डॉ0 अजयपाल के राजनीति में आने से मची बड़ी हलचल

समाचार सच, हल्द्वानी (रिम्पी बिष्ट)। समाचार सच प्रतिनिधि रिम्पी बिष्ट ने उत्तराखण्ड के सुप्रसिद्ध हॉस्पिटल बृजलाल के डायरेक्टर डॉ0 अजय पाल से देहरादून में पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत व बड़े दिग्गज कांग्रेसियों की उपस्थिति में हजारो समर्थकों के साथ कांग्रेस…

मुनस्यारी से लेकर चकराता तक महिलाओं की आवाज बनी अमिता

आंसू बहाकर नहीं वरन अपने आप को पहचानने से होगा महिला सशक्तिकरण समाचार सच, हल्द्वानी। राज्य महिला आयोग की पूर्व उपाध्यक्ष अमिता लोहनी का कहना है कि महिलाओं को अपने अधिकारों के लिए स्वंय लड़ना होगा। अगर महिलाओं को कानून…

माटी की सेवा में सक्रिय तितियाल बंधु

समाचार सच, हल्द्वानी। उत्तराखण्ड के पहाड़ों से पलायन कर चुके लोगों के लिए डॉ0 गोविंद सिंह तितियाल एक प्रेरणास्रोत हो सकते है। भले ही नौकरी व जीविकापार्जन के लिए वे अपनी माटी से बाहर बस गये हों लेकिन आज भी…

विकास की किरण को घर – घर पहुंचायेंगी ब्लॉक प्रमुख कमलेश

ओखलकांडा ब्लॉक को आदर्श व राज्य के नक्शे पर चमकाना चाहती हैं कैड़ा समाचार सच, हल्द्वानी। उत्तराखण्ड की सियासत में कुछ ऐसी महिलाएं हुई हैं, जिन्होंने राजनीति की एबीसीडी घर पर ही सीखी है, या यों कहें कि उनको राजनीति…

बचपन से ही सियासी माहौल मेें पली-बढ़ी हैं जिला पंचायत अध्यक्ष बेला

-शिक्षा की किरण को घर – घर तक पहुंचाने का संकल्प-जिला पंचायत को आदर्श व आय बढ़ाने पर फोकस समाचार सच, हल्द्वानी। उत्तराखण्ड की राजनीति में महिलाओं के योगदान को नकारा नहीं जा सकता। राज्य निर्माण के दौरान जहां महिलाओं…

व्यास के रूप में बुलदियां छूना चाहते हैं कपिल देव

आस्था व संस्कारों से माटी का नाम रोशन करेंगे कपिल देवभूमि से विभूषित उत्तराखण्ड में अनेक मनीषी हुए हैं, जिन्होंने अन्तर्राष्ट्रीय जगत में राज्य को नई पहचान दिलायी है। इनमें से कुछ संघर्षरत चेहरे ऐसे भी हैं, जो अपनी काबिलियत…

तुमर ख्वर… ज्यादातर पहाड़ी बॉर्न कॉमेडियन होते हैं।

-तुमर ख्वर, सडिया समय आ साल, दम कसम हैं इनके फेमस कुमाऊँनी डायलॉग -माताजी के एक गाने को भी किया है 1000 से भी ज्यादा लोगों ने शेयर -शुरू-शुरू में लोग देखते नहीं थे वीडियो समाचार सच, हल्द्वानी। आज “एक…

एक बार मैंने सोचा कि गायकी छोड़ दूँ लेकिन फिर कुछ ऐसा हुआ…

-“चाँदी बटना दाज्यू कुर्ती कॉलर मा, मेरी मधुली जै रे ब्यूटी पार्लर मा।” गाने ने मचाई थी धूम… -सूपा भरी धाना, झुमक्याली, जलेबी को डाब, घाम छाया ले, साली लसपाली, भारत को मुकुट हिमालय प्रसिद्ध गीत -दो-तीन साल टेलर का…

लुप्त होते लोकगीतों को बचा रहा उत्तराखंड का एक इंजीनियर

-डॉक्टर शेर सिंह पांगती के गानों से की शुरुवात। -पप्पू कार्की को दिया था मौका। -पप्पू कार्की द्वारा गाया “झम्म लागै छी” हुआ था सबसे पहले वायरल। -रम्पाट, सुन ले दगड़िया, डीडीहाट की छमना छोरी, हीरा समधणी, लाली हो लाली…