडर का नया माह आश्विन का प्रारंभ 11 सितंबर दिन रविवार से हो रहा है। यह माह धार्मिक दृष्टि से बहुत ही महत्वपूर्ण है क्योंकि इस माह में पितृ पक्ष पितरों की पूजा के लिए समर्पित होता है। उसके बाद देवी मां दुर्गा की आराधना को समर्पित शारदीय नवरात्रि का प्रारंभ शुरु हो जाता है। इस माह का 15 दिन पितरों के लिए के लिए होता है। इस माह में शरद पूर्णिमा, जीवित्पुत्रिका व्रत, विश्वकर्मा पूजा, ललिता पंचमी, कोजागर पूर्णिमा, एकादशी, प्रदोष और मासिक शिवरात्रि जैसे व्रत और त्योहार हैं। तिरुपति के ज्योतिषाचार्य डॉ. कृष्ण कृमार भार्गव से जानते हैं कि ये व्रत और त्योहार कब और किस दिन होने वाले हैं।

आश्विन माह 2022 व्रत और त्योहार
11 सितंबरः रविवार, आश्विन माह प्रारंभ, कृष्ण पक्ष प्रतिपदा
13 सितंबरः मंगलवार, विघ्नराज संकष्टी चतुर्थी व्रत
17 सितंबरः शनिवार, कन्या संक्रांति, विश्वकर्मा पूजा, महालक्ष्मी व्रत
18 सितंबरः रविवार, जीवितपुत्रिका व्रत
21 सितंबरः बुधवार, इंदिरा एकादशी व्रत
23 सितंबरः शुक्रवार, शुक्र प्रदोष व्रत
24 सितंबरः शनिवार, आश्विन शिवरात्रि
25 सितंबरः रविवार, सर्व पितृ अमावस्या, अश्विन अमावस्या, महालया, पितृपक्ष समापन
26 सितंबरः सोमवार, महाराजा अग्रसेन जयंती, शारदीय नवरात्रि शुरु, कलश स्थापना, मां शैलपुत्री की
29 सितंबरः गुरुवार, विनायक चतुर्थी व्रत
30 सितंबरः शुक्रवार, ललिता पंचमी व्रत
03 अक्टूबरः सोमवार, महाष्टमी पूजा, दुर्गा अष्टमी, कन्या पूजन
04 अक्टूबरः मंगलवार, नवरात्रि पारण, दुर्गा नवमी
05 अक्टूबरः बुधवार, दशहरा, विजयादशमी, दुर्गा प्रतिमा विसर्जन, रावण पुतला दहन
06 अक्टूबरः गुरुवार, पापांकुशा एकादशी व्रत
07 अक्टूबरः शुक्रवार, प्रदोष व्रत
09 अक्टूबरः रविवार, कोजागर पूर्णिमा व्रत, आश्विन पूर्णिमा व्रत, शरद पूर्णिमा

यह भी पढ़ें -   सनकी रिश्तेदार ने 2 साल के मासूम बच्चे की गला काटकर की हत्या

शारदीय नवरात्रि का वर्षभर रहता है इंतजार
आश्विन माह की नवरात्रि का पूरे वर्ष भर लोगों की प्रतीक्षा रहती है क्योंकि इस नवरात्रि में बंगाल का प्रसिद्ध दुर्गा पूजा लोगों के आकर्षण का केंद्र होती है। होगा भी क्यों नहीं, क्योंकि यह पंश्चिम बंगाल राज्य का सबसे बड़ा उत्सव होता है।

यह भी पढ़ें -   सर्दियों में चेहरे में हो रही ड्राइनेस से कैसे बचें आइए जानते हैं

इसके अलावा गुजरात में गरबा का आयोजन होता है तो देश के अन्य हिस्सों में दशहरा पर रावण और कुंभकर्ण के पुतलों का दहन किया जाता है। देशभर में रामलीलाओं का मंचन होता है। शारदीय नवरात्रि दुर्गा पूजा के अलावा अपने आप में कई उत्सवों को समेटे हुए आती है।

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440

Leave a Reply

Your email address will not be published.