बाबा तरसेम सिंह हत्याकांडः हत्यारों की मदद करने वाले 4 गिरफ्तार

खबर शेयर करें

समाचार सच, नानकमत्ता। बाबा तरसेम सिंह हत्याकांड में पुलिस ने बड़ा दावा किया है। हत्याकांड में सहायता करने वाले चार आरोपियों को दो कारों के साथ गिरफ्तार किया है। आरोपियों के खिलाफ विभिन्न राज्यों में दर्जनों मुकदमे दर्ज हैं। दोनों फरार शूटरों पर ईनाम राशि 25 हजार से बढ़ाकर 50 हजार कर दी गई है। पुलिस के अनुसार गिरफ्तार लोगों ने शूटरों को सुपारी के साथ अन्य सुविधाएं उपलब्ध कराई थी। Baba Tarsem Singh murder case

गौरतलब है कि नानकमत्ता गुरुद्वारे के डेरा कार सेवा के प्रमुख बाबा तरसेम सिंह की 28 मार्च को रायफल से डेरे के अंदर ही गोली मार कर हत्या कर दी थी। जिसमें सीसीटीवी फुटेज के आधार पर पंजाब निवासी सर्वजीत सिंह और अमर जीत सिंह रायफल से हत्या करते दिखाई दिए थे। जिस पर एसएसपी डॉ मंजूनाथ टीसी ने दोनो बदमाशों की धरपकड़ को 11 टीमों का गठन किया था। पुलिस ने सर्विलांस की मदद से दोनो शूटरों की मदद करने वालो के नज़दीक पहुच गयी।

यह भी पढ़ें -   उत्तराखंड में 11 बजे तक कुल 24.83 फीसदी मतदान हुआ है, हरिद्वार और नैनीताल-उधमसिंह नगर हैं अव्वल

एसएसपी के अनुसार ग्राम कबीरपुर थाना निगोही जिला शाहजहांपुर के रहने वाले दिलबाग सिंह पुत्र लक्ष्मण सिंह, थाना तिलहर निवासी हरमिंदर सिंह पुत्र मलकीत सिंह, बलकार सिंह पुत्र दर्शदा निवासी थाना करेली जिला पीलीभीत ने डेरे में वर्चस्व के लिए बाबा तरसेम सिंह के हत्या कराई थी। पुलिस के अनुसार इन लोगों ने दोनों शूटर सर्वजीत सिंह और अमरजीत सिंह को बाबा तरसेम सिंह की हत्या करने के लिए 10 लाख रुपए में हायर किया था। जिसमें से एडवांस में इन्होंने 160000 रुपए दोनों शूटरों को दे दिए थे बाबा तरसेम सिंह की हत्या करने के बाद दोनों बदमाश दिलबाग सिंह के पास पहुचे जहां से इन लोगो ने बदमाशों को बकाया पांच लाख रुपए दे दिए और फरार करने में बदमाशों की पूरी मदद की।

पुलिस के अनुसार डेरे के ही अमनदीप सिंह उर्फ काला निवासी बराजगत थाना अमरिया जिला पीलीभीत ने दोनों शूटरों को बाबा तरसेम सिंह की लोकेशन की जानकारी दी और दोनो बदमाशों ने दिनदहाड़े घटना को अंजाम दिया और फरार हो गए। पुलिस के अनुसार दोनो बदमाश 19 मार्च को नानकमत्ता आ गए थे और गुरुद्वारे की सराय में कमरा नम्बर 23 में में रह रहे थे और बाबा तरसेम सिंह के बारे में जानकारी एकत्र कर रहे थे मदद करने वाले दिलबाग सिंह, हरविंदर सिंह, बलकार सिंह के खिलाफ कई संगीन धाराओं में मुकदमे दर्ज हैं। एसएसपी डॉ मंजूनाथ ने कहा पुलिस अब भी अन्य पहलुओं पर भी जांच में लगी हुई है और फरार बदमाशों की जल्द गिरफ्तारी की जाएगी पुलिस ने इस मामले में प्रयोग की गई दो स्विफ्ट कार यूके 06 वाई 1476 औऱ यूपी 27 बीके 9099 और दो मोबाइल बरामद की हैं।

सबसे पहले ख़बरें पाने के लिए -

👉 हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ें

👉 फेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज़ लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल सबस्क्राइब करें

हमसे संपर्क करने/विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें - +91 70170 85440